न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मिताली को संभालना मुश्किल, अलग थलग रहने वाली खिलाड़ी हैं : पोवार

24

New Delhi : भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच रमेश पोवार ने बुधवार को स्वीकार किया कि उनके सीनियर खिलाड़ी मिताली राज के साथ ‘तनावपूर्ण’ संबंध है, लेकिन स्पष्ट किया कि विश्व टी-20 सेमीफाइनल में उन्हें बाहर करना पूरी तरह से क्रिकेट से जुड़ा था.

पोवार ने बोर्ड के दोनों अधिकारियों से मुलाकात की

पोवार बीसीसीआइ सीइओ राहुल जोहरी और महाप्रबंधक (क्रिकेट संचालन) सबा करीम से मिले. इससे एक दिन पहले मिताली ने उन पर पक्षपात का आरोप लगाया था. पोवार ने मुंबई में बीसीसीआइ मुख्यालय में बोर्ड के दोनों अधिकारियों से मुलाकात की. भारतीय महिला टीम की सबसे सीनियर खिलाड़ी ने जोहरी और करीम को भेजे गये कड़े ई मेल में पोवार पर आरोप लगाया था कि उन्हें वेस्टइंडीज में खेले गये विश्व टी-20 के दौरान पोवार ने अपमानित किया था और टीम से बाहर किये जाने पर वह रो पड़ी थी.

मिताली को सेमीफाइनल से बाहर करना बदले की भावना नहीं

बीसीसीआई सूत्रों ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआइ से कहा, ‘‘रमेश ने स्वीकार किया कि मिताली के साथ उनके पेशेवर रिश्ते तनावपूर्ण है क्योंकि उन्हें हमेशा लगा कि वह अलग थलग रहने वाली खिलाड़ी है और उसे संभालना मुश्किल है.’’ हालांकि अधिकारी ने कहा कि पोवार ने बताया कि मिताली को सेमीफाइनल से बाहर करना बदले की भावना नहीं बल्कि रणनीति का हिस्सा था. इंग्लैंड ने इस मैच में भारत का आठ विकेट से हराया था. अधिकारी ने कहा, ‘‘उन्होंने कहा कि खराब स्ट्राइक रेट के कारण उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ मैच से बाहर किया गया. इसके अलावा टीम प्रबंधन पिछले मैच में जीत दर्ज करने वाली टीम को बरकरार रखना चाहता था. ’’

बोर्ड ने जानना चाहा मिताली को हटाने के लिए किसा फोन आया था क्‍या

पोवार से पूछा गया कि आयरलैंड और पाकिस्तान के खिलाफ मैचों में मिताली का स्ट्राइक रेट आड़े क्यों नहीं आया, तो इसका उनके पास कोई जवाब नहीं था. मिताली ने इन दोनों मैचों में अर्धशतक जमाये और उन्हें प्लेयर आफ द मैच चुना गया. इसके अलावा इस पर भी चर्चा हुई कि क्या मिताली को बाहर करने के लिए किसी प्रभावशाली अधिकारी का बाहरी दबाव था. सूत्रों ने बताया कि पोवार ने किसी का फोन आने का खंडन किया, लेकिन दावा किया कि वह इससे अवगत थे कि ‘बीसीसीआइ का प्रभावशाली व्यक्ति’ टीम मैनेजर (तृप्ति भट्टाचार्य) और दौरे की चयनकर्ता (सुधा शाह) के संपर्क में था.मिताली ने बुधवार को प्रशासकों की समिति की सदस्य डायना एडुल्जी पर भी पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाया था.

वनडे टीम की कप्तान ने कहा कि एडुल्जी ने उनके खिलाफ अपने पद का उपयोग किया. एडुल्जी ने अभी तक मिताली के आरोपों पर प्रतिक्रिया नहीं दी है. चालीस वर्षीय पोवार का अंतरिम कार्यकाल शुक्रवार को समाप्त हो जाएगा.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: