JharkhandLateharMain Slider

मनरेगा : एक ही योजना को तीन नामों से चलाकर किया जा रहा राशि का गबन

  • मनरेगा कर्मी हैं हड़ताल पर, आखिर किसकी शह पर निकल रहा फर्जी मास्टर रोल, सीएम जांच करायें: जेम्स हेंरेज

Pravin Kumar

Ranchi: झारखंड सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध कराने के लिए मनरेगा को कारगर औजार मान रही है. लेकिन इस योजना के क्रियान्वयन में जमकर फर्जीवाड़ा किया जा रहा है. वरीय अधिकारियों की ओर से दिये गये टारगेट को पूरा करने के लिए फर्जी मास्टर रोल निकाले जा रहे हैं.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इतना हीं नहीं, जिन योजनाओं में एक माह से कोई काम नहीं हुआ, वहां भी मजदूरी का भुगतान करने के साक्ष्य सामने आये हैं. और तो और, एक ही योजना को अलग-अलग नामों से भी चलाया जा रहा है.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

मामला लातेहार जिले के महुआडांड़ प्रखंड का है जहां कागजों पर फर्जी मास्टर रोल निकाल योजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है. वहीं कार्यस्थल पर मजदूर नहीं दिखने के बाद भी मजदूरी भुगतान बदस्तूर जारी है. प्रखंड में मनरेगा योजना में की जा रही गड़बड़ी को लेकर प्रखंड विकास पदाधिकारी से भी शिकायत की गयी थी लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई.

इसे भी पढ़ें – नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला गिरफ्तार, शिक्षा विभाग के कई कर्मियों पर भी शक

एक नाला जीर्णोद्धार का काम तीन नामों से चलाकर किया गया गबन

मनरेगा : एक ही योजना को तीन नामों से चलाकर किया जा रहा राशि का गबन जिले के महुआडांड़ प्रखंड स्थित दुरूप पंचायत के लुरगुमी ग्राम में नाला जीर्णोधार की योजना ली गयी थी. इसमें एक ही नाले का काम तीन योजनाओं के नाम से किया जा रहा है.

पहली योजना सबीर अंसारी के खेत से बंधा किसान के खेत तक नाला जीर्णोधार की है जिसकी योजना संख्या 3406007007/आइसी/9010261233 है. इसमें कुल 8730 रुपये का मजदूरी भुगतान कर दिया गया है. वहीं आखिरी मास्टर रोल 10 अगस्त से 16 अगस्त 2020 तक का निकाला गया है.

इसी नाले में दूसरी योजना बंधा किसान के खेत से लतीफ अंसारी के खेत तक नाला जीर्णोधार की है जिसकी योजना संख्या 3406007007/आइसी/9010261234 है. इसमें 11058 रुपये की मजदूरी का भुगतान किया गया है. इसमें भी 10 अगस्त से 16 अगस्त 2020 तक के लिए फर्जी मास्टर रोल निकाले गये.

इसी नाले में तीसरी योजना भी मनरेगा के तहत चलायी जा रही है जिसकी योजना संख्या 3406007007/आइसी/9010261235 है. इसमें भी 11 हजार 252 रूपये खर्च किये गये हैं जबकि आखिरी मास्टर रोल 5 अगस्त से 11 अगस्त 2020 तक निकाला गया है.

नाला जीर्णोधार में ऐसे किया जा रहा मनरेगा राशि का गबन

एक ही नाले पर तीन योजनायें मनरेगा के तहत चलायी जा रही हैं. इन तीनों योजनाओं की लम्बाई बराबर है. इनकी योजना संख्या 3406007007/आईसी/9010261233, 3406007007/आई सी/9010261234 और 3406007007 /आईसी/9010261235 है. स्थानीय ग्रामीणों के अनुसार इन तीनों योजनाओं में कुल 12 मजदूरों ने दो दिन काम किया. करीब 30 हजार के भुगतान के बाद भी फर्जी मस्टर रोल निकाल कर योजना राशि का गबन किया जा रहा है.

खेल मैदान की योजना में फर्जी मास्टर रोल धड़ल्ले से निकाले गये

मनरेगा : एक ही योजना को तीन नामों से चलाकर किया जा रहा राशि का गबन चटकपुर पंचायत में बूढ़ा नदी के पास खेल मैदान मनरेगा योजना के तहत बनाया जा रहा है. इसकी योजना संख्या 3406007002/AV/ 7080901165661 है. इस योजना कुछ काम हुए हैं लेकिन 7 अगस्त से योजना स्थल पर कोई काम नहीं चल रहा है. योजना लगत 2.63 लाख है.

इसमें फर्जी मास्टर रोल निकाल दो लाख के करीब खर्च कर दिये गये. योजना में आखिरी मास्टर रोल 2 अगस्त से 8 अगस्त तक का (5477 से 5480) निकाले गये जबकि इस दौरान खेल मैदान में कोई काम नहीं हुआ है. योजना स्थल पर पानी भी जमा है.

वहीं टेवा खेत नाली से भांग झरिया नाली तक नाला जीर्णोद्धार का काम भी चल रहा है जिसमें 5 अगस्त से 11 अगस्त के लिए मस्टर रोल संख्या 5837 निकाली गया. इसका योजना कोड 3406007002/CI/ 9010260880 है.

भांग झरिया नाला से खरवा मैदान तक नाला जीर्णेद्धार का काम कागजों में चल रहा है जिसका योजना कोड 3406007002/ IC/9010260882 है. वही लखबीर सिंह की टीसीबी निर्माण योजना भी कागजों में चल रही है. इन दोनों योजनाओं का भी फर्जी मास्टर रोल 2 अगस्त से 8 अगस्त के बीच निकाला गया जिसमें किसी मजदूर ने काम नहीं किया है.

इसे भी पढ़ें – धर्मेंद्र तिवारी को तीरंदाजी का द्रोणाचार्य पुरस्कार, आर्चरी में झारखंड के खाते में तीसरा अवार्ड

पांच टीसीबी योजना में भी फर्जी मास्टर रोल निकाल कर काम दिखाया गया

महुआडांड़ प्रखंड की दुरूप पंचायत में भी ऐसी पांच योजनाएं कागजों में चलती पायी गयीं. इसकी योजना संख्या 30406007006 /IF/ 7080901422787, योजना संख्या 3406007007 /IF / 7080901431331, 3406007007/ IF/ 7080901431333, 3406007007/IF/ 7080901431346 एवं 3406007007/IF / है. इन पांचो योजनाओं का मास्टर रोल 2 अगस्त से 9 अगस्त का निकाला गया जिसमें कोई भी मजदूर काम पर नहीं करते पाये गये.

क्या कहते हैं नरेगा वाच के संयोजक जेम्स हेंरेज

नरेगा वाच के संयोजक जेम्स हेंरेज ने कहा- लातेहार जिला में मनरेगा योजना कागजों पर चल रही है. फर्जी मास्टर रोल निकालकर मजदूरों को काम की उपलब्धता दिखायी जा रही है. ऐसी कई योजनाएं जिले में देखी जा सकती हैं. अगस्त में मनरेगा कर्मी हड़ताल पर हैं. ऐसे में किस अधिकारी की शह पर फर्जी मास्टर रोल निकालकर मनरेगा योजनाओं का क्रियान्वयन कागजों पर किया जा रहा है, इसकी जांच हेमंत सरकार को करानी चाहिए.

क्या कहते हैं लातेहार के उप विकास आयुक्त

महुआडांड़ प्रखंड में मनरेगा योजना में की जा रही गड़बड़ी को लेकर एसडीओ को जांच का आदेश दिया गया है. जल्द ही पूरे मामले की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें – सरायकेला: झारखंड राज्य सहकारी बैंक में 2.50 करोड़ के घोटाले की जांच करेगी CID

8 Comments

  1. Very good article! We are linking to this particularly great content on our site. Keep up the great writing.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button