JamshedpurJharkhand

चार महीने बाद भी नहीं शुरू हो सका एमजीएम का पोर्टेबल हेल्थ केयर यूनिट, लगेंगे कुछ और महीने   

Jamshedpur : एमजीएम अस्पताल में एक ओर जहां व्यवस्था को सुदृढ़ करने एवं नये भवन के निर्माण का कार्य तेजी से चल रहा है, वहीं नवनिर्मित पोर्टेबल हेल्थ केयर यूनिट चार महीने बाद भी शुरू नहीं हो सका है. इसके आरंभ होने में कुछ और महीने लगेंगे. शिफ्टिंग पद्धति के तहत निर्मित 100 बेड का वातानुकूलित और ऑक्सीजन युक्त पोर्टेबल हेल्थ केयर यूनिट 4 महीने से बनकर तैयार है. कोरोना के तीसरे चरण के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग के दिशा-निर्देश पर जिला प्रशासन ने एक गैरसरकारी संगठन के सहयोग से इस अस्पताल को बनाने का निर्णय लिया.

advt

जुलाई-अगस्त महीने में जिले के उपायुक्त और एसडीओ के अलावा स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने भी इसका निरीक्षण किया था. इस क्रम में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने पूरे अस्पताल का कायाकल्प करने के साथ ही एक महीने में इस पोर्टेबल हेल्थ केयर यूनिट को चालू कर देने का आश्वासन दिया था, जिसके फलस्वरूप काफी तेजी से इसका निर्माण हुआ और यह बात सामने आयी थी कि सितंबर महीने के प्रथम सप्ताह में ही इसका विधिवत उद्घाटन कर इलाज की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी. इस यूनिट में कोविड संक्रमित मरीजों के अलावा इमरजेंसी मरीजों का भी इलाज यहां हो सकेगा. लेकिन तय समय सितंबर महीने में बन जाने के बावजूद 4 महीने बाद भी इस पोर्टेबल हेल्थ केयर यूनिट का उद्घाटन नहीं हो सका, जबकि इस बीच कैनोपी फट जाने के कारण इसका एक हिस्सा क्षतिग्रस्त भी हो चुका था. इसकी मरम्मत भी करा ली गयी है. इसके साथ ही एमजीएम अस्पताल के इमरजेंसी सहित सभी विभागों की साफ-सफाई, रखरखाव और रंग-रोगन सहित सीटी स्कैन और अल्ट्रासाउंड के लिए नये भवन का भी निर्माण किया जा रहा है. इस बारे में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि एमजीएम अस्पताल में व्यापक सुधार किया जा रहा है. साथ ही कुछ अन्य बड़ी सुविधाओं को लागू करने पर कार्य हो रहा है. इसके पूरा होते ही पोर्टेबल हेल्थ केयर यूनिट सहित एक साथ सभी व्यवस्थाओं को लागू कर दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – गम्हरिया : आरएसबी कंपनी में गया था नाइट ड्यूटी करने, सुबह संदेहास्पद स्थिति में हो गयी मौत

 

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: