न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हाल-ए-खान विभागः वाहन के लिए 1.3 करोड़ बजट, चालक है ही नहीं- विभाग में 179 पद रिक्त

पद रिक्त होने के कारण राजस्व वसूली में हो रही देरी, माइनिंग प्लान बनाने में हो रहा विलंब,अवैध माइनिंग की भी नहीं हो रही प्रोपर मॉनिटिरिंग, खान निरीक्षक से लेकर गार्ड तक के पद रिक्त

2,069

Pravin Kumar

Ranchi: झारखंड में खान विभाग की स्थिति अजीबोगरीब हो गई है. विभाग में मैनपावर की भारी कमी है. अब तक नियुक्ति पर कोई निर्णय नहीं लिया जा सका है. दिलचस्प यह है कि पिछले पांच साल (वर्ष 2012 -13 में 12 लाख, 2013-14 में 16 लाख, 2014-15 में 20 लाख, 2015-16 में 25 लाख, 2016-17 में 30 लाख) एक करोड़ तीन लाख रुपये वाहनों के लिए आवंटित किये गये,लेकिन चालक है ही नहीं. विभाग में चालक के 26 पद हैं, इसमें 19 पद रिक्त हैं.

क्या है विभाग का तर्क

विभाग के द्वारा नए वाहनों की खरीद पर जो तर्क दिया गया है, उसमें कहा गया है कि भूगर्भीय अन्वेषण कार्य कठिन इलाकों और पहाड़ी इलाकों में किया जाता रहा है. इन इलाकों में अधिकांश क्षेत्र में पक्की सड़क नहीं है. इसके लिए वह नए वाहन, पुराने वाहनों के स्थान पर खरीद कर अपग्रेड करना पड़ता है.

क्या हो रहा है नुकसान

झारखंड खनिज बहुल राज्य होने के कारण सरकार के राजस्व का एक बड़ा स्रोत खनिज से मिलने वाली रॉयल्टी है. कर्मियों की कमी होने के कारण माइनंग प्लान बनाने में विलंब हो रहा है. राजस्व की वसूली में देरी हो रही है. अवैध माइनिंग में अंकुश नहीं लग पा रहा है. कोयला, बॉक्साइड, आयरन ओर के अवैध माइनिंग से जंगल को भी नष्ट किया जा रहा है.

इधर लोहरदगा और गुमला जिला में बॉक्साइड का अवैध खनन बड़े पैमाने पर हो रहा है. वही विभाग की रिमोट सेंसिंग यूनिट स्थापित करने की योजना थी, जिसमें बुनियादी ढांचे के साथ-साथ मानव संसाधनों को भी मजबूत करने की आवश्यकता थी. इसमें सॉफ्टवेयर इंजीनियर, हार्डवेयर इंजीनियर, जीआईएस के विशेषज्ञ, ऑटो सीएडी जैसे कर्मचारी की आवश्यकता थी, लेकिन इस दिशा में भी कोई ठोस पहल नहीं की गई.

खान विभाग में कितने पद हैं रिक्त

पदनाम                        स्वीकृत पद                       रिक्त पद
खान निरीक्षक                     57                              33
कार्यालय अधीक्षण               07                            सभी रिक्त
प्रधान लिपिक                     24                              18
लिपिक                              85                              32
ड्रॉफ्टर                              06                               05
चालक                               26                              19
प्रोसेस सर्वर                        21                              12
जंजीरवाहक                       45                               15
आदेशपाल                         53                               16
रात्रि प्रहरी                         16                                10

इसे भी पढ़ेंः कई विभागों में 60 से 80 फीसदी तक कर्मचारियों की कमी, नियमावली के पेंच में फंसी है बहाली

 

इसे भी पढ़ेंः सूबे में प्रदूषण रोकने के लिए बना था 655.5 करोड़ का एक्शन प्लान, नहीं हुआ काम 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: