न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विधायक नवीन जायसवाल ने डोरंडा थाना में बाबूलाल मरांडी पर दर्ज करायी शिकायत

1,550

Ranchi: जेवीएम सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी द्वारा जेवीएम के छह विधायकों को 11 करोड़ रुपये में खरीदने के आरोप लगाने के बाद झारखंड में राजनीतिक गरमी बढ़ी हुई है. मरांडी ने भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वर्तमान में कोडरमा से सांसद रविंद्र राय द्वारा राष्ट्रीय अध्यक्ष को लिखा गया एक पत्र राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू को सौंपा था. इसके बाद से बीजेपी कार्यालय में प्रदेश प्रवक्ता रोज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं औऱ बाबूलाल मरांडी पर आरोप लगा रहे हैं. इस बीच सोमवार को हटिया विधायक नवीन जायसवाल डोरंडा थाना पहुंचे. नवीन जायसवाल ने बाबूलाल मरांडी के खिलाफ एक शिकायत पत्र डोरंडा थाना प्रभारी को सौंपा. जिसमें श्री मरांडी पर कई तरह के आरोप लगाये गये हैं. नवीन जायसवाल ने थाना प्रभारी से आग्रह किया है कि बाबूलाल मरांडी के खिलाफ भादवि की धारा 192, 193, 194,  406,  420, 467, 468, 471 और 120 बी के तहत मामला दर्ज किया जाए. नवीन जायसवाल के आवेदन पर पुलिस ने स्टेशन डायरी इंट्री करके प्राथमिकी दर्ज करने की  कार्रवाई शुरु कर दी है.

इसे भी पढ़ें – रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन के कार्य में लगीं एजेंसियों को सीएम की खरी-खरी, कहा- समय पर काम पूरा करें, नहीं…

नवीन जायसवाल की थाना प्रभारी को चिट्ठी

विधायक नवीन जायसवाल ने जो आवेदन थाना प्रभारी को लिखा है, उसमें उन्होंने लिखा है कि बाबूलाल मरांडी अध्यक्ष झारखंड विकास मोर्चा ने बदनियती और आपराधिक षड्यंत्र रचते हुए जाली दस्तावेज तैयार कर माननीय विधानसभा अध्यक्ष के कोर्ट में चल रहे मामले को प्रभावित करने और नाहक राजनीति कर सनसनी फैलाने की कोशिश की है. ऐसा कर वो राजनीतिक लाभ प्राप्त करने की नीयत और संबंधित मामले में झूठा साक्ष्य प्रस्तुत करने की नियत से तत्कालीन अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी झारखंड प्रदेश रविंद्र कुमार राय का जाली हस्ताक्षर और जाली लेटर पैड की मदद से फोटो अथवा कंप्यूटर तकनीक का गैरवाजिब इस्तेमाल कर एक जाली पत्र तैयार किया है. उसको बाबूलाल ने सार्वजनिक किया. ऐसी साजिश की गई है कि जाली पत्र के आधार पर विधानसभा में चल रहे मामले को अपने पक्ष में प्रभावित किय़ा जा सके.

इसे भी पढ़ें – इक्फाई यूनिवर्सिटी को छह महीने का अल्टीमेटम, सरकार ने कहा स्थाई कैंपस बनायें, नहीं तो होगा एक्शन

इस पूरे प्रकरण में मेरा नाम भी बाबूलाल ने घसीटा है. ऐसा करने से मैं दुखी हूं.

नवीन जायसवाल ने अपने आवेदने में लिखा है कि बाबूलाल के ऐसा करने से मेरे विधानसभा क्षेत्र में इसकी काफी चर्चा हो रही है और इससे मेरी काफी बदनामी हुई है. इस बदनामी का आधार ही झूठा है. ऐसे में बाबूलाल मुझे फोन कर या मेरे विधानसभा क्षेत्र में आकर बतायें कि ऐसा उन्होंने क्यों किया. उन्होंने कहा कि 19 जनवरी 2015 की जिस चिट्ठी को प्रेस में जारी किया गया है. उसे बाबूलाल ने विधानसभा में प्रस्तुत करने की योजना बनाई है. वह उनकी एक गैरजिम्मेदाराना हरकत है, क्योंकि उसमें रविंद्र राय जी को भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा का उपाध्यक्ष दिखाया गया है. जबकि हस्ताक्षर प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर की गयी है. इस चिट्ठी को इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी का सहारा लेकर तैयार किया गया है. इसमें कोई सच्चाई नहीं है. इसलिए बाबूलाल मरांडी पर भादवि धारा 192, 193, 194, 406, 420, 467, 468, 471 और 120 बी के तहत मामला दर्ज किया जाए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: