न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गठबंधन को खराब बताने वाली मोदी-शाह के NDA में 41 पार्टियां, जानें कौन-कौन दल हैं एनडीए में शामिल

2,309

News Wing Desk: लोकसभा चुनाव 2019 में एनडीए और यूपीए आमने-सामने है. चुनाव की घोषणा के साथ ही जहां विपक्ष एकजुट होता दिखा, वहीं बीजेपी ने इस गठबंधन को सत्ता प्रेरित बताया.

प्रधानमंत्री मोदी हो या बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह या फिर भाजपा के दूसरे नेता हर किसी ने विपक्ष के गठबंधन को लेकर सवाल उठाये. और गठबंधन वाली सरकार को कमजोर और विकास में बाधक सरकार करार दिया.

इसे भी पढ़ेंःसुरजेवाला ने कहा- जब कामकाज में निष्पक्ष नहीं आयोग तो कैसे कराएगा निष्पक्ष चुनाव 

‘गठबंधन पर हमलावर रहे मोदी-शाह’

चुनावी रैलियों में पीएम मोदी खुद अक्सर इन गठबंधनों पर प्रहार करते दिखे. कभी इसे ‘ठगबंधन’ कहा तो कभी ‘महामिलावटी गठबंधन’. मोदी और बीजेपी को रोकने की खुलकर बात करने वाले महागठबंधन को बीजेपी ने अवसरवादी, सत्ता के भूखे जैसे संज्ञाओं से नवाजा.

गठबंधन की सरकार को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह हमेशा से हमलावर रहे हैं. कई बार सार्वजनिक मंच से कह चुके हैं कि गठबंधन की राजनीति ने देश को डुबाया है.

गठबंधन की सरकारें कमजोर होती हैं और सही समय पर फैसला नहीं ले पाती. 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को अकेले ही स्पष्ट बहुमत मिला था. जिसके बाद से नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने कई बार इस बात को दोहराया.

लेकिन जब भाजपा के नेतृत्व में बनी एनडीए को देखें, तो खुद यह यह देश का सबसे बड़ा गठबंधन है. इस बार एनडीए ही चुनाव भी लड़ रही थी. और अगर भाजपा को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला, तो एनडीए के 41 दल ही सरकार में शामिल होंगे. 21 मई को दिल्ली में हुई बैठक में एनडीए के 41 दल शामिल हुए थे.

Related Posts

अमित शाह ने चुनावी रैली में कहा, पंडित नेहरू ने संघर्ष विराम नहीं कराया होता, तो #POK का अस्तित्व नहीं होता

कश्मीर में कोई अशांति नहीं है और आने वाले दिनों में आतंकवाद समाप्त हो जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःजम्मू-कश्मीर: कुलगामा में सुरक्षाबलों और आतंकियों में मुठभेड़, दो दहशतगर्द ढेर

हालांकि, पहले इस फेहरिस्त में 43 पॉलिटिक्ल पार्टियां शामिल थी. लेकिन चुनाव से पहले ही बिहार में सीट बंटवारे को लेकर नाराज हुए उपेंद्र कुशवाहा ने बीजेपी का साथ छोड़ दिया.

वहीं यूपी में ओम प्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी एनडीए खेमें को छोड़ चुकी है. उल्लेखनीय है कि यूपी सरकार में शामिल होते हुए भी पूर्व मंत्री राजभर अक्सर भाजपा के खिलाफ मुखर रहे.

वहीं लोकसभा चुनाव में उन्होंने बीजेपी के खिलाफ अपने प्रत्याशी भी उतारे थे, और बसपा प्रमुख मायावती के पीएम बनने की बात कही थी. चुनाव के बाद बीजेपी ने उनके खिलाफ एक्शन लिया. और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राज्यपाल से राजभर को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की सिफारिश की थी. जिसके बाद उन्हें बर्खास्त कर दिया गया.

इसे भी पढ़ेंःISRO ने लॉन्च की RISAT-2बी, धरती पर रखेगा निगरानी, आतंकी नहीं कर पाएंगे घुसपैठ

एनडीए में शामिल राजनीतिक दल

संख्याराजनीतिक दललोकसभा सांसदों की संख्याराज्यसभा सांसदों की संख्याराज्य
1.भारतीय जनता पार्टी26973राष्ट्रीय पार्टी
2.एआईएडीएमके3713तमिलनाडु
3.शिव सेना183महाराष्ट्र
4.जनता दल(यू)26बिहार
5.लोक जनशक्ति पार्टी60बिहार
6.शिरोमणि अकाली दल43पंजाब
7.अपना दल20उत्तर प्रदेश
8.पाट्टाली मक्कल कॉची10तमिलनाडु
9.सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट11सिक्किम
10.रिपब्लिक्न पार्टी ऑफ इंडिडा(ए)01महाराष्ट्र
11.बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट01असम
12.नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी10नागालैंड
13.ऑल इंडिया एन. आर. कांग्रेस10पुडुचेरी
14.राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी00राजस्थान
15.नेशनल पीपल्स पार्टी00मेघालय
16.मिजोरम नेशनल फ्रंट00मिजोरम
17.राष्ट्रीय समाज पक्क्षा00महाराष्ट्र
18.शिव संग्राम00महाराष्ट्र
19.महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी00गोवा
20.गोवा फॉरर्वड पार्टी00गोवा
21.आजसू00झारखंड
22.इनडिजिनस पीपुल्स फ्रंट00त्रिपुरा
23.मणिपुर पीपुल्स पार्टी00मणिपुर
24.कामतापुर पीपुल्स पार्टी00प. बंगाल
25.यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी00मेघालय
26.हिल स्टेट पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी00मेघालय
27.देसिया मृपोकु द्रविड़ कषगम00तमिलनाडु
28.भरत धर्म जन सेना00केरल
29.केरल कामराज कांग्रेस00केरल
30.प्रजा सोशलिस्ट पार्टी00केरल
31.डेमोक्रेटिक लेबर पार्टी (केरल)00केरल
32.तमिल मानिला कांग्रेस00तमिलनाडु
33.पुथिया तमिलगम00तमिलनाडु
34.केरल कांग्रेस (राष्ट्रवादी)00केरल
35.पीपुल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट00मेघालय
36.केरल कांग्रेस (थॉमस)00केरल
37.असोम गण परिषद00असम
38.निषाद पार्टी00यूपी
39.केरल जनपक्षम (धर्मनिरपेक्ष)00केरल
40.रैयत क्रांति संगठन00महाराष्ट्र
41.पुठिया नधि काछी00तमिलनाडु

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: