JharkhandLead NewsRanchi

रांची के नगड़ी और कुच्चू पीएचसी में बनाये जायेंगे मॉडर्न लेबर रूम, 10 लाख रुपये देगी आईओसीएल

जिला प्रशासन ने इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के साथ किया एमओयू

Ranchi: रांची जिला के नगड़ी और कुच्चू पब्लिक हेल्थ सेंटर (पीएचसी) में मॉडल लेबर रूम विकसित किया जाएगा. इसे लेकर रांची जिला प्रशासन ने इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के साथ एमओयू किया है.रांची जिला प्रशासन की ओर से उपायुक्त  छवि रंजन और इंडियन ऑयल कारपोरेशन लिमिटेड की ओर से प्रमोद रंजन, डीजीएम (एचआर सीएसआर) आईओसीएल ने एमओयू पर साइन किया. इस दौरान उप विकास आयुक्त अनन्य मित्तल, सिविल सर्जन वीबी प्रसाद एवं इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के डीलर और डिस्ट्रीब्यूटर उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें :अस्पतालों को ससमय रिपोर्ट समर्पित करने का डीसी ने दिया निर्देश

सीएसआर के तहत सहयोग कर रही आईओसीएल

ram janam hospital
Catalyst IAS

नगड़ी और कुच्चू के पीएचसी में मॉडल लेबर रूम विकसित करने का काम इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी यानी सीएसआर के तहत कर रहा है. इस प्रोजेक्ट के लिए आईओसीएल सीएसआर मद से 10 लाख रुपये देगी.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :झारखंड में स्टेपनी के सहारे घिसट रही कांग्रेस की गाड़ी, पार्टी में गुटबाजी चरम पर

आगे भी जारी रहेगा सहयोग : डीजीएम- आईओसीएल

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के डीजीएम प्रमोद रंजन ने कहा कि सीएसआर के तहत कंपनी आगे भी विभिन्न प्रोजेक्ट में रांची जिला प्रशासन का सहयोग करती रहेगी. विभिन्न परियोजनाओं के लिए रांची जिला प्रशासन की ओर से मिलने वाले सहयोग की भी उन्होंने सराहना की. सीएसआर के तहत विभिन्न प्रोजेक्ट में रांची जिला प्रशासन के सहयोग के लिए रांची डीसी छवि रंजन ने आईओसीएल का धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा इस प्रोजेक्ट के तहत चार पीएचसी में मॉडर्न लेबर रूम विकसित करने का प्रस्ताव था पर हम दो के साथ इसकी शुरुआत कर रहे हैं. आने वाले दिनों में भी आईओसीएल का सहयोग हमें प्राप्त होता रहेगा.

दो दिन पहले ही आईओसीएल ने सीएसआर के तहत रेलवे को एंबुलेंस उपलब्ध कराया है, जो रांची रेलवे स्टेशन पर 24 घंटे उपलब्ध रहेगी. इससे संबंधित एमओयू पिछले साल जिला प्रशासन और आईओसीएल के बीच हुआ था.

इसे भी पढ़ें :स्मार्ट विलेज स्कीम की चाल सुस्त, CM Smart Village बुंडू के लिये 25 लाख का DPR बनाने में ही लगा दिये दो साल

Related Articles

Back to top button