National

वाराणसी में मोदी ने कार्यकर्ताओं से कहा, मैं पहले भाजपा कार्यकर्ता हूं, बाद में प्रधानमंत्री

NewDelhi :  कार्यवाहक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे. यहां उन्होंने काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा की और बाद में पंडित दीनदयाल उपाध्याय हस्तकला संकुल में कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. इस क्रम में मोदी ने कहा, मैं पहले भाजपा कार्यकर्ता हूं, बाद में प्रधानमंत्री. कहा कि मैं सिर्फ यहां नामांकन भरने आया था, लेकिन वाराणसी  की जनता ने खुद ही मेरे लिए चुनाव लड़ा और हर कोई नरेंद्र मोदी बन गया.

मोदी ने वाराणसी  के वोटर्स का शुक्रिया अदा किया. कहा कि इस चुनाव में हर कार्यकर्ता पूरे नंबरों से पास हुआ है. मुझे जिताने के लिए सभी मतदाताओं का दिल से आभार. मेरे खिलाफ लड़ने वाले विरोधी दलों के उम्मीदवारों का भी मैं धन्यवाद देना चाहता हूं. मोदी ने कहा कि इस लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद पॉलिटिकल पंडितों को अब अपना परसेप्शन बदलना होगा.

इसे भी पढ़ेंःप. बंगाल में फिर चुनावी हिंसाः एक और भाजपा कार्यकर्ता की हत्या, जलपाईगुड़ी में TMC-BJP में भिड़ंत

SIP abacus

परसेप्शन को पारदर्शिता और परिश्रम से परस्त किया जा सकता है

MDLM
Sanjeevani

कहा कि परसेप्शन को पारदर्शिता और परिश्रम से परस्त किया जा सकता है.  नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘देश के राजनीतिक विशेषज्ञों को ये बात माननी पड़ेगी कि अंकगणित के आगे भी एक केमिस्ट्री होती है. आज उत्तर प्रदेश देश की राजनीति को नयी दिशा दे रहा है. वर्ष 2014 हो, 2017 हो या 2019, ये हैट्रिक छोटी नहीं है. उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश के गांव का गरीब व्यक्ति भी देश की सही दिशा के बारे में सोचता है और उस दिशा में चलता भी है. देश में समाज शक्ति, आदर्शों और संकल्पों की केमिस्ट्री कभी-कभी सारे गुणा-भाग और अंकगणित को पराजित कर देती है. इस चुनाव में अंकगणित को केमिस्ट्री ने पराजित किया है.

इसे भी पढ़ेंः 2020 के अंत तक राज्यसभा में बहुमत का आंकड़ा पा लेगा राजग  

हमने दो संकट झेले हैं, राजनीतिक हिंसा और राजनीतिक अस्पृश्यता

मोदी ने कहा,  पारदर्शिता और परिश्रम दो ऐसी चीजें हैं, जो हर परसेप्शन को परास्त करने का साहस रखते हैं. आज हिंदुस्तान ने यह कर के दिखाया है. पारदर्शिता और परिश्रम का कोई विकल्प नहीं है. सरकार का काम है कार्य करना. सरकार के कार्य में जब कार्यकर्ता जुड़ जाता है, तो कार्य+कार्यकर्ता बन जाता है. यह एक ऐसी ताकत होती है जो करिश्मा करती है. नरेंद्र मोदी ने कहा, हमने दो संकट झेले हैं.

वे दो संकट हैं राजनीतिक हिंसा और राजनीतिक अस्पृश्यता. कई राज्यों में हमारे सैकड़ों कार्यकर्ताओं की राजनीतिक विचारधारा के कारण हत्याएं हुई हैं. हमारे देश में राजनीतिक छुआछूत दिनों-दिन बढ़ती जा रही है. कई जगह भाजपा का नाम लेते ही अस्पृश्यता का माहौल बनाया जाता है.

हम लोकतंत्र की सबसे ज्यादा परवाह करते हैं

मोदी ने कहा, आज देश के राजनीतिक कैनवास पर ईमानदारी से रग-रग में लोकतंत्र को जीने वाला कोई दल है तो वह भाजपा है. हम लोकतंत्र की सबसे ज्यादा परवाह करते हैं. हम लोकतंत्र में विश्वास रखने वाले लोग हैं. जहां-जहां हमें मौका मिला है, वहां विपक्ष की आवाज को महत्व दिया है, जनता के अविश्वास के कारण उनकी संख्या चाहे कम ही क्यों न हो.

पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘मैं भी भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता होने के नाते पार्टी और कार्यकर्ता जो आदेश करते हैं, उसका पालन करने का भरसक प्रयास करता हूं.  मोदी ने कहा, काशी तो अविनाशी है, काशी ने जो स्नेह और शक्ति मुझे दी है, ऐसा सौभाग्य मिलना बहुत मुश्किल है.

शायद ही कोई उम्मीदवार चुनाव के समय इतना निश्चिंत होता होगा, जितना मैं था. इस निश्चिंतता का कारण आपका परिश्रम और काशीवासियों का विश्वास था.

इसे भी पढ़ेंःअंधविश्वास का अंधेरा : नौ पुरुषों का सिर मुड़ा, महिलाओं के काटे नाखुन, परामर्श केंद्र से न्याय की गुहार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

hosp22
You Might Also Like

Related Articles

Back to top button