JharkhandRanchi

घर लौटे प्रवासी मजदूरों और आने वाले मानसून को देखकर राज्य को विशेष राहत पैकेज दे मोदी सरकार :  कांग्रेस

Ranchi  :  मानसून शुरू होने के पहले राज्य के किसानों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने केंद्र की मोदी सरकार से एक बड़ी राहत देने की मांग की है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव के निर्देश पर पार्टी ने यह मांग केंद्र से की है. झारखंड प्रदेश कांग्रेस राहत निगरानी समिति की बैठक में यह बात कांग्रेस प्रवक्ताओं के द्वारा कही गयी.

प्रवक्ता अलोक कुमार दुबे ने बताया है कि झारखंड प्रदेश कांग्रेस राहत निगरानी समिति ने लाकडाउन-1 से लेकर 3 तक की अवधि में हर निर्धन और जरूरतमंद परिवारों को राशन उपलब्ध कराया है. विशेषतौर पर मुख्यमंत्री दीदी किचन के माध्यम से पूरे राज्य में 1.56 करोड़ थालियां परोसी गयी हैं.

लेकिन चूंकि राज्य में बाहर फंसे कई मजदूर घर लौटे हैं. वहीं मानसून का आगमन जल्द होने वाला है. ऐसे में केंद्र सरकार को चाहिए कि राज्य को जल्द से जल्द एक विशेष राहत पैकेज दे.

advt

इसे भी पढ़ेंः  रिक्शा चोरी के बाद लॉकडाउन में मांग रहा भीख, सीएम ने बनाया रिक्शा वाला

रोजगार के लिए हर पंचायत में शुरू हुईं सरकारी योजनाएं

पार्टी प्रवक्ता लाल किशोरनाथ शाहदेव ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष सह खाद्य आपूर्ति एवं वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव के मार्गनिर्देशन में लॉकडाउन के दौरान प्रत्येक निर्धन और जरूरतमंद परिवारों को सरकार की ओर से अनाज उपलब्ध कराने में सफलता मिली.

वहीं कांग्रेस विधायक दल के नेता सह ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के नेतृत्व में राज्य में अबतक करीब 2.90 लाख मजदूरों को गांव-पंचायत में ही रोजगार उपलब्ध कराने के लिए हर पंचायत में सरकारी योजनाओं की शुरुआत की गयी है.

इन योजनाओं के माध्यम से जहां ग्रामीणों को बड़ी संख्या में रोजगार मिल रहा है, वहीं जल संरक्षण और मनरेगा योजनाओं के पूर्ण होने से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती भी मिलेगी.

adv

मानसून को देख अभी से युद्धस्तर पर तैयारी जरूरी

लालकिशोर शाहदेव ने कहा कि इस महीने के अंतिम सप्ताह या जून के प्रारंभ में मॉनसून की भी शुरुआत हो जाएगी. ऐसे में किसानों को समय पर बीज, खाद और अन्य सुविधाएं मिल सके. इसके लिए अभी से युद्धस्तर पर प्रयास शुरू किए जा रहे हैं. कृषि मंत्री बादल द्वारा किसानों के खेत को ट्रैक्टर द्वारा जोतने की सुविधा उपलब्ध कराने और अन्य सहयोग उपलब्ध कराने की घोषणा पहले ही की जा चूकी है. लेकिन जरूरी है कि केंद्र भी राज्य को एक विशेष राहत पैकेज दें.

प्रवासी मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराना बेहतर कदम

उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार ने लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों की घर वापसी सुनिश्चित कराने का सराहनीय प्रयास किया है. बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक, गुजरात, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश जैसे अत्याधिक संक्रमित राज्यों से वापस लौट रहे हैं.

वापस लौटने वाले प्रवासी मजदूरों की जांच की समुचित व्यवस्था संक्रमण को देखते हुए पहले हीं मुकम्मल की गयी और उन्हें होम क्वारंटाइन में रखने और फिर इन मजदूरों को भी राज्य के उद्योग धंधे के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराने का निर्णय स्वागत योग्य कदम है.

इसे भी पढ़ेंः भारत बॉयोटेक कंपनी को जानिये, जिसके साथ मिलकर ICMR कर रही है कोरोना वैक्वेसीन का निर्माण

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button