न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोदी सरकार ने साढ़े चार साल में विज्ञापनों पर खर्च किये 5245.73 करोड़

केंद्र सरकार ने सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में कुल 5245.73 करोड़ रुपये खर्च किये हैं. यह राशि वर्ष 2014 से लेकर सात दिसंबर 2018 तक की अवधि में  खर्च की गयी है. 

1,234

NewDelhi : मोदी सरकार ने अपने अब तक के कार्यकाल में सरकारी योजनाओं के प्रचार प्रसार में कुल 5245.73 करोड़ रुपये खर्च किये हैं. केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने गुरुवार को लोकसभा में यह जानकारी दी. उऩ्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में कुल 5245.73 करोड़ रुपये खर्च किये हैं. यह राशि वर्ष 2014 से लेकर सात दिसंबर 2018 तक की अवधि में  खर्च की गयी है. लोकसभा में इस मामले से जुड़े एक सवाल का जवाब देते हुए राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की योजनाओं को लाभार्थियों के बीच पहुंचाने के लिए यह राशि खर्च की गयी है. इन योजनाओं के बारे में प्रचार और जागरूकता के लिए प्रिंट, इलेक्ट्रोनिक और आउटडोर मीडिया का सहारा लिया गया है.

राज्यवर्धन सिंह ने सरकार की ओर से प्रचार पर खर्च की गयी राशि की जानकारी लोकसभा में देते हुए  बताया कि प्रचार-प्रसार में सर्वाधिक खर्च वर्ष 2017-18 में खर्च किया गया, इस वर्ष कुल 1313.57 करोड़ रुपए खर्च किये गये. जिसमें से 636.09 करोड़ रुपए प्रिंट माध्यम, 468.93 करोड़ इलेक्ट्रॉनिक माध्यम, 208.55 करोड़ रुपए आउटडोर पब्लिसिटी पर खर्च किये गये हैं.

आंकड़ा सात दिसंबर तक 2018 तक का है

बता दें कि सरकार ने जो आंकड़ा जारी किया है, वह सात दिसंबर तक 2018 तक का है. सरकार द्वारा जारी आंकड़े पर गौर करें तो साल 2014-15 में सरकार ने लगभग 980 करोड़ (979.78 करोड़) रुपये विज्ञापनों पर ख़र्च किये थे. 2017-18  में लगभग 33-35 फीसदी का इजाफा हुआ और यह रक़म बढ़कर करीब 1,314 करोड़ रुपये (1313.57) हो गयी.  विभिन्न मंत्रालयों और विभागों की योजनाओं के प्रचार पर सूचना, शिक्षा और संचार के माध्यम से रकम खर्च की गयी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: