JharkhandRanchi

बालू की समस्या पर की गयी बैठक, लोगों ने कहा- खनन विभाग की रोक से सरकारी योजनाएं भी रुकीं

  • बालू ढुलाई और परिवहन की समस्या पर चेंबर में की गयी बैठक

Ranchi: बालू ढुलाई और परिवहन की समस्या पर चेंबर में बैठक की गयी. इसमें चेंबर, क्रेडाई, बिल्डर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया, बालू ट्रक एसोसिएशन व बालू श्रमिक संघ के प्रतिनिधि शामिल हुए.

लोगों ने कहा कि लॉकडाउन के बाद सभी हाइवा, डंपर और 709 ट्रक के ड्राइवर व कर्मचारी काम पर लौटे. लेकिन विभाग के हालिया फैसले से वर्तमान में ये बेरोजगार हो गये हैं. बालू ढुलाई टैक्टर से किये जाने के आदेश के बाद बालू की कीमतों में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है. वहीं शहरों में निमार्ण कार्य भी ठप है.

खनन एवं भूतत्व विभाग की ओर से बालू भंडारण और ढुलाई सिर्फ टैक्टर से करने का आदेश दिया गया है जिससे समस्याएं काफी बढ़ गयी हैं. हाइवा और ट्रक से बालू ढुलाई होने पर लोगों को उचित मूल्य पर बालू मिलता था.

कारोबारियों ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि बालू की कालाबाजारी भी शुरू हो गयी है.

इसे भी पढ़ें – बड़ा बदलाव : सीबीएसई ने 9वीं से 12वीं का सिलेबस 30 फीसदी किया कम, रिवाइज्ड सिलेबस किया जारी

बालू के कारण कई योजनाएं रुकीं

चेंबर अध्यक्ष कुणाल अजमानी ने चिंता जताते हुए कहा कि बालू का उठाव बंद होने से निजी बिल्डरों के सभी प्रोजेक्ट रुक गये हैं. वहीं करोड़ों के सरकारी प्रोजेक्ट भी फंस गये हैं. सरकार को यह देखना चाहिए कि बालू की कमी से प्रधानमंत्री आवास योजना, स्मार्ट सिटी, शहर में नाली निर्माण सभी रुके हैं.

ये सिर्फ कारोबारियों की समस्या नहीं है. बल्कि इससे बड़े तबके को रोजगार भी मिलता जो वर्तमान सरकार के लिए चुनौती है. निर्माण कार्य बंद होने से लोगों में फिर से बेरोजागारी बढ़ रही है जिस पर सरकार को न्यायसंगत विचार करना चाहिए.

निर्माण कार्य से जुडे लोगों की समस्याओं के समाधान के लिये कुणाल आजमानी ने मुख्यमंत्री से मिलने की बात की.

मौके पर महासचिव धीरज तनेजा, क्रेडाई अध्यक्ष बिजय कुमार अग्रवाल, बिल्डर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के चेयरमैन रोहित अग्रवाल, बालू ट्रक एसोसिएशन के अध्यक्ष दिलीप साहू समेत अन्य लोग उपस्थित रहे.

इसे भी पढ़ें – Corona को लेकर झूठ बोलती रही मोदी सरकार, अप्रैल से ही हो रहा कम्युनिटी प्रसार, सरकारी दस्तावेज से हुआ खुलासा

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close