न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मेघालय हाई कोर्ट के जज सुदीप सेन ने कहा, भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाना चाहिए था

जस्टिस सेन ने कहा कि वह, आश्वस्त हैं कि सिर्फ नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली यह सरकार ही इस मामले की गंभीरता को समझेगी और जरूरी कदम उठायेगी.

50

 NewDelhi : पाकिस्तान ने खुद को इस्लामिक देश घोषित कर दिया है. भारत को भी हिंदू राष्ट्र घोषित कर दिया जाना चाहिए था, लेकिन भारत एक सेक्युलर राष्ट्र बना रहा. मेघालय हाई कोर्ट के जज जस्टिस सुदीप रंजन सेन की यह टिप्पणी सुर्खियों में है.  सोमवार को एक याचिका के निस्तापदन करते समय जस्टिस सेन ने नागरिकता के मुद्दे पर अपनी राय रखी. जानकारी के अनुसार वह मूल निवास प्रमाणपत्र दिये जाने की मांग वाली अमन राणा नाम के शख्स की याचिका पर सुनवाई कर रहे थे. इस क्रम में जस्टिस सुदीप रंजन सेन ने कहा कि किसी को भी भारत को एक और इस्लामिक राष्ट्र बनाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, यह भारत और दुनिया का अंत साबित होगा. बता दें कि जस्टिस सुदीप रंजन ने मेघालय के गवर्नर तथागत रॉय की लिखी किताब  द एग्जोडस ऑफ हिंदूज़ फ्रॉम ईस्ट पाकिस्तान ऐंड बांग्लादेश का भी जिक्र किया. जस्टिस ने असिस्टेंट सॉलिसिटर जनरल ए पॉल से कहा कि वह जजमेंट की कॉपी लें और इसे आदरणीय प्रधानमंत्री, आदरणीय गृह मंत्री और आदरणीय कानून मंत्री को सौंप दें.  ऐसा इसलिए ताकि वे हिंदुओं, सिख, जैन, बौद्ध, ईसाइयों, पारसियों, खासी, जैंतिया, गारो आदि के हितों की रक्षा के लिए कानून लाने से जुड़े जरूरी कदम उठा सकें.

विदेशी भारतीय बन जायेंगे और असली भारतीय छूट जायेंगे

जज के अनुसार इसका फायदा इन समुदायों के भारत में रह रहे लोगों के अलावा पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने का इंतजार कर रहे लोगों के साथ-साथ उनको भी मिले जो देश से बाहर रह रहे हैं.  जस्टिस सेन ने असम के नैशनल रजिस्ट्रार ऑफ सिटिजंस की अपडेशन की प्रक्रिया की खामियों का जिक्र करते हुए कहा, इससे बहुत सारे विदेशी भारतीय बन जायेंगे और असली भारतीय छूट जायेंगे जो बेहद दुखद है.  उन्होंने कहा कि केंद्र को एक कानून लाना चाहिए जिससे पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के गैर मुस्लिम और आदिवासी समुदाय के लोग बिना किसी समय सीमा के भारत में रह सकें.  इन्हें बिना किसी सवाल पूछे या दस्तावेज दिये नागरिकता मिलनी चाहिए. जस्टिस सेन ने कहा कि वह, आश्वस्त हैं कि सिर्फ नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली यह सरकार ही इस मामले की गंभीरता को समझेगी और जरूरी कदम उठायेगी.

उन्होंने यह भी कहा कि सीएम ममता बनर्जी को राष्ट्रहित में पूरी तरह मदद करनी चाहिए.  जस्टिस सेन ने कहा कि पाकिस्तान ने खुद को इस्लामिक देश घोषित कर दिया और भारत को भी हिंदू राष्ट्र घोषित कर दिया जाना चाहिए था लेकिन भारत एक सेक्युलर राष्ट्र बना रहा.

  पहले हिंदू राजाओं का शासन था, लेकिन बाद में मुगलों ने कब्जा कर लिया

61 वर्षीय जस्टिस सेन जनवरी 2014 में मेघालय हाई कोर्ट के जज बने थे.  जज ने यह भी कहा कि यहां पहले हिंदू राजाओं का शासन था, लेकिन बाद में मुगल आये और उन्होंने भारत के विभिन्न हिस्सों पर कब्जा किया और यहां शासन करना शुरू कर दिया.  उसी समय बहुत सारे धर्मांतरण जबरन किये गये. जस्टिस सेन ने कहा, मैं अपने उन मुस्लिम भाइयों और बहनों के खिलाफ नहीं हूं जो पीढ़ियों से भारत में रह रहे हैं और भारतीय कानून का पालन कर रहे हैं.  उन्हें शांति से रहने की इजाजत होनी चाहिए.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: