JharkhandLead NewsRanchi

कृषि बिल के विरोध में सड़क में दिखे विधायक और मंत्री, कुछ ने ट्वीट के जरिये ही किया समर्थन

  • कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने बंद के एक दिन पहले ही कहा, किसानों के लिए डेथ वारंट है बिल

Ranchi : किसानों के समर्थन में भारत बंद का राज्य में मिला जुला असर देखा गया. कृषि कानून के विरोध में बंद को कांग्रेस, जेएमएम, राजद समेत वामदलों ने समर्थन किया. इस नेताओं ने सड़क पर उतर कर बंद का समर्थन किया.

वहीं लोगों से दुकानें आदि बंद रखने की अपीली की. इस दौरान कृषि मंत्री बादल पत्रलेख, जामताड़ा विधायक इरफान असंारी, सीता सोरेन और महुआ माजी ने रांची में, बगोदर विधायक विनोद सिंह, ममता देवी रामगढ़ से कांग्रेस विधायक, संजीब सरदार पोटका और दीपिका पांडेय सिंह महगामा विधायक समेत अन्य ने सड़क पर उतर कर बंद का समर्थन किया. वहीं अंबा प्रसाद समेत अन्य विधायकों ने ट्वीट कर बंद का समर्थन किया.

ram janam hospital
Catalyst IAS

नेताओं के साथ लेागों का जनसैलाब भी देखा गया. बता दें राष्ट्रीय स्तर पर अखिल भारतीय किसान संर्घष मोर्चा की ओर से बंद का आह्वान किया गया है. जिसके समर्थन में देश भर के पांच सौ अधिक किसान संगठन और राजनीतिक दल है.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

वहीं राज्य में बंद झारखंड राज्य किसान सभा की ओर से की गयी. हालांकि बंद के दौरान जहां राजधानी रांची में असर मिला जुला रहा. वहीं गढ़वा, जामताड़ा, पलामू, दुमका जैसे जिलों में बंद असरदार रहा. हाइवे में भी बंद समर्थकों ने सड़क जाम किया.

इसे भी पढ़ें : भारत बंदः झारखंड Live: कई जगहों पर सड़क जाम, मंत्री भी उतरे सड़क पर

नेताओं ने कहा, केंद्र सरकार का गलत फरमान

अपने समर्थकों के साथ सड़क पर उतरे नेताओं ने केंद्र की मोदी सरकार का विरोध किया. नेताओं और विधायकों का दो टूक रहा कि कृषि बिल केंद्र सरकार का गलत फरमान है. जिसे केंद्र सरकार को वापस लेना ही होगा.

कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने बंद के एक दिन पहले ही कृषि बिल को किसानों और देश की जनता का डेथ वारंट बताया था. अपने अपने क्षेत्र से नेताओं का बल रहा कि केंद्र सरकार कृषि कानून को वापस लें. मंगलवार को अधिकांश विधाकयकों और मंत्रियों के ट्वीटर अकाउंट में स्टैंड विद किसान और भारत बंद हैस टैग देखा गया.

इसे भी पढ़ें : सासाराम जाने वाले यात्रियों के लिए शाम पांच बजे रांची रेलवे स्टेशन से ट्रेन

कई जगहों में हुई तोड़फोड़

इस दौरान जामताड़ा में प्रदर्शनकारियों की ओर से तोड़ फोड़ करने की सूचना है. वहीं दुमका में कुछ लोगों को गिरफ्तार करने की सूचना है. बंद समर्थकों की मानें तो बंद के दौरान कोल खनन, ट्रांसपोर्टिंग, यातायात, हाइवे परिवहन आदि बंद रखा गया.

राजधानी में डेली मार्केट इलेक्ट्रोनिक्स एसोसिएशन, फल मंडी विक्रेता संघ, डेली मार्केट टेड्रर एसोसिएशन समेत अन्य संघों ने इसके समर्थन में दुकानें बंद रखी.

इसे भी पढ़ें : भारत बंद : तमिलनाडु, पुडुचेरी में द्रमुक, कांग्रेस का प्रदर्शन, भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर को UP पुलिस ने अरेस्ट किया

बंद का व्यापक असर

पूरे राज्य मे बंद के दौरान साहेबगंज से लेकर गढ़वा तक और पश्चिमी सिंहभूम से लेकर कोडरमा तक बंद का व्यापक असर रहा.

झारखंड से गुजरने वाले तमाम राष्ट्रीय राजमार्ग पर पूर्वाह्न 11बजे से दोपहर एक बजे तक वाहनों को आवागमन ठप्प रहा. बड़े और छोटे सभी प्रकार के प्रतिष्ठान और दुकान बंद रहे. कोयला, लौह अयस्क और बाक्साइट की ढुलाई बुरी तरह प्रभावित रही.

इसे भी पढ़ें : पलामू: बारात से लौट रही बस की छत पर सामान देखने चढ़े युवक को लगा करंट, मौत

Related Articles

Back to top button