न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हाल पीएचइडी काः मंत्रीजी गिरिडीह सीट से चुनाव लड़ने में व्यस्त, नहीं हो रहा कोई काम

329
  • आवंटन और स्वीकृत्यादेश का काम भी हुआ ठप
  • 28 मार्च 2018 को 30 करोड़ की योजना हुई थी स्वीकृत
  • फरवरी माह में जिला खनिज फाउंडेशन ट्रस्ट के जरिये 187 करोड़ की योजना को मिली थी स्वीकृति

Deepak

Ranchi: पेयजल और स्वच्छता विभाग के मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी इन दिनों चुनावी मोड में चले गये हैं. इन्हें आजसू पार्टी की ओर से गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र का उम्मीदवार बनाया गया है. इनके चुनाव लड़ने की वजह से पेयजल और स्वच्छता विभाग का काम लगभग ठप हो गया है. बहुत कम संख्या में इनके पास कोई फाइल भेजी जा रही है. ऐसे में अभियंता प्रमुख, मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता और कार्यपालक अभियंता की तरफ से भी किसी तरह की फाइल नहीं भेजी जा रही है. विभागीय सूत्रों का कहना है कि चुनाव की घोषणा के बाद से रूटीन नेचर की फाइल भी नहीं आ रही है.

hosp3

इसे भी पढ़ें – #दुमकाः नौवीं बार शिबू होंगे सांसद या तीसरी बार खिलेगा कमल

गिरिडीह में 12 मई को वोट

गिरिडीह लोसकभा सीट के लिए छठे चरण में 12 मई को वोट डाले जायेंगे. पर आजसू पार्टी के नेता और मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी गिरिडीह संसदीय क्षेत्र का सघन दौरा होली के पहले से ही करने लगे हैं. आजसू पार्टी की तरफ से 25 मार्च को उनके नाम की घोषणा की गयी थी. इसके बाद से वे रोज सुबह नौ बजे चुनावी सभा और अन्य कार्यक्रमों में शिरकत करने के लिए रांची से गिरिडीह आना-जाना कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – शिक्षा विभाग ने तीन साल पहले दिया आदेश, अब तक नहीं मिला माध्यमिक शिक्षकों को एसीपी वेतनमान

फरवरी 2019 में विभाग की तरफ से डीएमएफटी के 187 करोड़ की योजना को मिली थी स्वीकृति

विभाग की तरफ से फरवरी 2019 में जिला स्तरीय खनन फाउंडेशन ट्रस्ट के तहत 187 करोड़ की योजना को स्वीकृति दी गयी थी. इसमें दामोदर नदी पर आधारित बलियापुर फेज-1, चुरचू पश्चिम, चुरचू पूर्व, पतरातू पूर्व, पतरातू पश्चिम की योजनाएं शामिल हैं. इसके अलावा राष्ट्रीय ग्रामीण जलापूर्ति कार्यक्रम के नार्मल कंपोनेंट के रूप में 25 करोड़ रुपये की स्वीकृति भी दी गयी है. अन्य योजनाओं में भी पांच करोड़ रुपये की स्वीकृति मार्च के अंतिम सप्ताह में दी गयी है. इसके बाद से किसी तरह का न तो आवंटन किया गया है, न ही योजनाएं स्वीकृत की गयी हैं.

इसे भी पढ़ें – गढ़वा : स्वास्थ्य मंत्री के गृह जिले में नहीं बंटने से बड़ी मात्रा में दवाएं हुई एक्सपायर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: