GarhwaJharkhandRanchi

मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने गढ़वा जिले की बिजली समस्या के निदान के लिए मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

Ranchi: राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने शनिवार को मुख्यमंत्री को पत्र लिखा जिसमें उन्होंने गढ़वा जिले की बिजली समस्या का जिक्र किया.

मिथिलेश ठाकुर ने अपने पत्र में लिखा है कि गढ़वा जिले में बिजली की मांग और आपूर्ति में काफी अंतर है. जिले को 50 मेगावाट बिजली की मांग है, जबकि क्षेत्र में आठ से 12 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की जा रही है.

जिला में बिजली आपूर्ति कम होने से सिचांई, व्यापार और उद्योग काफी प्रभावित हो रहे है. घरेलू उपयोग की बिजली भी सही से लोगों को नहीं मिल रही है.

मुख्यमंत्री से मांग करते हुए मिथिलेश ठाकुर ने लिखा कि जिला में निर्बाध और सुचारू बिजली आपूर्ति की जरूरत है. लोगों को परेशानी अधिक है. जिले की लचर बिजली व्यवस्था को देखते हुए इस पर जल्द से जल्द कार्रवाई करने की मांग की गयी.

इसे भी पढ़ें : whatsapp पर खबरें भेजना मुश्किल, न्यूज विंग की खबरें पढ़ते रहने के लिए हमारे Telegram चैनल से जुड़ें, जानें कैसे जुड़ें टेलिग्राम चैनल से

एक ग्रिड से तीन फीडर में जाती है बिजली

मंत्री ने लिखा है कि जिले में विद्युत आपूर्ति रेहला ग्रिड से की जाती है. इस ग्रिड को उत्तरप्रदेश और बिहार से बिजली मिलती है जो 25 और 20 मेगावाट बिजली है.

बिहार के सोन नगर से मिलने वाली बिजली पूर्णतः रेलवे ट्रैक्शन को चली जाती है, जबकि उत्तरप्रदेश से मिलने वाली बिजली गढ़वा और पलामू जिलों के क्षेत्रों में वितरित की जाती है.

इस ग्रिड से भी तीन फीडर गढ़वा, रंका और भवनाथपुर में बिजली दी जाती है. जिसमें से भवनाथपुर और रंका फीडर को अलटरनेट रूप में बिजली की आपूर्ति की जाती है.

इसके कारण गढ़वा टाउन सब स्टेशन से शेडिंग के आधार पर गढ़वा टाउन और उसके आस-पास के इलाकों के क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति की जा सके.

अपने पत्र में मंत्री ने लिखा है कि जिले में बिजली समस्या को लेकर लोगों में काफी असंतोष है जिसका समाधान जरूरी है.

इसे भी पढ़ें : #FightAgainstCorona : तीन आदिवासी युवाओं ने मिल कर बनायी ऑटोमैटिक सैनिटाइजर मशीन

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: