JharkhandLead NewsRanchi

बाल सुरक्षा को लेकर मीडिया को भी संवेदनशील बनाने की जरूरतः संजय मिश्रा

Ranchi: प्रेस क्लब रांची के अध्यक्ष संजय कुमार मिश्र ने कहा कि बाल सुरक्षा को लेकर मीडिया को भी संवेदनशील बनाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि आज जिस तरह बच्चों पर शोषण हो रहे हैं उसे कम करने के लिए और लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए मीडिया की अहम भूमिका है परंतु आज की मीडिया बच्चों की सुरक्षा पर कम और अपने मार्केटिंग पर ज्यादा कार्य कर रहा है. इससे बचने की जरूरत है वह कभी भी यह नहीं सोच रहे हैं कि इससे बच्चों की मानसिक स्थिति पर क्या प्रभाव पड़ रहा है सिर्फ अपनी टीआरपी के लिए कार्य करने की ओर अग्रसर हैं. ऐसी परिस्थिति में मीडिया के बंधुओं को भी संवेदनशील करने की आवश्यकता निहायत ही जरूरी है.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :  नौकरी वापसी के लिए पोषण सखी का संघर्ष होगा तेज : सीटू

MDLM

श्री मिश्रा शनिवार को प्रेस क्लब रांची में आयोजित एक दिवसीय संवेदनशील उन्मुखीकरण कार्यशाला को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे. यह कार्यशाला बाल कल्याण संघ एक्विजिशन एवं 86 झारखंड चैप्टर के द्वारा आयोजित किया गया था. कार्य़शाला का विषय पर्यटन स्थल में बच्चों की सुरक्षा एवं संरक्षण था. श्री मिश्र ने समाज के विकास में मीडिया की अहम भूमिका है बच्चों की भविष्य भी उनके कारण सुरक्षित होने की संभावना को देखते हुए उन्हें समय-समय पर संवेदनशील करने की आवश्यकता पर बल दिया गया.

श्री मिश्र ने कहा कि पर्यटन स्थल में बच्चों की हो रहे शोषण पर काफी दिनों से कार्य किया जा रहा है परंतु झारखंड में पहला अवसर है जब राज्य स्तर पर कार्यक्रम आयोजित कर इस विषय पर चर्चा हो रही है. हमें बच्चों की शोषण को रोकने के लिए हरहाल में पर्यटन स्थल को बाल शोषण मुक्त करने की आवश्यकता है. इस पर सभी जिले के हितधारक को एक साथ मिलकर कार्य करें ताकि बच्चों का शोषण को कम किया जा सके.

इसे भी पढ़ें :  Chaibasa : तीन माह पहले हुआ था प्रेम विवाह, माइके जाने को लेकर पति से हुए विवाद में पत्नी ने खुद को लगाई आग, हालत गंभीर

संवाददाताओं ने कहा कि विगत कुछ वर्षों से जलवायु में काफी तेज गति से परिवर्तन हुआ है, जिसके कारण समाज में रहने वाले बच्चों को कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. जैसे अधिक धूप पड़ना, साइक्लोन आना, समय पर बारिश नहीं होना, जंगल में आग लगना आदि बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है यह सभी जलवायु परिवर्तन के कारण नहीं हो रहा है ऐसी परिस्थिति में हम सभी को बच्चों को शोषण मुक्त करने के लिए एक साथ मिलकर कार्य करने की जरूरत है. इस विषय पर विभिन्न वक्ताओं ने अपनी बातों को प्रमुखता के साथ रखा.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बाल कल्याण संघ के उपाध्यक्ष अभिजीत घोष ने कहा कि माइनिंग चित्र बच्चों पर हो रहे शोषण को रोकने के लिए मैं काफी वर्षो से कार्य कर रहा हूं. हमने माइनिंग क्षेत्र को एक मॉडल भी बनाया है. जिसे देखने की जरूरत है. बच्चे हमारे भविष्य के निर्माता है और उनकी सुरक्षा करना हम सभी की जवाबदेही है. कार्यक्रम में झारखंड के कई जिलों के गैर सरकारी संस्था में सरकार के प्रतिनिधियों ने भाग लिया. जलवायु परिवर्तन से हो रहे बच्चों पर शोषण को रोकने में उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगों को अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया. कार्यक्रम में पूर्वी सिंहभूम पाकुड़ दुमका रांची धनबाद के कई गणमान्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : हाईकोर्ट अधिवक्ता ने प्रेम प्रकाश को गैर कानूनी तरीके से मिलें बॉडीगॉर्ड पर उठाया सवाल, लिखा ईडी को पत्र

Related Articles

Back to top button