न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी नेहरू की तरह भारत खोजने नहीं निकले हैं, वे धरतीपुत्र हैं : रामबहादुर राय  

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार रामबहादुर राय ने पीएम नरेंद्र मोदी की तुलना देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से करते हुए कहा कि वे नेहरू के समान नहीं हैं जिन्हें भारत को खोजने की जरूरत पड़े.  

25

Mathura : इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार रामबहादुर राय ने पीएम नरेंद्र मोदी की तुलना देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से करते हुए कहा कि वे नेहरू के समान नहीं हैं जिन्हें भारत को खोजने की जरूरत पड़े.  उन्होंने कहा कि मोदी तो भारतीय संस्कृति, समाज और इसके इतिहास से पूरी तरह से जुड़े़ हुए हैं. असल में वे तो धरतीपुत्र हैं और भारत की सेवा करने निकले हैं. राय गुरुवार को यहां एक सामाजिक संगठन द्वारा आयोजित युगान्धर गौरव समारोह की अध्यक्षता कर रहे थे.  पर्यावरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यों के लिए मोदी को इस साल संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी द्वारा चैम्पियन ऑफ दि अर्थ अवॉर्ड दिए जाने के उपलक्ष्य में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था. मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से अब तक उसकी ओर से पर्यावरण एवं अन्य क्षेत्रों में किए गये कार्यों का मूल्यांकन करते हुए राय ने कहा, इस सरकार के आने के बाद देश में एक प्रकार की नयी राजनीति की शुरुआत हुई है.  यह शुरुआत समाज में भी हुई है, संस्कृति में भी हुई है, धर्म में भी हुई है. इसके कारणों का जिक्र करते हुए राय ने कहा, ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि अब हमें एक ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो धरतीपुत्र है.  जिसका समाज से, संस्कृति से गहरा जुड़ाव है.

हमारे यहां पिछले 70 सालों में छल किये जाते रहे

जवाहर लाल नेहरू की तरह भारत को खोजने नहीं निकले हैं, वे तो भारत की सेवा करने निकले हैं.  उन्होंने कहा, हमारे यहां पिछले 70 सालों में छल किये जाते रहे.  ये छल वैचारिक रूप से किये गये.  कभी समाजवाद का नाम लिया गया, तो कभी साम्यवाद की बात की गयी.  लेकिन अब 2014 से नयी शुरुआत हुई है.  हम (सभी नागरिक) खुद को जानने की कोशिश करने लगे हैं.  मोदी को मिले पुरस्कार पर राय ने कहा, हम इतिहास को देखें तो इस प्रकार की प्ररेणा देने के लिए हम अपने महापुरुषों को निमित्त बनाते चले आये हैं.  कृष्ण भी कभी निमित्त थे.  कभी वे महाभारत के निमित्त हुए, कभी द्वारिका के, तो कभी ब्रज के निमित्त हुए.

इसी प्रकार राजनीतिक रूप से देखें तो आजादी के आंदोलन में महात्मा गांधी आजादी के निमित्त हुए. इस कार्यक्रम में केंद्रीय संचार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) व रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत की.  उत्तर प्रदेश ब्रज तीर्थ विकास परिषद के उपाध्यक्ष शैलजाकांत मिश्र, श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा भी इस मौके पर मौजूद थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: