NationalNEWS

दिल्ली में आज से फुल सीटिंग कैपेसिटी के साथ चलेंगी मेट्रो और बसें, खड़े होकर यात्रा की मनाही

New Delhi: दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने रविवार को कोविड के मद्देनजर लगाई गई पाबंदियों में थोड़ी और ढील देते हुए डीटीसी व क्लस्टर बसों और मेट्रो को शत प्रतिशत क्षमता के साथ चलाने की अनुमति दी है. इसे लेकर कई तरह की भ्रांतियां फैल रहीं थीं, जिसे देखते हुए दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन और डीटीसी के अधिकारियों ने यह साफ किया है कि इस छूट का मतलब यह नहीं है कि बसें या मेट्रो ट्रेनें पहले की तरह खचाखच भरकर चलने लगेंगी. सौ फीसदी सीटिंग कैपेसिटी से बस और मेट्रो चलाने का मतलब यह होगा कि अब उनमें यात्री सभी सीटों पर बैठकर सफर कर सकेंगे, जबकि अभी तक केवल आधी सीटों पर ही यात्री बैठ पाते थे.

इसे भी पढ़ें : Tokyo Olimpics: तीरंदाजी में जीत के साथ शुरुआत, टेबल टेनिस में शरत कमल अगले दौर में

जानकारों के मुताबिक, बसों और मेट्रो कोच की यात्री क्षमता केवल सीटों के आधार पर तय नहीं होती है, बल्कि उनमें कितने यात्री खड़े होकर सफर कर सकते हैं, उस पर यह ज्यादा निर्भर करती है. खासकर मेट्रो कोच में जितने यात्री बैठकर सफर करते हैं, उससे दोगुने से भी ज्यादा यात्री खड़े होकर सफर कर पाते हैं. डीटीसी बसों में भी जितनी सीटें हैं, लगभग उतने ही या उससे थोड़े ज्यादा ही यात्री खड़े होकर सफर कर सकते हैं, लेकिन चूंकि बसों और मेट्रो में खड़े होकर यात्रा करने पर पाबंदी पहले की तरह ही आगे भी जारी रहेगी, ऐसे में सीटिंग कैपेसिटी के मामले में मिली छूट के बावजूद यात्रियों को ज्यादा राहत मिलने की उम्मीद नहीं है.

 

डीएमआरसी ने यह भी साफ किया है कि मेट्रो ट्रेनों में अभी सीमित संख्या में ही यात्री सफर कर पाएंगे, इसे देखते हुए मेट्रो स्टेशनों के अतिरिक्त गेट भी अभी नहीं खोले जाएंगे और पहले की तरह चुनिंदा गेटों से ही स्टेशन में एंट्री मिलेगी. इतनी राहत जरूर मिलेगी कि पहले जहां ट्रेनों में 250 से 300 यात्री ही एक बार में सफर कर पा रहे थे, वहीं अब 400 से 500 यात्री एक साथ सफर कर सकेंगे.

 

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: