न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विधायक इरफान ने कहा- मंत्री लुईस के डीएनए में गड़बड़ी, मंत्री ने भेजा 15 करोड़ का मानहानि का नोटिस

936

Ranchi : झारखंड सरकार में महिला बाल कल्याण विभाग की मंत्री लुईस मरांडी ने कांग्रेस से जामताड़ा विधायक को 15 करोड़ रुपये का मानहानि का नोटिस भेजा है. जानकारी के मुताबिक, मंत्री लुईस मरांडी ने विधायक इरफान अंसारी को बुधवार को ही यह नोटिस भेजा है. इधर, विधायक इरफान अंसारी ने किसी तरह का नोटिस मिलने से इनकार किया है. बताते दें कि जामताड़ा में कुछ लोगों को संबोधित करते हुए इरफान अंसारी ने कहा था कि बड़ा आश्चर्य होता है मुझको, राजनीति में हमलोग इसलिए नहीं आये हैं कि सच को देखने के बाद भी हमलोग आंख बंद कर लें. लुईस मरांडी कहती हैं कि भूमि अधिग्रहण बिल अच्छा है. बड़ी शर्म आती है हमको. आप (लुईस मरांडी) एक आदिवासी मंत्री हैं और कहती हैं कि बिल अच्छा है. मैं तो यह कहूंगा कि लुईस मरांडी के डीएनए में गड़बड़ी है. वह झारखंडी नहीं हैं, आदिवासी नहीं हैं. इन्हें भारतीय जनता पार्टी की तरफ से नागपुर से भेजा गया है. एक साजिश के तहत यहां आदिवासी और मूलवासी को बर्बाद कर दो और बयान दे दो कि यह सही कदम है. इसलिए इन्हें मंत्री बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें- लोकतंत्र में आलोचना का हक सभी को, महागठबंधन नहीं बल्कि महाठगबंधन है विपक्ष, जनता ने किया बंद असफल :…

मैं अपनी बात पर अभी भी कायम : इरफान अंसारी

न्यूज विंग से बात करते हुए विधायक इरफान अंसारी ने कहा है कि उन्हें अभी तक किसी तरह का कोई नोटिस नहीं मिला है, लेकिन वह अपनी बात पर अभी भी कायम हैं. उन्होंने कहा- मैंने जो बोला है, उस पर मैं कायम हूं. लुईस मरांडी का जो डीएनए है, उसकी जांच होनी चाहिए. अंसारी ने कहा कि जब बीजेपी ने सीएनटी और एसपीटी एक्ट का संशोधन किया था, उसमें भी उन्होंने (लुईस मरांडी ने) बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया. अंसारी ने कहा कि अभी जो भूमि अधिग्रहण बिल है, वह आदिवासियों के खिलाफ है. इस बिल से आदिवासियों की जमीन बेची जायेगी. फिर भी वह (मंत्री लुईस मरांडी) इसमें बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रही हैं. उन्होंने कहा- आदिवासी नहीं होते हुए भी मुझे इसकी चिंता है, लेकिन लुईस मरांडी को नहीं. आप आदिवासी के विरोध में काम कर रही हैं, इससे साबित होता है कि आप आदिवासी नहीं हैं. आपका डीएनए गड़बड़ है. यही बात मैंने उस दिन भी कही थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: