न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

जिस उग्रवादी सरगना राजू साव की वजह से गयी थी योगेंद्र साव की कुर्सी वो अब बीजेपी में, रघुवर के साथ तस्वीर वायरल

6,240

Ranchi: बीजेपी सच में दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है. इतनी बड़ी कि इस पार्टी में सभी के लिए जगह है. पार्टी में उसके लिए भी जगह है, जिसपर उग्रवादी संगठन के सरगना होने का आरोप लगा. जिसके साथ तस्वीर वायरल होने पर कांग्रेस के विधायक और झारखंड के पूर्व मंत्री योगेंद्र साव की मंत्री पद की कुर्सी चली जाती है. बात हो रही है हजारीबाग जिले के ओबीसी के उपाध्यक्ष राजू साव की.

eidbanner
पूर्व मंत्री योगेन्द्र साव के साथ आरोपी उग्रवादी सरगना राजू साव (फाइल फोटो)

ये वही राजू साव हैं जिनपर झारखंड बचाओ रक्षा आंदोलन उग्रवादी संगठन के सरगना होने का आरोप लगा था. एक दूसरा उग्रवादी संगठन झारखंड टाइगर ग्रुप जिसका मेन्टॉर बनने का आरोप योगेंद्र साव पर लगा था, उसके सरगना राजकुमार गुप्ता ने पुलिस को बयान दिया था कि योगेंद्र साव ने जो हथियार उन लोगों को उपलब्ध कराए थे. उसे चलाने का प्रशिक्षण भी राजू साव ने ही दिया था. लेकिन अब राजू साव बीजेपी का हिस्सा हैं. उसे पार्टी की तरफ से हजारीबाग जिला के ओबीसी प्रकोष्ठ का उपाध्यक्ष बनाया गया है.

सीएम रघुवर दास के साथ हो रही तस्वीर वायरल

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है. जिसमें सीएम के साथ उग्रवादी संगठन का सरगना बनने का आरोपी राजू साव साफतौर से देखा जा रहा है. एक नहीं बल्कि ऐसे कई मौकों पर राजू साव ने सीएम के साथ फोटो खिंचवाई है. इससे पहले हेलीकॉप्टर में राजू साव की तस्वीर योगेंद्र साव के साथ वायरल हुई थी. योगेंद्र साव के साथ कई मौकों पर राजू साव की तस्वीर वायरल हो चुकी है.

कुछ लोगों का कहना है कि योगेंद्र साव के खिलाफ बयान देने का फायदा राजू साव को बीजेपी की तरफ से मिल रहा है. बरकागांव क्षेत्र में यह भी कहा जा रहा है कि राजू साव की राजनीति में महत्लाकांक्षा बढ़ी है, वो विधानसभा चुनाव की तैयारी कर रहे हैं.

हां, मैं हूं CM का करीबी, कई IPS अफसरों का मिला है साथः राजू साव

न्यूज विंग ने हजारीबाग के ओबीसी के उपाध्यक्ष और उग्रवादी संगठन के सरगना बनने के आरोपी राजू साव से बात की. बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि अभी चार दिन पहले ही सीएम से मिलने रांची गया था. मैं लगातार उनके साथ हूं. पार्टी से जुड़ने के बाद मैं बहुत मेहनत कर रहा हूं. क्षेत्र में काफी दौरा कर रहा हूं. रांची में मैं सीएम के कई करीबियों के करीब हूं. सभी से मेरे काफी अच्छे संबंध हैं. ये लोग हमारे बड़े भाई और हमारे गार्जियन जैसे हैं.

मैं एक साल से ज्यादा के समय से हजारीबाग जिले में ओबीसी प्रकोष्ठ का उपाध्यक्ष हूं. मैंने बीस साल का मेहनत एक साल में किया है. मेरे ऊपर भले ही आरोप लगे हो. लेकिन कोई भी आरोप सिद्ध नहीं है. पांच साल से मैंने योगेंद्र साव का चेहरा नहीं देखा है. मुझे पुलिस महकमे का काफी साथ मिला है. कई आईपीएस अधिकारी ने मेरी मदद की है. अधिकारियों ने कहा कि जो भी परेशानी हमसे कहो, हम दूर करेंगे. मैंने इन सभी से काफी मदद ली है. आज भी ये लोग मेरी मदद करने को तैयार रहते हैं. पार्टी के लोग हमसे काफी खुश हैं. कम समय में मैंने काफी कुछ किया है.

इसे भी पढ़ेंः राज्य के 110 प्रखंड बैकवर्ड घोषित

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: