न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मॉनसून का कहर, सात राज्यों में बाढ़ और बारिश से 774 लोगों की मौत

गृह मंत्रालय के अनुसार इस साल मॉनसून में अब तक सात राज्यों में बाढ़ और बारिश के कारण अब तक 774 लोगों की मौत हो गयी है.

344

NewDelhi : गृह मंत्रालय के अनुसार इस साल मॉनसून में अब तक सात राज्यों में बाढ़ और बारिश के कारण अब तक 774 लोगों की मौत हो गयी है. मौसम विभाग ने यूपी, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, असम, नगालैंड और अरुणाचल प्रदेश सहित 16 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. बता दें कि भारी बारिश और बाढ़ से देश के कई राज्यों में हालात बेकाबू हो रहे हैं. खास कर केरल, हिमाचल और उत्तराखंड में में भारी संकट है. गृह मंत्रालय के नेशनल इमर्जेंसी रिस्पॉन्स सेंटर (एनईआरसी) की रिपोर्ट के अनुसार बाढ़ और बारिश के कारण केरल में 187, यूपी में 171, महाराष्ट्र में 139 व पश्चिम बंगाल में 170 लोगों की मौत हुई है. इसके अलावा गुजरात में 52, असम में 45 और नगालैंड में आठ  लेाग मारे गये हैं. केरल में 22 और पश्चिम बंगाल में पांच लोग लापता बताये गये हैं.

इसे भी पढ़ेंःलोकसभा के पूर्व स्पीकर सोमनाथ चटर्जी का 89 साल की उम्र में निधन

असम में एनडीआरएफ की 15, यूपी और पश्चिम बंगाल में आठ-आठ टीम तैनात

बारिश और बाढ़ के कारण पश्चिम बंगाल के 22, केरल के 14, महाराष्ट्र के 26, असम के 23, यूपी के 12, नगालैंड के 11 और गुजरात के 10 जिले सर्वाधिक प्रभावित हैं. खबरों के अनुसार असम में एनडीआरएफ की 15, यूपी और पश्चिम बंगाल में आठ-आठ, गुजरात में सात, केरल  और महाराष्ट्र में चार-चार और नगालैंड में एक टीम तैनात की गयी है. केरल में बाढ़ की वजह से राज्य में मृतकों की संख्या अब 39 पहुंच गयी है.  बाढ़ के कारण केरल में आठ हजार करोड़ से ज्यादा का नुकसान हुआ है.

इसे भी पढ़ेंःकांग्रेस ने सपा-बसपा चेताया, कमतर नहीं आंकें, साथ नहीं रखा तो होगा भाजपा को फायदा 

रविवार को राजनाथ सिंह ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया

रविवार को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया. गृहमंत्री ने कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में केरल में इस तरह की बाढ़ कभी नहीं आयी. है. सीएम पी विजयन के अनुसार 8316 करोड़ की संपत्ति का नुकसान हुआ है, जबकि 10 हजार किमी से ज्यादा सड़कें बर्बाद हो गयी हैं. रविवार को तेज बारिश शुरू होने के बाद निचले इलाके में रहने वाले लोगों को फिर ऊपरी इलाकों में आने को कहा गया है. वायनाड में एक घर गिरने से 58 साल की महिला की मौत हो गयी. वहीं, छह लोग लापता हैं. वायनाड के कलेक्टर एपी अजय कुमार ने सोमवार को सभी स्कूल कॉलेजों में छुट्टी की घोषणा की है. पोथुंडी डैम के सभी तीन गेट खोल दिये गये हैं.

इसे भी पढ़ेंःमुजफ्फरपुर के गरीबनाथ मंदिर में जलाभिषेक के दौैरान भगदड़, 15 से ज्यादा जख्मी

 हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश से हालात बिगड़े

हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश से हालात बिगड़ गये हैं. हिमाचल की राजधानी शिमला में भारी बारिश हो रही है. वहीं, मंडी में भी बारिश और भूस्खलन की घटनाएं सामने आयी हैं. बारिश और लैंडस्लाइड के कारण प्रशासन ने शिमला और मंडी के सभी सरकारी और निजी स्कूल बंद करने का ऐलान किया है. सोलन के बरोटीवाला इलाके में भारी बारिश के बाद एक झुग्गी की दीवार गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई. मंडी कस्बे के पास लैंडस्लाइड होने से चंडीगढ़-मनाली नैशनल हाइवे-3 ठप हो गया है. हाइवे पर यातायात बहाल करने के लिए ऑपरेशन चलाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःपीएमसीएच पर गलती छिपाने के लिए घंटों वेंटिलेटर पर मृत इंसान को रखने का आरोप

बदरीनाथ नैशनल हाइवे पर यातायात ठप, हरिद्वार में गंगा खतरे के निशान के करीब

उत्तराखंड में बदरीनाथ नैशनल हाइवे पर यातायात ठप है. उत्तराखंड के हरिद्वार, पिथौरागढ़, रुड़की और नैनीताल में भारी बारिश हुई है. वहीं, बारिश की वजह से राजधानी देहरादून में 12वीं तक के स्कूलों को बंद कर दिया गया है. रविवार रात लामबगड़ में भारी बारिश के बाद भूस्खलन होने से चट्टान का एक हिस्सा सड़क पर गिर गया, जिसके बाद बदरीनाथ नैशनल हाइवे पर यातायात रोक दिया गया. भारी बारिश की वजह से हरिद्वार में गंगा नदी खतरे के निशान के करीब पहुंच गयी है. जम्मू-कश्मीर में भी भारी बारिश की वजह से लोगों को दिक्कतें झेलनी पड़ रही हैं.

मौसम विभाग ने राज्य के कई हिस्सों में बारिश का अलर्ट जारी किया है.  ओडिशा के विभिन्न हिस्सों में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित हुआ है. मौसम विभाग ने कई इलाकों में भारी बारिश की आशंका जताई है. अधिकारियों ने बताया कि बारिश के कारण तटीय और दक्षिणी क्षेत्रों में पानी भर गया है. भारी जलजमाव के कारण सड़क यातायात प्रभावित हुआ है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: