न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आजाद हिंद फौज की 75वीं वर्षगांठ पर आज लालकिले से मोदी फहरायेंगे तिरंगा

लालकिले की प्राचीर से सिर्फ 15 अगस्त को तिरंगा फहराने की परंपरा आज 21 अक्टूबर को टूटेगी.

103

NewDelhi : लालकिले की प्राचीर से सिर्फ 15 अगस्त को तिरंगा फहरानेकी परंपरा आज 21 अक्टूबर को टूटेगी. बता दें कि पीएम मोदी ने कहा है कि वे 21 अक्टूबर को लालकिले से तिरंगा फहरायेंगे.  यह कार्यक्रम  स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर किया जा रहा है. साल में एक बार 15 अगस्त को लालकिले से तिरंगा फहराने की परंपरा तोड़ने के संबंध में पीएम मोदी ने एक वीडियो पोस्ट कर इस संबंध में जानकारी दी है. इस वीडियो में पीएम मोदी ने उन लोगों के सबंध में जानकारी दी है, जिन्होंने देश की आजादी और समाज कल्याण में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है.  पीएम मोदी के अकाउंट से शेयर हुए वीडियो में मोदी द्वारा कही गयी बातें हैं.

इसे भी पढ़ें –   प्रशांत किशोर ने खोला राज, मोदी जांबाज और जोखिम उठाने वालों में, राहुल यथास्थितिवाद में यकीन रखने वाले

इतिहास से कटा हुआ समाज कटी हुई पतंग की तरह कभी उड़ नहीं सकता

वीडियो में पीएम कह रहे हैं कि  अगर कोई समाज अपने इतिहास से कट जाता है;  तो वह कटा हुआ समाज कटी हुई पतंग की तरह कभी उड़ नहीं सकता.  उसका गिरना तय होता है.  हम सभी का सम्मान करने वाले लोग हैं.  सबका सम्मान करते हैं. हर कोई, जिसने इस देश के लिए काम किया है. हमारा विरोधी ही क्यों ना हो.  जिसने देश की सेवा की उसका सम्मान होना चाहिए. मेादी ने  उड़ीसा के पाइका विद्रोह के 200 साल पूरे होने पर अमर बलिदानियों को याद किया. कहा कि  पिछले साल हम इसमें शामिल रहे थे.  कहा कि कुछ दिन पहले सर छोटू राम की प्रतिमा के अनावरण के लिए वे रोहतक में थे. उनके जैसे बहुमुखी लोगों के बारे में लोगों को अधिक से अधिक पढ़ना चाहिए.   कहा कि हमारी सरकार ने बाबा साहेब आंबेडकर से जुड़े हुए पंचतीर्थ के लिए भी काम किया है;  क्योंकि पांच महत्वपूर्ण स्थल से बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर के जीवन की अलग-अलग बात हमारे सामने प्रस्तुत होती है.

इसे भी पढ़ें –  धू…धू…कर जल रहा था रावण, पटाखों के शोर के बीच ट्रेन की चपेट में आये 61 लोगों की मौत, 50 से अधिक घायल

palamu_12

 भगवान बिरसा मुंडा को कौन जानता था. भुला दिया गया था

इस क्रम में पीएम मोदी ने कहा कि आजादी की जंग में 1857 से लेकर आज तक आदिवासियों भाईयों ने बहुत बड़ा योगदान दिया है. भगवान बिरसा मुंडा को कौन जानता था.  भुला दिया गया था. हमने तय किया कि देश की आजादी के लिए आदिवासी भाईयों और बहनों ने जो जान की कुर्बानी दी है उसके इतिहास के लेकर, ऐसे राज्य जहां आदिवासी जनसंख्या हैं, संग्रहालय बनाए जायेंगे. प्रधानमंत्री मोदी ने  कहा, 21 अक्टूबर को लालकिले की प्राचीर से होने वाले झंडारोहण कार्यक्रम में शामिल होने का मुझे सौभाग्य मिलेगा.  जान लें कि 21 अक्टूबर को नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा गठित आजाद हिंद फौज को 75 साल पूरे हो रहे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: