National

गैर जघन्य अपराधों में सजा काट रहे कैदियों को रिहा करेगी मोदी सरकार

New Delhi: नरेन्द्र मोदी सरकार ऐसे कैदियों को रिहा करेगी, जिन्हे गैर जघन्य अपराधों के लिए जेल में रखा गया है. और ऐसे कैदी कम से कम सजा की आधी अवधि गुजार चुके हैं. बुधवार को मोदी कैबिनेट की बैठक में ये फैसला लिया गया.

इसे भी पढ़ें-अग्निवेश प्रकरण पर वृंदा करात ने कहा, बीजेपी-आरएसएस विचारधारा के कारण ऐसी घटनाएं  

कौन-कौन होगे जेल से आजाद ?

ram janam hospital
Catalyst IAS

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर की माने तो कुल तीन चरणों में कैदियों की रिहाई होगी. पहले चरण में बुजुर्ग नागरिक, विकलांग और वैसे कैदी जिन्हे गंभीर बीमारी है और वे मरने वाले हैं.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

दूसरे चरण में गैर जघन्य अपराधों की सजा काट रहे महिलाएं और ट्रांसजेंडरों को आजाद किया जाएगा.

तीसरे चरण में मामूली अपराधी जैसे बकरी चोरी, जंगल से छोटे पेड़ काटने वालों, मामूली चोरी जैसे क्षम्य अपराधों वाली सूची के कैदियों के रिहा किया जाएगा.

इसे भी पढ़ेंःसीपी सिंह ने कहा, किसी के बाप की कृपा से हम विधायक नहीं बने हैं

रिहा कर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देगी मोदी सरकार

मोदी सरकार एक वर्ष तक महात्मा गांधी की जयंती मनाने जा रही है. कैदियों की रिहाई के लिए जिन तारीखों का चुनाव किया गया है,वे गांधीजी से जुड़े हुए हैं. पहले चरण के कैदियों को इसी साल दो अक्टूबर को रिहा किया जाएगा. इसी दिन देश गांधी जयंति मनाता है. दूसरे चरण के कैदियों को अगले साल 10 अप्रैल यानि चंपारण सत्याग्रह के दिन रिहा किया जाएगा. आखिरी चरण के कैदियों की रिहाई दो अक्टूबर 2019 को होगी.

इसे भी पढ़ें-जेबीवीएनएल में हुआ है 15 करोड़ का टीडीएस घोटाला, न्यूज विंग की खबर पर ऊर्जा विभाग की मुहर

गंभीर अपराध में सजा काट रहे अपराधियों की रिहाई नहीं

फांसी या उम्रकैद की सजा पाये किसी भी अपराधी की रिहाई नहीं होगी. इसके अलावा दहेज, बलात्कार, मानव तस्करी जैसे मामलों में सजा पाये अपराधियों की भी रिहाई नहीं होगी. बैंक फ्रॉड, ठगी करने वाले अपराधियों को भी रिहा नहीं किया जाएगा. ये जानकारी कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दी. उन्होने कहा कि पोटा, यूएपीए, टाडा, एफआईसीएन, पॉक्सो, हवाला, फेमा, एनडीपीएस और भ्रष्टाचार निरोधी कानून के तहत सजायाफ्ता लोगों को भी राहत नहीं मिलेगी.

केन्द्र ने राज्य और केन्द्र शासित प्रदेशों को जारी करेगी एडवाइजरी

केन्द्र सरकार जल्द ही सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेश की सरकारों को एडवाइजरी जारी करेगी. हर राज्य सरकार को अपने यहां एक समिति का गठन करना है. समिति ही तय करेगी कि किन कैदियों को रिहा करना है और किनको नहीं. समिति अपनी सिफारिश राज्यपाल को भेजेगी. राज्यपाल की मंजूरी के बाद ही कैदियों की रिहाई का रास्ता साफ हो सकेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Articles

Back to top button