न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

करोड़ों खर्च के बाद भी नहीं सुधरी पीएमसीएच की चिकित्‍सा व्‍यवस्‍था

मरीजों को खरीदनी पड़ती हैं महंगी दवाईयां

41

Dhanbad: पाटलिपुत्र मेडिकल कॉलेज अस्पताल को सुपर स्पेश्यलिटी अस्पताल और अत्याधुनिक सुविधाओं से संपन्न बनाने के नाम पर करोड़ों रुपये के खर्च किये जा रहे हैं. सरकार के आला अधिकारी, स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी और मुख्यमंत्री रघुवर दास बार-बार कहते रहे हैं कि पीएमसीएच को एक ऐसा बड़ा अस्पताल बनाना है, जहां बड़ी से बड़ी बीमारी की भी इलाज संभव हो सके. राज्य के गरीब लोगों को इलाज के लिए बाहर नहीं जाना पड़े. सरकार की इन तमाम घोषणाओं के विपरीत पीएमसीएच में हालत खस्‍ताहाल है. यहां सफाई तक का कोई इंतजाम नहीं है. वहीं आये दिन चिकित्सा में लापरवाही का खामियाजा यहां के मरीज भुगत रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःCBI विवाद पर ‘सुप्रीम’ सुनवाई: दो हफ्ते में जांच पूरी करे सीवीसी, SC करेगी निगरानी

सर्दी खांसी की भी दवा नहीं

यह जानकर हैरानी होगी कि अस्पताल में सर्दी खांसी तक की दवा उपलब्ध नहीं है. गुरुवार को अस्पताल में झरिया के एक व्यक्ति को सर्दी खांसी की दवा नहीं दी गयी. बताया गया कि सर्दी खांसी की दवा उपलब्ध नहीं है. ऐसे में यहां आनेवाले मरीजों को मजबूरन दवाएं अस्पताल परिसर में स्थित दुकानों से खरीदनी पड़ती है. जहां शहर के अन्य मेडिकल शॉप की तुलना में अधिक कीमत पर दवायें मिलती हैं. मेडिकल शॉप के लोग रात दिन अस्पताल के वार्डों, आईसीओ व ऑपरेशन थियेटर के बाहर मंडराते रहते हैं. दवाओं पर अस्पतालकर्मी और डाक्टरों का कमीशन फिक्स होता है. इसी कारण यहां के डॉक्टरों की लिखी दवायें महंगी कीमत में उपलब्ध होती है. जबकि, राज्य के दूर इलाके से मरीज यहां आस लेकर आते हैं कि उनका यहां बेहतर और मुफ्त इलाज हो जायेगा. लेकिन, डॉक्टरों की लिखी कुछ दवाईयों को छोड़कर बाकी अस्पताल में उपलब्ध ही नहीं होती है. दवाएं बाहर से खरीदनी पड़ती हैं.

इसे भी पढ़ेंःसीवीसी : एन इनसाइड स्टोरी

मरीजों को करना पड़ रहा है पैसे खर्च

राज्य के कई जिलों से मुफ्त इलाज कराने की सोच कर आनेवाले मरीज और उनके परिजनों को दवाएं खरीदने में निजी अस्पताल की तुलना में कम नहीं, बल्कि कुछ ज्यादा ही खर्च करने पड़ते हैं. झरिया के एक मरीज वी पाण्डेय ने बताया कि उन्‍हें सर्दी-खांसी के साथ बुखार है. डॉक्टर ने जांच के बाद दवा लिखी और एमपी जांच करवाने की सलाह दी. लेकिन, जब मरीज दवा लेने गये तो उनको वहां सिर्फ बुखार की दवाई ही मिली. दवा काऊंटर पर पूछने पर कहा गया कि बाकी की दवाएं यहां उपलब्ध नहीं हैं. बाहर के मेडिकल स्‍टोर से खरीद लें. एमपी जांच के लिए जाने पर भी उनसे 120 रुपये मांगी गयी. पूछने पर बताया गया कि केवल बीपीएल और राशन कार्ड वालों की ही मुफ्त में जांच होती है. नौबत यह है कि रोज बिगड़ती सेवा से इस अस्पताल की रेपुटेशन करोड़ों खर्च के बाद भी लगातार गिर रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: