न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मंत्री रामदास आठवले को युवक ने थप्पड़ मारा, जम कर हुई पिटाई, महाराष्ट्र बंद बुलाया

थप्पड़ मारने वाले शख्स का नाम प्रवीण गोसावी ताया गया है. इस घटना के बाद आठवले समर्थकों ने उसे पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटाई की.

30

Mumbai : महाराष्ट्र में रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले के साथ भरी सभा में मारपीट की गयी है. मुंबई से सटे ठाणे में एक कार्यक्रम में उन्हें एक युवक ने थप्पड़ मार दिया. यह घटना पुलिस की मौजूदगी में ठाणे के अंबरनाथ में हुई. थप्पड़ मारने वाले शख्स का नाम प्रवीण गोसावी बताया गया है. इस घटना के बाद आठवले समर्थकों ने उसे पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटाई की. पुलिस के अनुसार रामदास आठवले शनिवार रात ठाणे के अंबरनाथ में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने गये थे. जानकारी दी गयी कि आठवले पर हमला उस समय हुआ, जब वो मंच से नीचे उतर रहे थे. थप्पड़ मारने के बाद प्रवीण गोसावी भागने लगा, तो आठवले के समर्थकों ने उसे पकड़ लिया और उसकी जमकर धुनाई कर दी. पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. पुलिस ने बताया कि आठवले के समर्थकों द्वारा मारपीट किये जाने के बाद हमलवार का प्राथमिक उपचार करने के बाद मुंबई के जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया.

मराठा समाज का आरक्षण कोर्ट में नहीं टिक सकेगा

पुलिस ने कहा कि हमले की वजह का पता अभी नहीं चल पाया है. फिलहाल मामले की जांच की जा रही है. बता दें कि मराठा आरक्षण पर रामदास आठवले ने कहा था कि मराठा समाज को दिया गया आरक्षण कोर्ट में नहीं टिक सकेगा. वह चाहते है कि मराठा समाज को आरक्षण दिया जाये, लेकिन राज्य सरकार ने जिस तरह से आरक्षण दिया है, वह कानूनी नहीं है. अठावले पर हुआ हमला उनके इस बयान से जोड़कर देखा जा रहा है. बता दें कि इससे पूर्व गुजरात के सूरत में रामदास आठवले पर एक कार्यक्रम के दौरान एक युवक ने काला कपड़ा फेंका था. उस समय आठवले एक कार्यक्रम में केंद्र सरकार की उपलब्धियां गिना रहे थे. आठवले ने आरोप लगाया है कि उन पर हमले की साजिश पहले से रच ली गयी थी. कहा इस हमले के मास्टरमाइंड को गिरफ्तार किया जाना चाहिए. बताया कि हमने इसके विरोध में 9 दिसंबर को महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया है. खबरों के अनुसार हमले के बाद आठवले के समर्थक उनके घर के बाहर जमा हो गये.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: