न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

फ्लोरिडा में माइकल तूफान ने मचाई भारी तबाही,  16 की मौत

  जैसे बम विस्फोट हो गया हेा,  ऐसा लगता है जैसे यह युद्ध क्षेत्र है

89

Florida :  अमेरिका के फ्लोरिडा शहर में आये माइकल तूफान ने तबाही मचा दी है.  तूफान में मरने वालों की संख्या बढ़कर 16 हो जाने की खबर है. जानकारी के अनुसार तलाश एवं बचाव अभियान दल मलबों को हटाने का काम कर रहा है.  बचाव दल जीवित बचे लोगों और शवों को ढूंढने के काम में लगे हुए हैं. मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई गयी है. फ्लोरिडा शहर के गवर्नर रिक स्कॉट ने इस संबंध में बताया कि मेक्सिको बीच तबाह हो गया है. इस शहर में बुधवार को कैटेगरी चार का तूफान माइकल आया था. स्कॉट ने मेक्सिको की खाड़ी में स्थित 1,000 लोगों की आबादी वाले शहर का दौरा करने के बाद जो बताया, वह रोंगटे खड़ा कर देने वाला है. उसने कहा कि ऐसा लगा जैसे बम विस्फोट हो गया है.

ऐसा लगता है जैसे यह युद्ध क्षेत्र है. बता दें कि बचाव दल ने शुक्रवार को मलबों के नीचे दबे पीड़ितों की तलाश के काम में खोजी कुत्तों की मदद ली. संघीय आपात प्रबंधन एजेंसी (फेमा) के प्रमुख ब्रॉक लॉन्ग ने मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई है.

इसे भी पढ़ेंः तितली तूफान : भूस्खलन से ओड़िशा में 12 लोगों के मारे जाने की आशंका, चार लापता

पांच दक्षिण कोरियाई पर्वतारोही और चार नेपाली गाइड की मौत

Kathmandu : नेपाल के गुर्ज हिमल पर्वत पर गये पांच दक्षिण कोरियाई पर्वतारोही और चार नेपाली गाइड की मौत हो जाने की खबर है. पुलिस के अनुसार भारी तूफान के आने के कारण इन सभी से संपर्क टूट गया था. हालांकि राहत और बचाव दलों को उनकी तलाश के लिए लगाया गया, लेकिन वे जीवित नहीं मिले. जानकारी के अनुसार पांचों पर्वतारोही और चार नेपाली गाइड  के शव बरामद कर लिये गये हैं. बताया गया कि नेपाल के गुर्ज हिमल पर्वत पर शुक्रवार को भारी तूफान आया था. जिस समय तूफान आया,  उस समय पहाड़ पर पांच दक्षिण कोरियाई पर्वतारोही ओर चार नेपाली गाइड मौजूद थे.

नेपाल पुलिस ने इस संबंध में बताया कि पहाड़ पर गये इन पर्वतारोहियों से संपर्क टूट गया था. उसके बाद सरकार ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तुरंत राहत और बचाव दलों को भेजा.  बचाव दल ने पर्वतारोहियों के शवों बरामद किये.   

इसे भी पढ़ेंः प्रधानमंत्री को मिली जान से मारने की धमकी, पुलिस कमीश्नर को भेजा एक लाइन का ईमेल

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: