न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोईन कुरैशी रिश्वतकांड  : सरकार ने सात देशों से किया संपर्क, लेटर रोगेटरी जारी किये जायेंगे 

सीबीआई और ईडी ने अदालत को जानकारी दी है कि कुरैशी के पास आठ देशों में 45 विदेशी बैंक अकाउंट हैं.   

35

NewDelhi : सीबीआई की जड़ हिलाने वाले  मीट एक्सपोर्टर मोईन कुरैशी से कुछ सरकारी अधिकारियों द्वारा रिश्वत लेने के आरोपों की जांच के लिए सरकार ने सात देशों से मदद मांगी है. बता दें कि इन अधिकारियों पर करोड़ों रुपये की रिश्वत लेने और उसे अपनी पसंद के देश में हवाला के जरिए रखने का आरोप है. सूत्रों के अनुसार सिंगापुर और हांगकांग को पूर्व में ही लेटर रोगेटरी (LR) जारी कर दिये गये हैं.  सीबीआई और एन्फोर्समेंट डायरेक्टरेट (ईडी)  ने यह जानकारी एक स्थानीय अदालत को दी है.  बताया गया है कि दुबई, स्विट्जरलैंड, फ्रांस और अमेरिका को भी LR जारी करने के लिए जांच एजेंसियां जल्द ही अदालत से आवेदन करेंगी. जान लें कि न्यायिक सहयोग के लिए किसी अदालत द्वारा विदेशी कोर्ट से औपचारिक अनुरोध किये जाने को लेटर रोगेटरी (LR) कहा जाता है.  बता दें कि सरकार ने जांच एजेंसियों को ब्रिटेन को (LR) जारी करने के लिए कोर्ट से संपर्क करने की स्वीकृति दी है.

हवाला ऑपरेटर्स रिश्वत की राशि फ्रांस, ब्रिटेन, दुबई जैसे देशों में ट्रांसफर करते हैं

खबरों के अनुसार सीबीआई और ईडी ने 17-27 अक्टूबर तक दुबई में आयोजित वर्ल्ड फूड फेस्टिवल में हिस्सा लेने के लिए जाने के कुरैशी के निवेदन का विरोध किया था.  लेकिन कोर्ट ने कुरैशी के खिलाफ कोई नया प्रमाण न होने के कारण 16 अक्टूबर को उसे दुबई जाने की अनुमति दे दी थी.  सीबीआई और ईडी ने अदालत को जानकारी दी है कि कुरैशी के पास आठ देशों में 45 विदेशी बैंक अकाउंट हैं.  अमेरिका में 20, फ्रांस में 8, ब्रिटेन में 7, हॉन्ग कॉन्ग में 4, सिंगापुर में 2, इटली, आयरलैंड और संयुक्त अरब अमीरात में 1-1 अकाउंट हैं.  अदालत को यह भी जानकारी मुहैया कराई है कि कुरैशी विदेशी कंपनी मैसर्स बुलोवा होल्डिंग लिमिटेड का एकमात्र लाभार्थी मालिक है. कंपनी का ऑफिस ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में है.  लंदन एक आलीशान घर भी कथित तौर पर इस कंपनी के नाम पर खरीदा गया था. जांच एजेंसियों के अनुसार हवाला ऑपरेटर्स रिश्वत की राशि फ्रांस, ब्रिटेन, दुबई जैसे देशों में ट्रांसफर करते हैं.

silk_park

इस मामले में दो हवाला ऑपरेटर्स के नाम सामने आये हैं. सीबीआई और ईडी का यह आरोप भी है कि कुरैशी ने तीन विदेशी फर्मों के जरिए मनी लॉन्ड्रिंग की थी. कुरैशी के कर्मचारी आदित्य शर्मा, इशमीत कौर, दीपाली यादव और दिनेश गुप्ता ने  बयानों में कहा है कि वे हवाला के जरिए दुबई, ब्रिटेन, इटली और अमेरिका में रकम ट्रांसफर कर रहे थे. बता दें कि  सीबीआई और ईडी ने मोईन कुरैशी के खिलाफ पिछले फरवरी में सरकारी अधिकारियों को रिश्वत देने और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में मामला दर्ज किया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: