JharkhandRanchi

किसानों की आजीविका पर क्रूर हमला है मोदी सरकार का कृषि सुधार कानून : कांग्रेस

  • किसान सम्मेलन में मोदी सरकार पर हमलावर हुए कांग्रेसी, कहा, ‘कानून वापस होने तक जारी रहेगा विरोध’

Ranchi : मोदी सरकार के लाये कृषि सुधार संबंधित तीन कानूनों को प्रदेश कांग्रेस ने किसानों की आजीविका पर क्रूर हमला करार दिया है. प्रदेश कांग्रेस के नेतृत्व शनिवार को आयोजित किसान सम्मेलन में उपस्थित कांग्रेसियों ने इसे देश के इतिहास में एक काला कानून बताया.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा कि इन तीनों कानूनों से किसानों को नहीं बल्कि पूंजीपतियों को सीधा लाभ होगा. कृषि क्षेत्र में पूंजीवाद को लाकर मोदी सरकार देश की रीढ़ की हड्डी को खराब कर रही है.

उन्होंने कहा कि पूंजीवाद का एक ही मतलब है कम से कम दामों पर सामानों को खरीद अधिक से अधिक मुनाफा कमाना. केंद्र की इन नीतियों से देश के किसानों को काफी नुकसान पहुंचेगा.

किसान सम्मेलन में विधायक दल के नेता सह ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, कृषि मंत्री बादल पत्रलेख, विधायक दीपिका पांडेय सिंह, अंबा प्रसाद सहित कई कांग्रेसी उपस्थित थे. सभी ने कहा कि जबतक मोदी सरकार इन काले कानूनों को वापस नहीं लेती है, तबतक कांग्रेस का विरोध लगातार जारी रहेगा.

इसे भी पढ़ें – आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने कहा, भारतीय मुसलमान दुनिया में सर्वाधिक संतुष्ट

लोकतंत्र में जनता की इच्छाओं के अनुरूप ही बनाए जाते है कानून, भाजपा ने किया नजरअंदाज :  आलमगीर

मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि इन तीन कानूनों की मांग ना तो किसानों ने की थी, ना ही राज्य सरकारों ने. इन कानूनों को बनाने से पहले किसान संगठनों की राय जानने की कोशिश भी की नहीं कि गयी. लोकतंत्र में जनता की इच्छाओं के अनुरूप ही कानून बनाए जाते हैं, लेकिन भाजपा सरकार ने ऐसा नहीं किया. संसद के दोनों सदनों में भारी विरोध के बावजूद भाजपा सरकार ने जबरन कृषि कानून पास कराया. इन काले कानूनों से किसानों को नुकसान ही नुकसान होंगे.

पूंजीपति हितैषी मोदी सरकार पूरी तरह से देश को कर रही बर्बाद : बन्ना गुप्ता

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि पूंजीपति हितैषी मोदी सरकार पूरी तरह से देश को बर्बाद कर रही है. चाहे व अर्थव्यवस्था हो या देश की सीमा, सभी जगहों केवल झूठे नारों से मोदी सरकार देश को खत्म करना चाहती है.

नये कृषि कानून से देश के किसानों को फायदा पहुंचने के मोदी सरकार के बयानों पर पलटवार करते हुए बन्ना ने कहा कि अगर ऐसा होता, तो आज एनडीए की सहयोग अकाली दल ने उनके साथ समझौता क्यों तोड़ा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसका जवाब देश को देना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – धोनी की पांच वर्षीय बेटी जीवा पर अभद्र टिप्पणी, रांची में धोनी के घर की बढ़ायी गयी सुरक्षा

हिडन एजेंडे के तहत कॉर्पोरेट घराने के लाभ वाले मसौदे पर रोड मैप तैयार कर रही भाजपा :  बादल 

कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि किसान हमारा वोट बैंक नहीं है, बल्कि इसे हम परिवार का सदस्य मानते है. किसानों के दुःख-दर्द से कांग्रेस परिवार को हमेशा लगाव रहा है. दूसरी तरह किसानों को बाजार का हिस्सा मानने वाली भाजपा आनन-फानन में तीन ऐसे कानून लेकर आयी, जिससे किसानों को केवल नुकसान ही होने वाला है.

बादल ने कहा कि कृषि राज्य का विषय है. लेकिन मोदी सरकार ने कानून लाने से पहले किसी भी राज्य से कोई विचार साझा नहीं किया. मंशा साफ है कि भाजपा जनभावना का ख्याल नहीं कर रही है, बल्कि एक हिडन एजेंडे के तहत कॉर्पोरेट घराने के लाभ वाले मसौदे पर रोड मैप तैयार कर रही है.

इसे भी पढ़ें – लॉकडाउन की मार, मोदी सरकार ने देश में बेरोजगारी की स्थिति का पता लगाने की कवायद शुरू की

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: