न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

महंगाई के मोर्चे पर माेदी सरकार की फतह, थोक महंगाई दर दस माह के न्यूनतम स्तर पर, 2.76 फीसद पर पहुंची

इससे पहले मंगलवार को खुदरा महंगाई के आंकड़े सामने आये थे. इन आंकड़ों के अनुसार खुदरा महंगाई दर जनवरी में घटकर 19 महीने के न्यूनतम स्तर पर आ गयी.  

17

NewDelhi :  मोदी सरकार ने कार्यकाल के आखिरी महीनों में महंगाई के मोर्चे पर फतह हासिल की है. नये आंकड़ों के बाद मोदी सरकार राहत की सांस ले सकती है.  बता दें कि दिसंबर 2018 के बाद अब जनवरी, 2019 की थोक महंगाई दर के आंकड़ों में भी गिरावट देखने को मिली है. दिसंबर के 3.08 फीसदी के मुकाबले जनवरी में थोक महंगाई दर 2.76 फीसद हो गयी. यह पिछले दस माह का न्यूनतम स्तर है. वहीं, सालाना आधार पर इसी महीने में थोक महंगाई दर 3.02 फीसदी थी. यानी सालाना आधार पर भी महंगाई से राहत मिली है. इससे पहले मंगलवार को खुदरा महंगाई के आंकड़े सामने आये थे. इन आंकड़ों के अनुसार खुदरा महंगाई दर जनवरी में घटकर 19 महीने के न्यूनतम स्तर पर आ गयी.  महीने दर महीने आधार पर जनवरी में खाद्य महंगाई दर 0.07 फीसदी से बढ़कर 1.84 फीसदी पर है तो वहीं प्राइमरी आर्टिकल्स की महंगाई दर 2.28 फीसदी से बढ़कर 3.54 फीसदी है. जबकि जनवरी में ईंधन और बिजली की महंगाई दर में बड़ी गिरावट आयी है और यह 8.38 फीसदी से घटकर 1.85 फीसदी पर है. यह गिरावट डीजल, पेट्रोल और एलपीजी की कीमतों के घटने से है.

जनवरी में फल, सब्जी और अंडे के दाम लगातार कम हुए

इसी अवधि में सब्जियों की थोक महंगाई दर -17.55 फीसदी के मुकाबले -4.21 फीसदी पर है. आलू की महंगाई दर 48.68 फीसदी से घटकर 6.30 फीसदी है. अगर नॉन फूड आर्टिकल्स की बात करें तो इसकी महंगाई दर 4.45 फीसदी से घटकर 4.06 फीसदी पर आ गयी है. जनवरी में मैन्युफैक्चर्ड प्रोडक्ट्स की थोक महंगाई दर 2.61 फीसदी पर रही है.  हालांकि, महीने दर महीने आधार पर जनवरी में दाल की महंगाई दर 2.11 फीसदी से बढ़कर 7.55 फीसदी पर आ गयी है. अंडों और मांस की थोक महंगाई दर 4.55 फीसदी के मुकाबले 5.47 फीसदी पर रही है.  फल, सब्जी समेत खाने-पीने का सामान सस्ता होने और ईंधन के दाम कम होने की वजह से ये आंकड़े जनवरी में घटकर 2.05 फीसदी पर आ गये. यह 19 महीने का निचला स्‍तर है. पिछले साल जनवरी में देखा जाये तो खुदरा मुद्रास्फीति 5.07 फीसदी थी. इस साल जनवरी में फल, सब्जी और अंडे के दाम लगातार कम हुए. इन खाने वाले सामान के दाम में क्रमश: 4.18, 13.32 फीसदी और 2.44 फीसदी की कमी आयी.

 आम जनता को फायदा

महंगाई दर के आंकड़ों में गिरावट का फायदा आने वाले दिनों में आम लोगों को मिल सकता है. दरअसल, इन आंकड़ों के आधार पर ही भारतीय रिजर्व बैंक रेपो रेट बढ़ाने या घटाने का फैसला करता है. महंगाई दर में कमी आने की स्थिति में आरबीआई अगली समीक्षा बैठक में एक बार फिर रेपो रेट में कटौती कर सकतl है. रेपो रेट में कटौती का मतलब यह हुआ कि आपकी होम लोन पर ब्‍याज दर भी कम हो जायेगी. बता दें कि हाल ही में महंगाई के नियंत्रण में होने की वजह से रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 0.25 आधार अंकों की कटौती की है. इसके बाद अब रेपो रेट 6.25 फीसदी पर है. वहीं, इस कटौती के बाद स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया ने होम लोन पर ब्‍याज दर भी कम कर दिये हैं.

इसे भी पढ़ें : नाटकीय विरोध, उपराज्यपाल किरण बेदी से नाराज पुडुचेरी के सीएम सड़क पर सो गये…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: