न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

लोकतंत्र की रक्षा के लिए मीडिया और जज सतर्क रहें : जस्टिस कुरियन जोसेफ

SC से गुरुवार को रिटायर हुए जस्टिस जोसेफ ने अपने विदाई समारोह में कहा कि यह बहुत विविधता वाला देश है.   यहां की संस्कृति, धर्म, भाषा में विविधता है.  देश संविधान से बंधा हुआ है.

37

NewDelhi : महत्वपूर्ण सामाजिक-राजनीतिक मसलों पर निर्णय करते समय जज देश की विविधता को ध्यान में रखें. यह विचार SC के जस्टिस कुरियन जोसेफ ने अपने विदाई समारोह में व्यक्त किये.  SC से गुरुवार को रिटायर हुए जस्टिस जोसेफ ने अपने विदाई समारोह में कहा कि यह बहुत विविधता वाला देश है.   यहां की संस्कृति, धर्म, भाषा में विविधता है.  देश संविधान से बंधा हुआ है.  संविधान ही हम सबको एकजुट रखता है. इस क्रम में जस्टिस जोसेफ ने कहा, कानून के जानकार की चुप्पी अनपढ़ की हिंसा के मुकाबले ज्यादा नुकसान कर सकती है.  कानून के प्रति  संवेदनशील रुख रखने वाले, बार और बेंच के बीच लोकप्रिय रहे जस्टिस जोसेफ ने कहा कि लोकतंत्र की रक्षा के लिए मीडिया और जजों को सतर्क रहना चाहिए.  कहा कि मीडिया और अदालतें लोकतंत्र के प्रहरी हैं.

eidbanner

बता दें कि जस्टिस जोसेफ उन चार जजों में शामिल थे, जिन्होंने जज लोया केस सहित संवेदनशील मामलों को पिछले सीजेआई दीपक मिश्रा के कार्यकाल के दौरान जजों को आवंटित करने के तौरतरीकों के विरोध में प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी.  उनका साथ  जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस जे चेलामेश्वर और जस्टिस मदन बी लोकुर ने दिया था. जस्टिस गोगोई अब देश के सीजेआई हैं. याद करें कि जस्टिस जोसेफ ने उस समय भी ऐतराज जताया था, जब उन्हें लगा कि सरकार गुड फ्राइडे को वर्किंग डे घोषित कर अल्पसंख्यकों की उपेक्षा कर रही है.  उन्होंने पीएम और तत्कालीन चीफ जस्टिस को इस मुद्दे पर पत्र लिखा था.

न्यायपालिका का आभामंडल घट रहा है

Related Posts

ओम बिड़ला होंगे लोकसभा के नये स्पीकर, आज कर सकते हैं नामांकन

राजस्थान के कोटा से बीजेपी सांसद हैं ओम बिड़ला

जस्टिस कुरियन जोसेफ के विदाई समारोह में चीफ जस्टिस गोगोई ने आशंका जतायी कि युवा वकील जज नहीं बनना चाहते. कहा कि इसकी एक वजह यह हो सकती है कि न्यायपालिका का आभामंडल घट रहा है.  उन्होंने कहा कि जस्टिस जोसेफ जैसे अच्छे जज जा रहे हैं. और ज्यादा जज लाये जाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का कलीजियम दिन-रात काम कर रहा है. जस्टिस गोगोई ने कहा कि हायर जूडिशरी के आभामंडल के कारण ही बार के प्रतिभाशाली लोग इसकी ओर आकर्षित होते थे और वे कड़ी मेहनत करने वाले वकील होते थे, जो पैसे के मामले में त्याग करते थे. चीफ जस्टिस गोगोई ने कहा कि जजों की कड़ी मेहनत और प्रतिबद्धता की समझ पैदा कर यह आभामंडल बहाल करने में बार मदद कर सकता है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: