GiridihJharkhand

गिरिडीह में मेगा विधिक सशक्तिकरण शिविर का आयोजन

Giridih: जिला विधिक सेवा प्राधिकार और स्थानीय प्रशासन के संयुक्त तत्वाधान में रविवार को मेगा विधिक सशक्तिकरण शिविर का आयोजन किया गया. सदर प्रखंड कार्यालय परिसर में आयोजित इस शिविर का उद्घाटन प्रधान जिला एंव सत्र न्यायधीश वीणा मिश्रा और डीसी नमन प्रियेश लकडा समेत कई न्यायिक अधिकारियों ने दीप जलाकर किया. इस दौरान शिविर में समाज कल्याण विभाग, कृषि विभाग, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, लाईवलीहुड समेत कई विभागों की और से स्टॉल भी लगाए गए थे.

इसे भी पढ़ें: मांडर उपचुनावः शिल्पी के माथे मांडर का ताज, गंगोत्री को मिली निराशा

एडीजे वीणा मिश्रा ने कहा कि योजनाओं की सही और पूरी जानकारी के लिए एक-एक व्यक्ति को जागरुक होना जरुरी है. बगैर जागरुकता के कोई भी व्यक्ति योजनाओं का लाभ नहीं उठा सकता. प्रधान जिला एंव सत्र न्यायधीश ने इस दौरान यह भी कहा कि न्यायलय हर वक्त एक-एक व्यक्ति के हित की चिंता करता है. लेकिन लोगों को खुद भी जागरुक होना होगा. एक-एक व्यक्ति समाज में होने वाले अपराध के प्रति सक्रिय रहे, तो निश्चित तौर पर अपराध और अपराधियों को दंडित किया जा सकता है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इस बीच डीसी नमन प्रियेश लकडा ने कहा कि विधिक सेवा प्राधिकार और जिला प्रशासन की और से इस मेगा विधिक सशक्तिकरण शिविर का आयोजन किया गया. और इसका उद्देश्य ही लाभुकों तक योजनाओं को पहुंचाना है. डीसी ने पेंशन से जुड़े मामलों को लेकर कहा कि अक्सर फंड की कमी से पेंशन से जुड़े शिकायत लगातार आते रहते है. लेकिन अब फंड की कोई कमी नहीं है. ऐसे में प्रशासन अब डोर-टू-डोर अभियान चलाकर पेंशन से जुड़े मामलों का निष्पादन करेगा.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

इधर मेगा विधिक सशक्तिकरण शिविर में समाज कल्याण विभाग के स्टॉल में प्रधान जिला एंव सत्र न्यायधीश वीणा मिश्रा ने दो नौनिहालों का मुंहजुठी कराई. तो डीसी ने और जिला एंव सत्र न्यायधीश ने मौके पर दो महिलाओं को पीएम मातृत्व योजना का प्रमाण पत्र भी वितरण किया. जबकि लाईलीहुड के स्टॉल पर ही महिलाओं द्वारा निर्मित उत्पादन को भी देखा. शिविर में डीडीसी शशिभूषण मेहरा के अलावे कई न्यायिक अधिकारी और सदर प्रखंड के बीडिओ दिलीप महतो, अचंलाधिकारी रविभूषण प्रसाद समेत कई पदाधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें: जनजातीय मंत्रालय के कार्यक्रम का झारखंड सरकार ने किया बहिष्कार, बताया सीएम हेमंत का अपमान

Related Articles

Back to top button