National

मोदी -शाह की जोड़ी सत्ता में आयी, तो इसके लिए सिर्फ राहुल गांधी जिम्मेवार होंगे  : केजरीवाल

NewDelhi : दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भाजपा पर भारत को तोड़ने का पाकिस्तान का एजेंडा पूरा करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि चुनाव के बाद आप किसी भी गैर भाजपा दल की सरकार के गठन में मदद करेगी. केजरीवाल ने गुरुवार को आप का घोषणा पत्र जारी करते हुए कहा कि यह चुनाव देश को तोड़ने से बचाने के लिए हो रही कोशिशों का चुनाव है.

Jharkhand Rai

आप संयोजक ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के एक पुराने बयान का हवाला देकर कहा कि शाह पहले ही बोल चुके हैं कि आजादी के बाद अन्य देशों से आये हिंदू, सिख और बौद्ध को छोड़कर अन्य सभी समुदायों के लोगों को देश से बाहर कर दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः बालाकोट हवाई हमला : छह हजार वायु सैनिक ऑपरेशन में शामिल थे : रिपोर्ट

भाजपा देश को तोड़ने का एजेंडा चला रही है

इसका मतलब साफ है कि मुस्लिम, जैन, पारसी और अन्य समुदाय के लोगों को देश से निकल दिया जायेगा.  इसलिए हम कहते है कि यह चुनाव प्रधानमंत्री बनाने के लिए नहीं बल्कि देश बचाने के लिए है.  केजरीवाल ने कहा कि भाजपा देश को तोड़ने का एजेंडा चला रही है और यही एजेंडा पाकिस्तान का है.  केजरीवाल ने कहा कि आप के घोषणापत्र में दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने का मुख्य लक्ष्य है.

केजरीवाल ने आप-कांग्रेस गठबंधन नहीं हो पाने के लिए कांग्रेस को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा कि कांग्रेस ट्विटर पर गठबंधन करने की कोशिश कर रही थी. केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस सभी राज्यों में विपक्ष के गठबंधन को कमज़ोर कर रही है.

Samford

उन्होंने कहा कि दिल्ली में गठबंधन के लिए आप ने हरसम्भव कोशिश की लेकिन कांग्रेस के बार-बार अपनी शर्तें बदलने से साबित हो गया कि कांग्रेस की मंशा गठबंधन करने की नहीं थी. उन्होंने कहा,अगर फिर से मोदी और शाह की जोड़ी सत्ता में आती है तो इसके लिए सिर्फ और सिर्फ एक ही शख्स ज़िम्मेदार है और वह हैं राहुल गांधी.

केजरीवाल ने कहा कि  दिल्ली में हमारे पर दो चुनौतियां हैं. कांग्रेस दिल्ली में एक भी सीट जीत नहीं सकती. हम सातों सीटे छोड़ देते, अगर कांग्रेस जीतने की स्तिथि में होती. आज हम इस स्थिति में है कि आम आदमी पार्टी सातों सीट पर भाजपा को हरा सकती है. दिल्ली वालों से अपील है कि पीएम बनाने के लिए वोट मत देना, दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाने के लिए वोट देना.

इसे भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट न्यायपालिका पर ‘‘सोच समझ कर हो रहे हमले’’ से नाराज

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: