न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बेलऑउट पैकेज से इनकार कर चुकी मोदी सरकार अब #BSNL और #MTNL को बंद करने की सोच रही

करीब पौने दो लाख लोगों की जा सकती है नौकरी

1,360

New Delhi: घाटे में चल रही सरकारी टेलीकॉम कंपनियां BSNL और MTNL को केंद्र की मोदी सरकार बंद करने के पक्ष में है. पौने दो लाख लोगों को रोज़गार देने वाली कंपनियां बंद हो रही है.

बीएसएनएल और एमटीएनएल के लिए 74 हजार करोड़ के बेलआउट पैकेज से पहले ही इनकार कर चुकी सरकार अब इसे बंद करने का सोच रही है.

इसे भी पढ़ेंः#BJP विधायक ढुल्लू महतो सहित पांच को डेढ़ साल की सजा, बरोरा थानेदार की वर्दी फाड़ने का मामला

वित्त मंत्रालय ने घाटा झेल रही दोनों कंपनियों को बंद करने की सलाह दी है. क्योंकि कंपनी को बंद करने पर 95 हजार करोड़ की लगात का अनुमान है. ये लागत बीएसएनएल और एमटीएनएल को बंद करने पर 1.65 लाख कर्मचारियों को रिटायरमेंट प्लान देने और कंपनी का कर्ज चुकाने की स्थिति में आयेगी.

1.65 लाख कर्मचारियों की जायेगी नौकरी !

गौरतलब है कि दोनों सरकारी टेलीकॉम कंपनियों में तीन प्रकार के कर्मचारी हैं. एक वो, जिन्हें कंपनी द्वारा सीधे तौर पर नियुक्त किया जाता हैं.

Related Posts

#TTPS नियुक्ति घोटाले के साक्ष्य न्यूज विंग के पास, पूर्व एमडी के खिलाफ जांच समिति ने नहीं सौंपी तय समय पर अपनी रिपोर्ट

विभाग की सचिव वंदना डाडेल ने समिति को जांच कर रिपोर्ट दो महीने में सौंपने को कहा था. लेकिन अभी तक समिति ने जांच रिपोर्ट विभाग को नहीं सौंपी है.

WH MART 1

इसे भी पढ़ेंः#TRAI ने इंटरकनेक्ट यूजेज चार्ज 58 फीसदी घटाकर जियो को पहुंचाया फायदा

दूसरे वो कर्मचारी, जो दूसरी पीएसयू कंपनियों से या विभागों से बीएसएनएल और एमटीएनएल में शामिल किए गए हैं और तीसरी तरह के वो कर्मचारी इंडियन टेलीकम्यूनिकेशंस सर्विस (ITS) के अधिकारी हैं.

अगर बीएसएनएल और एमटीएनएल को बंद किया जाता है तो ITS अधिकारियों को दूसरे सरकारी कंपनियों में नौकरी दी जा सकती है.

जबकि कर्मचारी बीएसएनएल और एमटीएनएल द्वारा सीधे बहाल किए गए कर्मचारी जूनियर स्तर के हैं और उनकी तनख्वाह भी ज्यादा नहीं है और ये पूरे स्टाफ के सिर्फ 10% हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि सरकार ऐसे कर्मचारियों को जबरन रिटायरमेंट दे सकती है, जिसमें कुछ लागत जरुर आएगी.

खबर है कि बीएसएनएल और एमटीएनएल को बंद करने के पीछे सरकार की सोच ये है कि टेलीकॉम इंडस्ट्री में जारी आर्थिक संकट के समय में कोई कंपनी शायद ही सरकारी कंपनियों में निवेश करने पर विचार करे.

इसे भी पढ़ेंःरांची: पेट्रोल पंप पर हथियार के बल पर बेखौफ अपराधियों ने की 9 लाख की लूट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like