NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मॉनसून सत्रः सदन के पांचवे दिन की कार्यवाही हंगामे से हुई शुरू और स्थगित भी

12:15 बजे तक के लिए सदन की कार्यवाही स्थगित

331
mbbs_add

Ranchi: झारखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र के पांचवे दिन भी सदन की कार्यवाही हंगामे से शुरू हुई. सदन की कार्यवाही ठीक है 11:06 बजे शुरू हुई. सबसे पहले सत्ता पक्ष के मुख्य सचेतक राधाकृष्ण किशोर ने खड़े होकर राजमहल विधायक अनंत ओझा को फोन पर मिल रही धमकियों के बारे में कहा राधा कृष्ण किशोर ने कहा कि अनंत ओझा को फोन पर गंदी-गंदी गालियां दी जा रही है. जान से मारने की धमकी दी जा रही है. सरकार इसे संज्ञान में लें और अनंत ओझा की सुरक्षा बढ़ाएं.

इसे भी पढ़ेंःजेबीवीएनएल फाइनांस कंट्रोलर उमेश कुमार को डीमोट करने का आदेश

हेमंत सोरेन ने ली चुटकी

बीजेपी विधायक को मिल रही धमकी पर हेमंत सोरेन ने चुटकी लेते हुए कहा कि बड़े शर्म की बात है कि सरकार के एक विधायक को फोन पर धमकी मिल रही है और सरकार कुछ नहीं कर पा रही है. जब सरकार के विधायक का यह हाल है तो बाकियों का क्या होगा. हेमंत ने कहा कि जब पंचायत स्तर पर मुखिया को सरकार सुरक्षा दे सकती है, बॉडीगार्ड दे सकती है तो फिर अनंत ओझा जैसे विधायक को सरकार बॉडीगार्ड क्यों नहीं दे सकती. प्रदीप यादव ने भी हेमंत सोरेन की हां में हां मिलाते हुए कहा कि सरकार के लिए परीक्षण के पास है.

प्रदीप यादव ने लाया कार्यस्थगन का प्रस्ताव

प्रस्ताव में उन्होंने कहा कि विधायकों की खरीद-फरोख्त की जांच सीबीआई के द्वारा की जाए उन्होंने कहा कि यह मामला चुनाव आयोग के पास भी है विधानसभा परिषद में चल रही सुनवाई कर रहे कोर्ट के पास भी मामला है इसलिए सीबीआई को मामले की जांच का जिम्मा सौंप देना चाहिए.

Hair_club

एक तरफ जहां सदन की कार्यवाही में गहमागहमी दिखी तो वहीं दूसरी तरफ मजाक का माहौल भी देखने को मिला. सीपी सिंह और विरंची नारायण ने प्रदीप यादव के कार्य स्थगन प्रस्ताव के बाद काफी जोर शोर से अपनी बात रखी. विरंची नारायण ने सदन में कहा कि साबित करें कि मैंने एक करोड़ रुपए मंत्री अमर बाउरी को दिये हैं. इस पर सीपी सिंह ने भी खड़े होकर कहा कि बाबूलाल मरांडी, जो झारखंड के पहले मुख्यमंत्री थे उन्हें ऐसा नहीं कहना चाहिए था. ऐसा करके उन्होंने अपनी छवि धूमिल की है. साथ ही मजाक में उन्होंने यह भी कहा कि हमारी औकात सिर्फ दो करोड़ की है. सीपी सिंह ने सदन में यह कहा कि बाबूलाल मरांडी जेल जाएंगे आप देख लीजिएगा कि रांची के होटवार जेल बाबूलाल मरांडी को हम लोग भेजते रहेंगे.

इसे भी पढ़ेंःमोदी सरकार का फ्लोर टेस्टः बीजेडी का सदन से वॉकआउट, वोटिंग में शामिल नहीं होगी शिवसेना

बुजुर्ग नेता बोलने पर भड़के सीपी सिंह


विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले पर विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने कहा कि मामला भी न्यायाधिकरण में .है इसलिए इस पर सदन में बहस नहीं हो सकती. इस पर हेमंत सोरेन ने कहा कि आखिर जिस न्यायालय में इस मामले की सुनवाई चल रही है और न्यायालय कितनी तारीख देगी, हर सुनवाई में बस तारीख ही मिलती आ रही है और सरकार के 4 साल निकल गए.
वही हेमंत सोरेन ने शुक्रवार के सभी अखबारों का हवाला देते हुए कहा कि मंत्री सीपी सिंह ने कई विधायकों को देशद्रोही कहा है. हेमंत सोरेन ने कहा कि उन्हें ऐसा नहीं कहना चाहिए, उन्हें अपनी कद का ख्याल रखना रखना चाहिए और एक बुजुर्ग नेता होने के नाते उन्हें अपनी मर्यादा में रहना चाहिए. बुजुर्ग शब्द सुनते ही सिंह अपनी कुर्सी पर खड़े हुए और उन्होंने कहा कि वह उन्हें गाली दे रहे हैं. एक जवान आदमी को बुजुर्ग बोलना गाली है. वही फिर से भूमि अधिकरण बिल को लेकर विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया. हंगामें को देखते हुए 11:26 बजे स्पीकर ने सदन की कार्यवाही 12:15 बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

विस के बाहर पक्ष-विपक्ष का प्रदर्शन

सदन के बाहर सत्ता पक्ष का प्रदर्शन

वही सदन की कार्यवाही शुरु होने से पहले विपक्ष के साथ-साथ सत्ता पक्ष के विधायक भी विस के बाहर हाथों में तख्तियां लिए विरोध जताते दिखे. सत्ता पक्ष के विधायकों ने गरीब आदिवासियों के धर्म परिवर्तन कराये जाने का विरोध किया. इधर विपक्ष के विधायक भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक, विधायकों के खरीद-फरोख्त जैसे मसलों को लेकर हाथों में तख्तियां लिए विरोध जताते नजर आये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

nilaai_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

bablu_singh

Comments are closed.