JharkhandRanchi

मिशन साहसी: बेटियों को सबल करने की ABVP की अनूठी पहल

Ranchi: इन दिनों राज्य में महिला अपराध में बढ़ोतरी हुई है. वही युवतियों की सुरक्षा देने की बजाये कई बार होता है कि उनपर ही सवाल उठाये जाते हैं. कभी उनके पहनावे को लेकर, तो कभी किसी से दोस्ती को लेकर. लेकिन लड़कियों को इन तरह के मनचलों से बचाने के लिए पहल की है, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् ने. जिन्होंने इसे एक मिशन का रूप दिया है, मिशन साहसी.

इसे भी पढ़ेंःबिजली खरीद में फूंक दिया 20 हजार करोड़, अब कोयले की कमी, झारखंड के सात जिलों में ब्लैकआउट के हालात

advt

मिशन साहसी के जरिये एबीवीपी स्कूल और कॉलेज जाने वाली युवतियों को सबल बनाने की कोशिश करेगा. कई चरणों में कक्षा नौ से उपर की हर आयु वर्ग की युवतियों को यह प्रशिक्षण दिया जायेगा. इसके लिये एबीवीपी कार्यकर्ता स्कूलों और कॉलेजों के सहयोग से शिक्षण संस्थानों में यह मिशन चलायेंगे.

क्या है मिशन साहसी

‘मिशन साहसी’ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की एक पहल है. जिसमें युवतियों को स्वावलंबी बनाने की कोशिश की जा रही है. जिससे किसी भी स्थान में युवतियों के साथ होने वाले छेड़छाड़ का युवतियां डट कर सामना कर सके. इसके तहत युवतियों को कमांडो स्तर का प्रशिक्षण दिया जायेगा. जो राज्य के हर स्कूलों और कॉलेजों में विद्यालय प्रबंधन की सहायता से होगा.

इसे भी पढ़ेंः बिजली संकट : BJP MLA ढ़ुल्लू महतो की वजह से बिजली कंपनियों को नहीं मिल रहा 6-7 लाख टन कोयला, क्या यह राष्ट्रद्रोह नहीं!

मुंबई में हुई शुरूआत

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की ओर से ‘मिशन साहसी’ की शुरूआत मार्च 2018 में मुंबई से की गयी. जहां स्कूलों और कॉलेजों में कक्षा नौ से ऊपर की युवतियों को स्वावलंबन का प्रशिक्षण दिया गया. मुंबई में लगभग पांच प्रशिक्षण शिविरों में लगभग सात हजार युवतियों को प्रशिक्षित किया गया. वहीं इन युवतियां के स्वावलंबन प्रदर्शन पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया. जिसमें कई नेताओं समेत फिल्मी दुनिया की जानी-मानी हस्तियों ने शिरकत की.

इसे भी पढ़ें- भूख लगने पर महिला ने रोटी चुराकर खा ली, तो मालिक ने नंगा कर बांध दिये हाथ-पैर, पूरे बदन पर लगाया मिर्च पाउडर का लेप

रोजाना दो घंटे दिया जायेगा प्रशिक्षण

मिशन के तहत युवतियों को दस दिन दो-दो घंटे प्रशिक्षण दिया जायेगा. प्रशिक्षण इनडोर और आउटडोर दोनों तरह के होंगे. इन बीस घंटे में युवतियां को माशर्ल आर्ट, बॉक्सिंग आदि की टेक्निकल जानकारी न देते हुए, इन्हें तत्काल कैसे किसी को रोका जाये इसकी जानकारी दी जायेगी. प्रशिक्षण में मुख्य रूप से युवतियों के आत्मविश्वास को बढ़ाते हुए किसी भी अनहोनी को रोकने के लिये तैयार किया जायेगा.

प्रशिक्षित होंगे प्रशिक्षक

अभाविप की ओर से युवतियां को प्रशिक्षित करने वाले प्रशिक्षिकों को भी ट्रेनिंग दी जायेगी. इसके लिये हर जिला से प्रशिक्षकों को नियुक्त किया गया है. 21 से 23 सितंबर तक रांची में आयोजित होने वाले इस ट्रेनिंग में प्रशिक्षकों को सरल तरीके से स्वावलंबन प्रशिक्षण देने के गुर सिखाये जायेंगे. यहां से ट्रेनिंग पाने के बाद इनको प्रत्येक जिला में प्रशिक्षण देने के लिये भेजा जायेगा. मिशन उन सभी शिक्षण संस्थानों में चलाया जायेगा जहां युवतियां पढ़ती हैं. इन प्रशिक्षकों को देश के प्रसिद्ध मार्शल आर्ट कमांडो सिफू भारद्वाज से प्रशिक्षित नागपुर की सुनीता मुंडकर प्रशिक्षित करेंगी.

इसे भी पढ़ें- 6302 करोड़ हुए खर्च लेकिन खेतों में नहीं पहुंचा पानी, 88 फीसदी किसान को सिंचाई सुविधा नहीं

पायलेट प्रोजेक्ट में शुरू होगा मिशन

एबीवीपी प्रदेश संगठन मंत्री याज्ञवल्क्य शुक्ल ने बताया कि राज्य में मिशन साहसी पायलेट प्रोजेक्ट के तहत शुरू किया जा रहा है. तीन दिनों के प्रशिक्षण के बाद प्रत्येक जिला में युवतियों को प्रशिक्षण दिया जायेगा. ट्रेनिंग 29 अक्टूबर तक चलेगी, जिसके बाद 30 अक्टूबर को छात्राओं के प्रशिक्षण पर कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: