OpinionTOP SLIDER

संस्मरण : ‘छी! यह भी कोई सिंगर है…’ जिसने यह कहा, वही बन गयीं जगजीत सिंह की हमसफर

पुण्यतिथि पर विशेष

  • गजल सम्राट जगजीत सिंह की पुण्यतिथि पर विशेष

जगजीत सिंह के गजल गायक बनने की कहानी बड़ी ही दिलचस्प है. ये उन दिनों की बात है जब जगजीत डीएवी कॉलेज जालंधर में पढ़ते थे. प्रसिद्ध जासूसी उपन्यासकार सुरेंद्र मोहन पाठक भी उसी कॉलेज में पढ़ते थे. उन्होंने अपनी आत्मकथा क्या बैरी क्या बेगाना में जगजीत सिंह के क्लासिक सिंगर से गजल गायक बनने की प्रक्रिया बयान की है. पुरषोत्तम जोशी नाम का लड़का शास्त्रीय संगीत में काफी पारंगत था. वो जगजीत सिंह से एक साल जूनियर था. शास्त्रीय संगीत के इंटर कॉलेज, इंटर यूनिवर्सिटी प्रतियोगिता में वही हमेशा पहला स्थान पाता था और जगजीत को दूसरे स्थान से संतोष करना पड़ता था. इस स्थिति में जगजीत सिंह ने क्लासिकल प्रतियोगिता में हिस्सा लेना बंद कर दिया. उन्होंने सुगम संगीत में रुचि लेनी शुरू की. इसके बाद जगजीत सिंह की सफलता के द्वार खुलने शुरू हुए. हर प्रतियोगिता में वह अपना परचम लहराने लगे.

इसे भी पढ़ें-केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान को पटना में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गयी  

वाद्ययंत्रों पर कमाल का अधिकार

जगजीत सिंह की गायकी तो कमाल की थी ही, वाद्ययंत्रों पर भी उनका कमाल का अधिकार था. वह पूरे आत्मविश्वास के साथ कॉलेज में दावा करते थे कि उन्हें दुनिया का कोई भी वाद्ययंत्र दे दिया जाये, जिसे उन्होंने कभी देखा भी न हो, तो वह उसे बजा लेंगे. महज उन्हें आधा घंटा उस वाद्ययंत्र के साथ छोड़ दिया जाये, तो वह उस पर कोई भी गीत बजाकर दिखा देंगे.

जमकर करते थे रियाज

कॉलेज के दिनों में जगजीत सिंह जमकर रियाज करते थे. उनमें गायन के प्रति जुनून था. वह सुबह पांच बजे उठकर दो-तीन घंटे रियाज करते. इसके बाद कॉलेज जाते. कॉलेज में भी जब ब्रेक के दौरान पब्लिक एड्रेस सिस्टम माइक से प्रिसिंपल का पांच मिनट का भाषण खत्म हो जाता, तो जगजीत सिंह उस पर कब्जा जमाकर गाना शुरू कर देते थे. वह 25 मिनट तक बिना इस बात की फिक्र किये कि कोई उनका गाना सुन रहा है या नहीं, गाते रहते थे.

हॉस्टल के लड़कों को भी वह राह चलते पकड़कर गाना सुनाने लगते थे. कई बार लड़के आजिज आकर कहते- ओय तूने तो पास होना नहीं, हमें तो पढ़ने दे. इस पर गुस्से में आकर जगजीत कहते- नाशुक्रो! एक दिन ऐसा आयेगा कि मेरा गाना सुनने के लिए तुम टिकट खरीदोगे. ऐसा गजब का आत्मविश्वास जगजीत में महज 20 वर्ष की उम्र में था. यह बात कुछ वर्षों में ही सही साबित हुई. जगजीत सिंह गजल किंग बन गये.

अपनी प्रतिभा को लेकर गजब का आत्मविश्वास था

जगजीत सिंह का जन्म 8 फरवरी 1941 को राजस्थान के श्री गंगानगर में हुआ था. असली नाम जगमोहन सिंह धीमन था. बचपन में अपने पिता से संगीत विरासत में मिला. गंगानगर में ही पंडित छगन लाल शर्मा के सान्निध्य में दो साल तक शास्त्रीय संगीत सीखने की शुरुआत की. आगे जाकर सैनिया घराने के उस्ताद जमाल खान साहब से ख्याल, ठुमरी और ध्रुपद की बारीकियां सीखीं. पिता की ख्वाहिश थी कि उनका बेटा भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) में जाये, लेकिन जगजीत पर गायक बनने की धुन सवार थी. कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान संगीत में उनकी दिलचस्पी देखकर कुलपति प्रोफेसर सूरजभान ने जगजीत सिंह जी को काफी उत्साहित किया. उनके ही कहने पर वह 1965 में मुंबई आ गये. यहां से संघर्ष का दौर शुरू हुआ. वह पेइंग गेस्ट के तौर पर रहा करते थे और विज्ञापनों के लिए जिंगल्स गाकर या शादी-समारोह वगैरह में गाकर रोजी-रोटी का जुगाड़ करते रहे.

इसे भी पढ़ें-लॉकडाउन की मार, मोदी सरकार ने देश में बेरोजगारी की स्थिति का पता लगाने की कवायद शुरू की

adv

छी! ये भी कोई सिंगर है, गजल तो तलत महमूद गाते हैं’

जब जगजीत सिंह चित्रा से पहली बार मिले थे, तब चित्रा सिंह उन्हें पसंद नहीं करती थीं. चित्रा सिंह पहले से ही देबू प्रसाद दत्ता से शादी कर चुकी थीं और उनकी एक बेटी मोना भी थी. चित्रा जहां मुंबई में रहती थीं, उनके सामने एक गुजराती फैमिली रहती थी. जहां जगजीत अक्सर आते और गानों की रिकॉर्डिंग करते थे. एक दिन चित्रा को सामने से आवाज सुनाई दी. जगजीत के जाने के बाद चित्रा ने पड़ोसी से पूछा, ‘क्या मामला है?’ पड़ोसी ने जगजीत की जमकर तारीफ की और जब उन्हें उनकी रिकॉर्डिंग सुनायी, तो चित्रा ने पूछा, सरदार है क्या? जवाब मिला, हां, लेकिन दाढ़ी कटवा दी है. कुछ देर बाद चित्रा ने जगजीत की गायकी सुनकर कहा, ‘छी! यह भी कोई सिंगर है. गजल तो तलत महमूद गाते हैं.’

‘छी! यह भी कोई सिंगर है...’ जगजीत सिंह के बारे में यह कहनेवाली चित्रा सिंह ने उन्हीं से कर ली थी शादी

यूं बने हमसफर

1967 में जब जगजीत और चित्रा एक ही स्टूडियो में रिकॉर्ड कर रहे थे, इसी दौरान वे मिले तो बात हुई. चित्रा बोलीं, ‘आपको मेरा ड्राइवर छोड़ देगा घर तक.’ रास्ते में चित्रा का घर आया. उन्होंने जगजीत को चाय पर बुलाया. इसी दौरान जगजीत एक गजल गाते हैं और चित्रा इसे किचन से सुन लेती हैं. जब चित्रा ने उनसे पूछा कि किसकी है, जगजीत कहते हैं, ‘मेरी है’. इसके बाद चित्रा पहली बार जगजीत से इम्प्रेस हुई.

चित्रा के पति से इजाजत लेकर की शादी

इसके बाद जगजीत और चित्रा अक्सर मिलने लगे और एक-दूसरे को पसंद करने लगे. वहीं, दूसरी ओर चित्रा और देबू ने रजामंदी से डिवोर्स ले लिया. जगजीत देबू के पास गये और कहा, ‘मैं चित्रा से शादी करना चाहता हूं.’ जब इजाजत मिली, तो शादी की घड़ी आयी. इस शादी का खर्च महज 30 रुपये आया था. तबला प्लेयर हरीश ने पुजारी का इंतजाम किया था और गजल सिंगर भूपिंदर सिंह दो माला और मिठाई लाये थे.

उनका संगीत अत्यंत मधुर है और उनकी आवाज संगीत के साथ खूबसूरती से घुल-मिल जाती है. खालिस उर्दू जाननेवालों की मिल्कियत समझी जानेवाली, नवाबों-रक्कासाओं की दुनिया में झनकती और शायरों की महफिलों में वाह-वाह की दाद पर इतराती गजलों को आम आदमी तक पहुंचाने का श्रेय अगर किसी को पहले पहल दिया जाना हो, तो जगजीत सिंह का ही नाम जुबां पर आता है. उनकी गजलों ने न सिर्फ उर्दू के कम जानकारों के बीच शेरो-शायरी की समझ में इजाफा किया, बल्कि गालिब, मीर, मजाज, जोश और फिराक जैसे शायरों से भी उनका परिचय कराया.

इसे भी पढ़ें-आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने कहा, भारतीय मुसलमान दुनिया में सर्वाधिक संतुष्ट

युवा बेटे की हादसे में मौत, चित्रा हुईं खामोश

1990 में एक ट्रेजडी ने दोनों को एकदम खामोश कर दिया. जगजीत और चित्रा के बेटे विवेक का कार हादसे में निधन हो गया. इस वजह से जगजीत सिंह छह महीने तक एकदम खामोश हो गये, जबकि चित्रा सिंह इस हादसे से कभी उबर नहीं पायीं और उन्होंने गायकी छोड़ दी. लेकिन, जगजीत ने कुछ समय बाद खुद को संभाला और इस हादसे के बाद गायी गयीं उनकी गजलों में बेटे को खो देने का दर्द साफ झलकता था.

 

जगजीत की आवाज में गहराई से उतरा दर्द

जब से उनके बेटे विवेक की सड़क दुर्घटना में मौत हुई, उसके बाद से उनकी आवाज में ऐसा दर्द पैदा हो गया कि वह सब पर भारी पड़ने लगे थे. इसलिए उन्हें किंग ऑफ गजल भी कहा जाता है.

मेरा जगजीत सिंह से लगाव

1987 से जगजीत सिंह को सुनने का चस्का लगा था. अब तो मैं उन्हें सुने बिना नहीं रह सकता. उनकी आवाज में गजब की मिठास है. उनकी आवाज में गले का उतार-चढ़ाव शायद मेहंदी हसन व गुलाम अली जैसा नहीं है, लेकिन फिर भी उनकी आवाज ऐसी है, जो सीधी दिल से निकलकर दिल तक पहुंच जाती है.

उनके सारे एलबम लाजवाब हैं. खासकर इनसर्च, इनसाइट में निदा फाजली के प्यारे दोहे. मिर्जा गालिब, फेस टू फेस. गुलजार के साथ जगजीत सिंह की जुगलबंदी लाजवाब थी. इस जोड़ी ने बहुत ही मधुर गजलें दी हैं. इन्होंने तथा पंकज उधास ने गजलों को एलीट क्लास के बंगलों से बाहर निकालकर मध्य वर्ग के छोटे घरों और फ्लैट तक पहुंचाया. जगजीत सिंह की कई गजलें फिल्मों में भी ली गयी हैं, जैसे- अर्थ और साथ-साथ तथा प्रेम गीत का होठोँ से छू लो… गीत. मेरा सौभाग्य रहा कि दो बार जगजीत सिंह का लाइव कंसर्ट सुनने का मौका मिला.

अलविदा कह गये

गजल के बादशाह कहे जानेवाले जगजीत सिंह का 10 अक्टूबर 2011 की सुबह 8 बजे मुंबई में देहांत हो गया. उन्हें ब्रेन हैमरेज होने के कारण 23 सितंबर को मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. ब्रेन हैमरेज होने के बाद जगजीत सिंह की सर्जरी की गयी, जिसके बाद से ही उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी. वह तबसे आईसीयू वार्ड में ही भर्ती थे. जिस दिन उन्हें ब्रेन हैमरेज हुआ, उस दिन वह सुप्रसिद्ध गजल गायक गुलाम अली के साथ एक शो की तैयारी कर रहे थे.

जगजीत सिंह को सन 2003 में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया. फरवरी 2014 में आपके सम्मान और स्मृति में दो डाक टिकट भी जारी किये गये.

उनकी कुछ यादगार गजलें

  • ये दौलत भी ले लो ये शोहरत भी ले लो
  • प्रेम गीत (होठों से छू लो तुम)
  • साथ-साथ (तुमको देखा तो ये)
  • अर्थ (झुकी झुकी सी नजर)
  • तेरा चेहरा कितना सुहाना लगता है
  • हम तो हैं परदेस में, देश में निकला होगा चांद
  • सुना था कि वो आयेंगे अंजुमन में
  • दोनों के दिल हैं मजबूर प्यार में
  • घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूं कर लें
  • दुश्मन (चिट्ठी न कोई संदेश)
  • साथ-साथ (प्यार मुझसे जो किया)
  • अर्थ (तुम इतना जो मुस्कुरा)
  • सरफरोश (होश वालों को खबर)
  • जॉगर्स पार्क (बड़ी नाजुक)

-नवीन शर्मा (इस लेख के लेखक)

इसे भी पढ़ें-झारखंड फिल्म फेस्टिवल: 53 देशों से 657 इंट्रीज, अवॉर्ड शो 11 को

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: