न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड मुद्दे पर जवाब से मुकरे आजाद और कहा मोदी सरकार के दबाव में मीडिया

वहीं अगर गत चार सालों से मोदी सरकार की स्थिति को देखे तो, उसने हमेशा ही मीडिया को दबाने का ही काम किया है.

343

Ranchi : झारखंड दौरे पर आए राज्यसभा में प्रतिपक्ष नेता व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद शुक्रवार को मोदी सरकार पर जमकर बरसे. उन्होंने यूपीए सरकार के समय देशहित में किए राफेल लड़ाकू विमान समझौते को मोदी सरकार पर रद्द करने और अपने नए समझौते से देश के सुरक्षा के साथ खेलवाड़ करने का आरोप लगाया. वहीं पीएम मोदी पर हिटलर जैसे तानाशाही रवैये की तरह ही मीडिया को दबाने की भी बात कही. आजाद ने मीडिया को मोदी सरकार पर दबाव में काम करने की बात कर कहा जो मीडिया ऐसा नहीं करती, उस पर केस करने से भी मोदी सरकार पीछे नहीं हटती. हालांकि अपनी इस प्रेस वार्ता के दौरान नेता प्रतिपक्ष आजाद ने झारखंड के तमाम मुद्दों पर जवाब देना भी उचित नहीं समझा. जब पत्रकारों ने उनसे राज्य की स्थिति पर सवाल खड़ा करना चाहा, तो उन्होंने यह कहकर खुद को बचाना चाहा कि वे अभी केवल राफेल लड़ाकू विमान समझौते पर ही बोलने राज्य दौरे पर आये है.

इसे भी पढ़ें : मोमेंटम झारखंड का सच-03: 6400 करोड़ का एमओयू ऐसी कंपनी के साथ जिसका कहीं नामोनिशान नहीं

हिटलरशाही की तरह मीडिया को दबा रही है मोदी सरकार

राज्यसभा के नेता प्रतिपक्ष गुलाम नवी आजाद ने अपने प्रेसवार्ता के दौरान मोदी सरकार पर हिटलरशाही रवैये की तरह ही मीडिया को दबाने का आरोप लगाया. मीडिया की उपयोगिता की सबसे पहले चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान में देश के समक्ष कई ज्वलनशील मुद्दे है, जिसे देश के समक्ष लाने का काम मीडिया करती है. इसमें देश का विकास होने या नहीं होने, सरकार के अच्छे या बूरे काम को जनता के समक्ष लाना प्रमुख है. वहीं अगर गत चार सालों से मोदी सरकार की स्थिति को देखे तो, उसने हमेशा ही मीडिया को दबाने का ही काम किया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के सत्ता में रहने के दौरान उन्हें कभी भी ऐसा नहीं देखने को मिला कि प्रधानमंत्री या कांग्रेस के किसी आला नेता ने कहा हो कि मीडिया या तो सरकार के समर्थन में खबर लिखे या विपक्ष की खबर को अपने पेज में प्रमुखता दें. दरअसल कांग्रेस ने हमेशा मीडिया की स्वतंत्रता को बरकरार रखा है. वहीं मोदी कार्यकाल में तो दुर्भाग्यवश आज मीडिया या देश का कोई भी व्यक्ति स्वतंत्र नहीं है. आज अगर मीडिया को कुछ लिखना भी होता है, तो उसे मोदी सरकार या भाजपा के नेता से पूछना जरूरी होता है. अगर कोई इसके विपरित जाता है, उसके उपर या तो केस कर दिया जाता है, या उसे उस मीडिया घराने से बाहर करने की साजिश रची जाती है. ऐसा कर पीएम मोदी हिटलर की तरह ही देश में तानाशाही जैसा काम कर रहे है, जिससे पूरा देश परेशान है.

इसे भी पढ़ें : मोमेंटम झारखंड का सचः एक माह पुरानी, एक लाख की कंपनी से सरकार ने किया 1500 करोड़ का करार

राफेल डील अब तक का सबसे बड़ा घोटला, देश को दिया आर्थिक नुकसान

palamu_12

राफेल डील को अबतक का सबसे बड़ा घोटाला बताते हुए नेता प्रतिपक्ष आजाद ने कहा कि पीएम मोदी ने ऐसा कर देश की सुरक्षा से बड़ा खेलवाड़ किया है. वह भी तब, जब पड़ोसी देश पाकिस्तान परमाणु बम से मजबूत होते जा रहा है. चीन आज भारत को आर्थिक, सैन्य तरीके से चुनौती दे रहा है. राफेल लड़ाकू विमान समझौता को कांग्रेस की बड़ी उपलब्धि बताते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने ऐसा समझौता देश के हित के लिए किया था. देश की सुरक्षा को देखते हुए ही कांग्रेस ने 126 लड़ाकू विमान खरीदने का समझौता किया था. उस समय एक विमान की कीमत करीब 526 करोड़ रुपये थी. इसमें 18 विमान बने बनाए देश के अंदर आने थे. वहीं 108 विमान देश में ही बनाए जाने थे. वर्ष 2014 में जब मोदी सरकार सत्ता में आयी, तो सबसे पहले उसने 126 विमान समझौता को रद्द कर फ्रांस से 36 विमान खरीदने का समझौता कर दिया. नए समझौते के तहत मोदी सरकार ने एक विमान का मूल्य 526 करोड़ की जगह 1670 करोड़ रुपये कर दिया. ऐसे में मोदी सरकार ने जहां देश की सुरक्षा से समझौता कर विमानों की संख्या को कम कर दिया, वहीं एक विमान की कीमत 1100 करोड़ से ज्यादा कर देश को आर्थिक नुकसान दिया.

इसे भी पढ़ें : मोमेंटम झारखंड का सच- 2: तीन कंपनियों की कुल पूंजी तीन लाख, एमओयू 2800 करोड़ का

झारखंड के मुद्दे से बचते ही दिखे प्रतिपक्ष के नेता

वहीं राज्यसभा में प्रतिपक्ष नेता आजाद पत्रकारों द्वारा झारखंड के मुद्दे पर पूछे गए सवालों से भी बचते दिखे. जब पत्रकारों ने उनसे राज्य की स्थिति, रघुवर शासन पर सवाल किया, तो उन्होंने यह कहकर जवाब नहीं दिया कि वे झारखंड के दौरे पर राफेल लड़ाकू विमान समझौते पर ही बात करने आये है. हालांकि मीडिया के लोगों ने नेता प्रतिपक्ष के इस बयान पर आपत्ति भी जतायी. इसके बावजूद नेता प्रतिपक्ष यह कहकर सवाल को दरकिनार कर गये कि आगामी अक्टूबर माह में वे राज्य दौरे पर आएगें, तो उस समय मीडिया के साथ भोजन कर उनके सवाल का जवाब देंगे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: