न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विक्षिप्त ने महिला शिक्षिका का गला काटा, फिर कटा सिर लेकर पांच किलोमीटर घूमता रहा

स्कूल आती-जाती शिक्षिका को एकटक घूरता रहता था हत्यारा

1,944

Saraikela: एक विक्षिप्त स्कूल के पास ही रहता था. उसने महिला शिक्षिका का गला काट डाला और फिर कटा हुआ सिर लेकर आराम से घूमता रहा. दिल दहला देने वाली ये घटना झारखंड के सरायकेला की है. विक्षिप्त किसी महिला के कपड़े पहने हुए था. उसके हाथ में धारदार हथियार होने की वजह से लोग उसके पास जाने से डर रहे थे. आखिर चार घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने उसे अरेस्ट किया. इस घटना से पूरे इलाके में दहशत है. शिक्षिका की हत्या क्यों की गई, इसके बारे में तरह-तरह की चर्चाएं हैं.

आदित्यपुर की रहने वाली थी महिला शिक्षिका सुकुरू हेस्सा
मरने वाली शिक्षिका का नाम सुकुरू हेस्सा था और वो तकरीबन 35 साल की थी. वो आदित्यपुर की रहने वाली थी और 2016 से नौकरी कर रही थी. विक्षिप्त का नाम हरी हेंब्रम है. आसपास के लोगों ने बताया कि वो पिछले कई दिनों से स्कूल आते-जाते शिक्षिका को एकटक देखा करता था. मंगलवार को जब शिक्षिका स्कूल आई तो हरी हेंब्रम रोजाना की तरह उसे निहार रहा था. कुछ देर बाद वो स्कूल में गया और शिक्षिका को बाहर बुलाया. जैसे ही शिक्षिका स्कूल से बाहर सड़क पर आई, हरी ने धारदार हथियार से उसके गले पर वार कर दिया. शिक्षिका का सिर धड़ से अलग हो गया. अचानक घटी इस घटना के बाद चीख-पुकार मच गई. स्कूल के लोग इधर-उधर भागने लगे.

इसे भी पढ़ेंः ऑपरेशन ग्रीन हंट का जवाब था बूढ़ा पहाड़ पर हमला : माओवादी

मारने के बाद सिर उठाया और आराम से घूमने लगा
विक्षिप्त हरी ने मृत शिक्षिका के सिर को उठाया और हाथों में लेकर आराम से घूमने लगा. घटना की जानकारी मिलते ही स्कूल में स्थानीय लोगों की भीड़ जुट गई. फौरन इसकी जानकारी पुलिस को दी गई. पर जब भी पुलिस हरी के पास जाती, वो दूर भाग जाता. काफी मशक्कत के बाद उसे गिरफ्तार किया गया। हरी के हाथों में हथियार भी था. इसलिए पुलिस काफी सर्तक होकर उसे पकड़ने की कोशिश में जुटी थी. पुलिस को डर था कि कहीं पास जाने पर हरी अपने ही हथियार से अपनी जिंदगी न समाप्त कर ले.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: