न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

SC/ST एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलट देगी मोदी सरकार, कैबिनेट ने दी संशोधन को मंजूरी

दलित अत्याचार कानून के मूल प्रावधानों को बहाल करने के लिए विधेयक को मंजूरी

1,107

New Delhi: SC/ST एक्ट में पुराने कानून को ही बहाल रखा जाएगा. इसमें किसी तरह को संशोधन नहीं होगा. मोदी कैबिनेट ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ संशोधन को मंजूरी दे दी है. बीजेपी सूत्रों ने बताया कि अदालत के फैसले को पलटते हुए केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने दलित अत्याचार कानून के मूल प्रावधानों को बहाल करने के लिए विधेयक को मंजूरी दी. अब संशोधन विधेयक को मौजूदा मानसून सत्र में पेश किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें-सेबी ने कोलकाता हाई कोर्ट में पोंजी स्कैम के आरोपी केडी सिंह के देश से भागने की आशंका जताई

20 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने दिया था एससी-एसटी एक्ट में बदलाव का आदेश

20 मार्च को सुप्रीम कोर्ट की दो सदस्यीय बेंच ने SC/ST एक्ट में बड़े बदलाव का आदेश दिया था. जस्टिस एके गोयल और जस्टिस उमेश ललित की पीठ ने आदेश दिया था कि किसी आरोपी को दलितों पर अत्याचार के मामले में प्रारंभिक जांच के बिना गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है. पहले केस दर्ज होने के बाद तुरंत गिरफ्तारी का प्रावधान था. आदेश के मुताबिक, अगर किसी के खिलाफ एससी/एसटी उत्पीड़न का मामला दर्ज होता है, तो वो अग्रिम जमानत के लिए आवेदन कर सकेगा.

इसे भी पढ़ेंः एनआरसी पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, घुसपैठियों के खिलाफ अंतिम फैसले तक कार्रवाई नहीं करें

विपक्षी दलों ने सरकार पर लगाए थे गंभीर आरोप

कांग्रेस, आरजेडी, बसपा और तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि सुप्रीम कोर्ट में सरकार मे मजबूती से पक्ष नहीं रखा इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने एससी-एसटी समाज के खिलाफ फैसला दिया. दलित चिंतकों और एनडीए में शामिल लोजपा और रामदास आठवले ने भी सरकार से तुरंत पुनर्विचार याचिका दायर करने का दबाव डाला. सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की. इसके बावजूद दलित संगठनों ने सड़कों पर आंदोलन किया था. आंदोलन के दौरान हुई हिंसा में कई लोगों की मौत हो गई थी, सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया था.

एससी-एसटी पर SC के फैसले के खिलाफ अध्यादेश लाएगी मोदी सरकार
SC के फैसले के खिलाफ मॉनसून सत्र में  अध्यादेश लाएगी मोदी सरकार

एलजेपी, आरपीआई और बीजेपी के दलित सांसदों ने की थी अध्यादेश लाने की मांग

रामविलास पासवान, चिराग पासवान, रामदास अठावले और बीजेपी के कई दलित सांसदों ने सरकार से अध्यादेश लाने की मांग की थी. रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी ने SC/ST एक्ट पर फैसला देने वाले जस्टिस एके गोयल को एनजीटी का अध्यक्ष बनाए जाने के फैसले का भी विरोध किया है. चिराग पासवान ने प्रधानमंत्री मोदी को चिट्ठी लिखकर जस्टिस गोयल को एनजीटी के अध्यक्ष पद से बर्खास्त करने की मांग की है.

इसे भी पढ़ेंःकहीं जुमला बनकर न रह जाये सीएम रघुवर दास की वर्ल्ड क्लास घोषणाएं

मॉनसून सत्र में मोदी सरकार लाएगी अध्यादेश

बीजेपी सूत्रों का कहना है कि SC/ST एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने के लिए मोदी सरकार इसी मॉनसून सत्र में अध्यादेश लाएगी. अध्यादेश को कैबिनेट की सहमित मिल चुकी है. मोदी सरकार के फैसले के बाद एससी-एसटी संगठनों की ओर से प्रस्तावित विरोध थमने की उम्मीद है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: