Crime NewsGiridihJharkhand

मोंगिया स्टील का सुपरवाइजर गिरफ्तार, साढ़े तीन लाख बरामद

  • धनबाद रेलवे स्टेशन से था भागने के प्रयास में, मोबाइल लोकेशन के आधार पर धराया

Giridih: गिरिडीह के मुफ्फसिल थाना पुलिस ने छड़ फैक्ट्री मोंगिया स्टील के आरोपी सुपरवाFजर गोपाल सिंह भावालिया को शुक्रवार को जेल भेज दिया. पुलिस ने आरोपी सुपरवाFजर के पास से कंपनी के साढ़े तीन लाख रुपये नगद भी बरामद किये हैं.

Jharkhand Rai

पुलिस के अनुसार गोपाल भावलिया को मुफ्फसिल थाना पुलिस ने धनबाद रेलवे स्टेशन से उस वक्त गिरफ्तार किया जब वह आरक्षित ट्रेन से फरार होने के प्रयास में था. पुलिस ने आरोपी के मोबाइल लोकेशन के आधार पर उसे धनबाद रेलवे स्टेशन से दबोचा. शुक्रवार की सुबह उसे लेकर गिरिडीह पहुंची जहां से उसे जेल भेज दिया गया.

आरोपी के खिलाफ मुफ्फसिल थाना में मोंगिया स्टील के फोरमेन महेन्द्र सिंह ने कंपनी का पैसा लेकर भागने के आरोप में केस दर्ज कराया था. फोरमेन के आवेदन के आधार पर थाना कांड संख्या 269/20 में आरोपी सुपरवाइजर को नामजद अभियुक्त बनाया था जबकि केस के अनुसंधानकर्ता प्रकाश कुमार बनाये गये थे.

केस दर्ज होने के बाद अनुसंधानकर्ता जांच में जुट गये थे. इस दौरान आरोपी के मोबाइल लोकेशन को खंगाला गय जिसमें मोबाइल लोकेशन धनबाद रेलवे स्टेशन बताया. इसी लोकेशन के आधार पर अनुसंधानकर्ता गुरुवार की शाम धनबाद रेलवे स्टेशन पहुंचे और स्टेशन से गिरफ्तार कर गिरिडीह लाये.

Samford

इसे भी पढ़ें – बार संचालकों से लॉकडाउन अवधि का भी एकमुश्त लाइसेंस शुल्क मांग रहा विभाग, चैंबर बोला- कुछ तो सहानुभूति दिखाइये

गबन का केस दर्ज हुआ था

बतातें चले कि मोंगिया स्टील के फोरमेन ने फैक्ट्री के सुपरवाइजर गोपाल सिंह भावलिया के खिलाफ कंपनी के सात लाख 76 हजार रुपये गबन करने का केस दर्ज कराया था.

थाना को दिये आवेदन में फोरमेन ने सुपरवाइजर पर आरोप लगाते हुए कहा कि बीते 24 अक्टूबर की शाम सुपरवाइजर को सात लाख 76 हजार का भुगतान फैक्ट्री के मजदूरों को देने के लिए किया गया था. आरोपी सुपरवाइजर के खिलाफ केस दर्ज कराने वाले फोरमेन महेन्द्र सिंह भी राजस्थान के सिकर जिला के खंडेला थाना के पुजारीकबास गांव के रहने वाले हैं.

आवेदन में फोरमेन ने आरोप लगाते हुए कहा कि आरोपी सुपरवाइजर को फैक्ट्री के शिफ्ट प्रभारी अशोक सिंह के माध्यम से सात लाख 76 हजार दिया गया था लेकिन मजदूरों को भुगतान करने के बजाय सुपरवाइजर गोपाल सिंह भोवालिया 24 अक्टूबर को ही गिरिडीह से फरार हो गया.

इसके बाद फैक्ट्री प्रबंधन ने आरोपी से संपर्क करने का कई बार प्रयास किया. लेकिन आरोपी ने किसी का फोन नहीं उठाया. वहीं बुधवार की देर रात फोरमेन के आवेदन पर केस दर्ज किया गया.

इसे भी पढ़ें – तुर्की में भूकंप, भरभराकर गिरी इमारतें, 4 की मौत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: