न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विधायक ढुल्लू ने अपनी ही पार्टी के सांसद को कहा ‘उसका कैरेक्टर ढीला’, कमल संदेश के संपादक को कहा उसकी औकात नहीं

1,099

Ranchi/Bokaro: उस बीजेपी का छिछालेदर रोज ही हो रहा है, जो विश्व की सबसे बड़ी पार्टी होने का दंभ भरती है. सबसे अनुशासित होने का भी गुमान है. लेकिन पिछले कुछ दिनों से राज्य में बीजेपी के बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो और गिरिडीह लोकसभा के सांसद रवींद्र पांडे आपस में भिड़े हुए हैं. मर्यादा का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि दोनों बीजेपी के सम्मानित जनप्रतिनिधि एक दूसरे के कैरेक्टर को पत्रकारों के सामने रोज ही नंगा कर रहे हैं. एक दूसरे का ही मीडिया ट्रायल कर रहे हैं. लेकिन इस बात से पार्टी को कोई फर्क पड़ता, फिलवक्त दिखायी नहीं पड़ता. पार्टी के अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ की सक्रियता को लेकर हमेशा से ही सवाल उठते रहे हैं. एक बार फिर से सांसद रवींद्र पांडे पर पार्टी के ही विधायक ने आरोप लगाया है कि सांसद का कैरेक्टर ढीला है और पार्टी का मौनव्रत जारी है.

गोमिया में रवींद्र पांडे के कैरेक्टर को लेकर बंधक बना लिया गया था : ढुल्लू

धनबाद के बाद अब ढुल्लू महतो बोकारो में आकर रवींद्र पांडे के बारे काफी-कुछ कह रहे हैं. उनका कहना है कि रवींद्र पांडे जान चुके हैं कि उनका अस्तित्व खत्म हो चुका है. कहा जनता जानती है कि ढुल्लू महतो कैरेक्टर के साथ-साथ सारा काम मजबूती से करता है. मेरे ऊपर किसी तरह का कोई आरोप नहीं लगा है. लेकिन सांसद कितना नाम गिनवाना चाहते हैं मैं गिनवा सकता हूं. कई लोगों के साथ उसके गलत संबंध हैं. बोलिए तो नाम के साथ बता दें. उसको कहना होगा कि नाम दो, तो हम नाम देंगे. गोमिया के घर में वो पकड़ाया भी था. लोगों ने उसे बंधक भी बनाया था.

और क्या कहा ढुल्लू ने जानने के लिए देखें वीडियो


बीजेपी के माउथपीस कमल संदेश के संपादक को कहा उसकी औकात नहीं कि मुझसे लड़े

बीजेपी के माउथपीस कमल संदेश के संपादक शिव शक्ति बख्शी के बारे जब पत्रकारों ने उनसे सवाल किया तो, ढुल्लू महतो ने खुल कर कहा कि उसकी औकात नहीं है मुझसे लड़ने की. क्योंकि हमारे साथ जनता है और जनता से आज-तक किसी ने लड़ाई नहीं की है. उसे सावधान हो जाने की जरूरत है. वो 10,000 आदमी जमा तो कर के दिखा दे. वो शिव शक्ति बख्शी हो, ओमपुरी हो या अमरीष पुरी उससे कोई मतलब नहीं है. पार्टी के निर्णय को हमें मानना होगा.

इसे भी पढ़ें: साजिश करके रवींद्र पांडे ने फंसाया, दोषी निकला तो चढ़ जाऊंगा फांसी…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: