न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मॉब लिंचिंगः बच्चा चोरी की अफवाह में पांच लोगों की पीटकर हत्या, 23 गिरफ्तार

2,104

Dhule: महाराष्ट्र के धुले जिले के साक्री तालुका में रविवार को बच्चा चोरी की अफवाह पर बेकाबू हुई भीड़ ने 5 लगों को पीट-पीटकर मार डाला. इस मामले में पुलिस ने 23 लोगों को गिरफ्तार किया है.  मारे गये सभी लोग घुमंतू कबीले के बताये जा रहे है, जो सोशल मीडिया पर बच्चा चोरी की फैली अफवाह का शिकार हो गये. दरअसल, बीते एक हफ्ते से धुले जिले में बच्चा चुराने वाले गिरोह के सक्रिय होने की अफवाह उड़ी हुई थी और इसी अफवाह के कारण हजारों की संख्या में लोगों ने कानून अपने हाथ में लेते हुए पांच लोगों को पीट-पीटकर जान से मार दिया.

इसे भी पढ़ेंः पुलिस आधुनिकीकरण पर करोड़ों खर्च और जवानों की दुर्दशा, ऊपर भी पानी-नीचे भी पानी (देखें वीडियो)

पुलिस की अबतक की जांच में पता चला है कि सोशल मीडिया पर एक सप्ताह से बच्चा चोर गिरोह के सक्रिय होने की अफवाह थी. वही एक भीड़ साप्‍ताहिक बाजार में बच्चा चोरी करने वालों की खोजबीन में जुटी थी, तभी उन्‍होंने एक व्‍यक्ति को बच्‍ची से बात करते देखा. भीड़ ने उस व्‍यक्ति से कई सवाल पूछे और संतोषजनक जवाब नहीं देने पर उसे पीट-पीटकर मार डाला. हालांकि, इस दौरान पुलिस ने उन्‍हें बचाने का प्रयास किया लेकिन भीड़ के आगे पुलिस बेबस दिखी. पुलिस ने बताया कि एक सरकारी बस से 5 लोग उतरे. इनमें से एक व्‍यक्ति ने वहां मौजूद एक बच्‍ची से बात करन चाही, जिसके बाद ग्रामीणों को उनके बच्चा चोर होने का शक हुआ. इसे लेकर भीड़ हिंसक हो गई.

इस घटना में तीन पुलिसवालों के घायल होने की भी खबर है.  वही अब तक 23 लोगों को हिरासत में लिया गया है. गांव में बड़ी संख्‍या में पुलिस बल तैनात किया गया है. वही पुलिस कार्रवाई के डर से बड़ी संख्‍या में ग्रामीण गांव छोड़कर चले गए हैं. बता दें कि बच्चा चोरी के शक में देश में ऐसी कई घटनाओं को अंजाम दिया जा चुका है. पिछले कुछ महीनों में देश के 11 राज्‍यों में अब तक 27 लोगों की भीड़ ने हत्‍या कर दी है. मॉब लिचिंग की ये घटनाएं अगरतला, अहमदाबाद, रायपुर, माल्‍दा, औरंगाबाद, गुवाहाटी और हैदराबाद में हुई हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: