न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी के हाथ में फिर झाडू, कहा, सोचा न था, चार साल में स्वच्छता मामले में इतनी प्रगति होगी

मोदी ने आम जन के साथ सीने अभिनेता अमिताभ बच्चन, उद्योगपति रतन टाटा, आध्यात्मिक गुरु जग्गी वासुदेव से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विचार साझा किये.  

146

NewDelhi : स्वच्छता ही सेवा मुहिम अभियान के तहत शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर अपने हाथ में झाड़ू उठाया.  इस क्रम में पीएम ने दिल्ली के एक स्कूल में सफाई की. गृह मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी इस कार्य में उनका साथ दिया. इस अवसर पर मोदी ने बाबा साहेब आंबेडकर स्कूल में बच्चों से बात भी की. स्कूल परिसर में भी पीएम ने सफाई भी की. बताया गया कि पीएम मोदी बिना काफिले के ही श्रमदान के लिए निकले. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने फरीदाबाद की गलियों में, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने हैदराबाद में और केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने दिल्ली के वसंत विहार इलाके में झाडू लगाया.

इसे भी पढ़ेंः मोदी विरोध अपनी जगह, ममता बनर्जी केंद्र की योजनाएंं लागू करने में अव्वल

किसी ने सोचा न था कि चार वर्ष में आठ करोड़ शौचालय बनेंगे

इस क्रम में पीएम नरेंद्र मोदी ने स्वच्छता ही सेवा मुहिम कार्यक्रम में कहा कि हमने चार साल में जो लक्ष्य हासिल किया, वह पिछले 60-70 सालों में नहीं किया जा सका. इस अवसर पर मोदी ने आम जन के साथ सीने अभिनेता अमिताभ बच्चन, उद्योगपति रतन टाटा, आध्यात्मिक गुरु जग्गी वासुदेव से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विचार साझा किये. पीएम मोदी ने कहा, स्वच्छता का कवरेज  40 पर्सेंट से बढ़ कर 90 पर्सेंट तक आ गया है. किसने सोचा होगा कि चार साल में हम स्वच्छता के मामले में इतनी प्रगति कर लेंगे, जितनी पिछले 60 से 70 सालों में न हो पायी.  किसी ने सोचा न था कि चार वर्ष में आठ करोड़ शौचालय बनेंगे. किसी ने शायद यह सोचा भी नहीं होगा कि 4.5 लाख गांव, 450 जिले एवं 20 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश खुले में शौच से मुक्त हो सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंः केरल नन रेप मामला : वेटिकन कर सकता है हस्तक्षेप, चर्च प्रतिनिधि वेटिकन में

स्वच्छता आदत है, जिसे नित्य के अनुभवों में शामिल करना पड़ता है

पीएम मोदी ने कहा, यह सब आप सभी भारतवासियों और स्वच्छाग्रहियों के प्रयास का परिणाम है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार तीन लाख लोगों की जिंदगी स्वच्छता के कारण बचाई जा सकेगी. लेकिन, सिर्फ शौचलय बनाने भर से भारत स्वच्छ हो जायेगा तो ऐसा नहीं है. स्वच्छता एक आदत है, जिसे नित्य के अनुभवों में शामिल करना पड़ता है. पीएम मोदी ने अमिताभ के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा, आपने दो वर्ष पहले हरिवंश राय बच्चन के जन्मदिन को स्वच्छता से जोड़ा था.   महान व्यक्ति की महान पंक्तियों से देश को जोड़ने के लिए मैं आपका आभार व्यक्त करता हूं.

इसे भी पढ़ेंःपुलिस महकमे के एक खास वर्ग का नौकरशाही में वर्चस्व, राष्ट्रपति से शिकायत

अमिताभ बच्चन ने पीएम मोदी को अभियान का श्रेय दिया

अमिताभ बच्चन ने पीएम मोदी को इस अभियान का श्रेय देते हुए कहा कि यदि मेरी शक्ल और अक्ल से सरकार प्रचार करा रही है तो इतना ही काफी नहीं है. मुझे लगता था कि इसके लिए निजी तौर पर भी प्रयास किया जाना चाहिए. कहा कि इसलिए हमने खुद अपने स्तर पर भी काम किया. मुंबई के वर्सोवा बीच पर मैंने कुछ करने का प्रयास किया. यह एक व्यक्ति की भावना थी कि उसने सोचा कि मुझे साफ करना है और वह आगे बढ़ा तो फिर लोग आगे आये. मुझसे लोगों ने कहा कि यहां सफाई के लिए जमीन खोदने वाली मशीन नहीं है, फिर मैंने यह मशीन खरीदकर दी. यही नहीं लोगों ने कहा कि ट्रैक्टर की जरूरत है, जिससे कूड़ा उठाया जा सकता है.

इस क्रम में रतन टाटा ने कहा कि हम स्वच्छ भारत मिशन के साथ बने रहेंगे और चाहेंगे कि तकनीक के जरिए भी इसमें कुछ योगदान दिया जाये. पीएम मोदी ने स्वच्छता को लेकर टाटा समूह के योगदान की सराहना की. साथ ही पीएम मोदी ने असम के डिब्रूगढ़ और गुजरात के मेहसाणा में सक्रिय स्वच्छाग्रहियों से भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: