JharkhandRanchi

#MinorityScholarship : बंद कर दिये गये स्कूल-कॉलेजों के यूजर आइडी व पासवर्ड, 15 अक्टूबर है आखिरी तारीख

Ranchi : स्कूलों, कॉलेजों और इंस्टीट्युट्स को सही जानकारी नहीं होने के कारण इस बार भी अल्पसंख्यक छात्र-छात्रायें छात्रवृत्ति से वंचित हो सकते हैं.

केंद्र सरकार की ओर से चलायी जा रही इस योजना के तहत छात्रवृत्ति के लिए सभी स्कूल, कॉलेजों और इंस्टीट्युट्स को जिला कल्याण पदाधिकारी, जो इसके नोडल पदाधिकारी होते हैं, से यूजर आइडी और पासवर्ड लेना होता है, लेकिन अब तक राज्य के स्कूलों और कॉलेजों को इस बात की जानकारी नहीं है.

साल 2018-19 में भी जिला स्तर से और स्कूल-कॉलेज प्रबंधनों की गलती के कारण बड़ी संख्या में छात्र छात्रवृत्ति योजना का लाभ लेने से वंचित हो गये. इस योजना के तहत अल्पसंख्यक छात्रों को प्री मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक और मेरिट कम मेंस छात्रवृत्ति दी जाती है. पिछले साल प्री मैट्रिक के तहत इसका कोटा 85 हजार रखा गया था.

इसे भी पढ़ें : #AyushmanBharat : #Orchid इम्पैनल्ड नहीं, #Medica व #Medanta में दो या तीन रोगों का ही इलाज

यूजर आइडी व पासवर्ड बंद होने की जानकारी ही नहीं

साल 2019-20 के लिए वर्तमान में आवेदन लिये जा रहे है. प्री मैट्रिक ऑनलाइन आवेदन के लिए आखिरी तारीख 15 अक्टूबर है. पोस्ट मैट्रिक और मेरिट कम मेंस के लिये 31 अक्टूबर है.

नोडल पदाधिकारियों की ओर से इन आवेदनों को वेरिफाई करने की आखिरी तारीख प्री-मैट्रिक में 31 अक्टूबर और पोस्ट मैट्रिक और मेरिट कम मेंस के लिये 15 अक्टूबर है. जबकि इस साल स्कूलों और कॉलेजों के यूजर आइडी और पासवर्ड बंद कर दिये गये हैं.

यूनाइटेड मिल्ली फोरम की ओर से कई स्कूलों और कॉलेजों में जांच की गयी जिससे जानकारी हुई कि कई स्कूलों को यूजर आइडी ओर पासवर्ड बंद होने की जानकारी ही नहीं है.

इसे भी पढ़ें :

नोडल पदाधिकारी कार्यालय से लेना है यूजर आइडी-पासवर्ड

कुछ स्कूलों को अब तक ये जानकारी नहीं है झारखंड इंजीनियरिंग कॉलेज : #AcademicSession 2020-21 में भी JEEMain से ही होगा नामांकनकि जिला नोडल पदाधिकारी कार्यालय में ऑनलाइन आवेदन कर यूजर आइडी और पासवर्ड लेना है.

यूनाइटेड मिल्ली फोरम के महासचिव अफजल अनीस ने कहा कि अखबारों में विज्ञापन तो निकाला गया लेकिन इस संबध में स्कूलों में जानकारी नहीं देखी गयी.

पैसे मांगने का भी आरोप

उन्होंने बताया कि फोरम के सदस्य सभी जिलों में इस मुद्दे पर सक्रिय कार्य करते हैं.और राज्य भर से ऐसी समस्याएं आ रही हैं. जानकारी ये भी मिली है कि कुछ जिला नोडल पदाधिकारियों के कार्यालय में लोगों को परेशान किया जा रहा है साथ ही यूजर आइडी और पासवर्ड के लिये पैसे भी मांगे जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : भूल गयी सरकार : CM ने 2 हजार वनरक्षी के पदों पर नियुक्ति का किया था वादा, एक साल से इंतजार में युवा

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: