न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी सरकार के रिपोर्ट कार्ड के हर पेज पर लिखा हुआ है फेल, पर मानते नहीं :  पी चिदंबरम

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने एक अंग्रेजी अखबार में लेख लिखकर केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है. कहा कि मोदी सरकार के रिपोर्ट कार्ड के हर पेज पर फेल लिखा हुआ है

40

NewDelhi : पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने एक अंग्रेजी अखबार में लेख लिखकर केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है. कहा कि मोदी सरकार के रिपोर्ट कार्ड के हर पेज पर फेल लिखा हुआ है. बता दें कि अपने लेख में पी चिदंबरम ने न्यूज एजेंसी एएनआई को हाल में दिये गये प्रधानमंत्री मोदी के इंटरव्यू का हवाला देते हुए सरकार को कटघरे में खड़ा किया. लेख में नोटबंदी, जीएसटी, सर्जिकल स्ट्राइक, लिंचिंग, आरबीआई गवर्नर का इस्तीफा, सबरीमाला, तीन तलाक बिल, राफेल सौदा और कर्ज माफी जैसे मुद्दों को प्रमुखता से उठाया गया है. चिदंबरम ने लेख के शुरू में ही लिखा है कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने इंटरव्यू में कहा कि तेलंगाना और मिजोरम में लोगों ने भाजपा को चांस नहीं दिया जबकि छत्तीसगढ़ में भाजपा के खिलाफ स्पष्ट जनादेश मिला. राजस्थान और मध्य प्रदेश में त्रिशंकु विधानसभा की हालत रही. इसके जवाब में चिदंबरम ने लिखा है कि मिजोरम और तेलंगाना को छोड़ बाकी के तीन राज्यों में कांग्रेस को निर्णायक जनादेश मिला और वहां त्रिशंकु वाली कोई बात नहीं थी.

mi banner add

पांच राज्यों की हार आरएसएस को समझ में आ गयी है

चिदंबरम ने इसी क्रम में कहा कि पांच राज्यों की हार आरएसएस को समझ में आ गयी है. इसलिए हिंदुत्व का मुद्दा उछालकर राम मंदिर के लिए अध्यादेश लाने की बात कही जा रही है. जबकि मामला सुप्रीम कोर्ट में है. नोटबंदी, जीएसटी, सर्जिकल स्ट्राइक, लिंचिंग, आरबीआई गवर्नर का इस्तीफा, सबरीमाला, तीन तलाक बिल, राफेल सौदा और कर्ज माफी जैसे मुद्दे उठाते हुए चिदंबरम ने कहा कि सरकार ने पूर्व में भारी गलतियां की हैं लेकिन प्रधानमंत्री इसे मानने को तैयार नहीं. चिदंबरम के अनुसार नोटबंदी अब तक की सबसे बड़ी गलती थी, जीएसटी गलत तरीके से लागू हुआ. यह बदतर हालत में है, सर्जिकल स्ट्राइक कोई खास घटना नहीं थी क्योंकि इससे आतंकवाद और घुसपैठ पर रोक नहीं लग पायी.  तीन तलाक बिल पूरी तरह से पक्षपाती है, राफेल सौदे में एयर फोर्स और हिंदुस्तान एरोनॉटिकल लिमिटेड की बात नहीं सुनी और गलत नीतियों के कारण किसानों की कर्जमाफी अब अनिवार्य बन गयी है.

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.

धारणा बनाई जा रही है कि बड़ा बदलाव होने वाला है

चिदंबरम ने कहा, कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिन पर प्रधानमंत्री नहीं बोल रहे हैं. जैसे बेरोजगारी, किसानों की हताशा और आत्महत्या, महिला सुरक्षा, निगरानी दल, लोगों में असंतोष, जम्मू-कश्मीर, अर्थव्यवस्था, बंदी के कगार पर कुटीर उद्योग, ठहरी परियोजनाएं, दिवालिया कंपनियां, वित्तीय घाटे का पिछड़ा टारगेट और सरकार से भागते नामचीन अर्थशास्त्री. जिदंबरम के अनुसार प्रधानमंत्री आगे के बारे में कुछ नहीं बताते, बस बीती बातें उठाते हैं. लोगों की दशा कैसे सुधरे, अर्थव्यवस्था पटरी पर कैसे लौटे, इस बारे में वे कुछ नहीं बोलते. उनके रिपोर्ट कार्ड के हर पेज पर फेल लिखा है. चिदंबरम ने लिखा है कि लोगों के बीच अब यह धारणा बनाई जा रही है कि बड़ा बदलाव होने वाला है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: