न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद मेयर ने एकलव्य सिंह को दी 98 लाख की सौगात, आखिर क्यों ?

1,861

Dhanbad : कभी धनबाद नगर निगम में मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल और डिप्टी मेयर एकलव्य सिंह के बीच ऐसी जबरदस्त लड़ाई थी कि, पुलिस बुलानी पड़ती थी. फिर कुछ बात ऐसी हुई कि घर आना-जाना शुरू हो गया. झरिया के भाजपा विधायक संजीव सिंह के खिलाफ खुलकर मोर्चे पर पहले डिप्टी मेयर एकलव्य सिंह के बड़े भाई स्‍व. मेयर नीरज सिंह आये. उनके खिलाफ झरिया विधानसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़े. दुश्मनी बढ़ती ही गयी. पहले संजीव सिंह के करीबी रंजय सिंह की हत्या हुई. इसके बाद नीरज सिंह समेत 4 लोगों की हत्या की गयी. नीरज हत्याकांड में संजीव सिंह अभी धनबाद जेल में बंद हैं. दूसरी तरफ रंजय हत्याकांड को लेकर रघुकुल राहत की सांस ले रहा है. ऐसे मौके पर मेयर की एकलव्य सिंह पर मेहरबानी कुछ अलग सकेंत दे रहा है.

कमल कटेसरिया स्कूल के पीछे क्या है

10 दिसंबर को अखबार में इश्तहार के माध्यम से बताया गया है कि धनबाद म्यूनिसिपल कार्पोरेशन की ओर से कमल कटेसरिया स्कूल के पीछे पथ का निर्माण 98, 25,000 के लागत से किया जायेगा. तीन महीने में कार्य समाप्त करने की अवधि निर्धारित की गयी है. इसके इ-टेंडर की अंतिम तारिख 26 /12/ 2018 रखी गयी है. इस पथ की शुरूआत माडा कॉलोनी, भेलाटांड राज टावर के पास से होगी.

इस अपार्टमेंट के किसी ने बताया कि इसके मालिक हरिंद्र सिंह और सेक्रेटरी हर्षेश्वर सिंह हैं. इस पथ के दोनों ओर निजी आवास बने हुए हैं. साथ ही कई भवन निर्माणाधीन भी हैं. यह रास्ता एक मुहल्ले की गली की तरह है, जहां वर्तमान में कच्चा रास्ता है. आसपास के कई घरों का पानी इस रास्ते पर कई जगह जमा हुआ है. इसके दोनों तरफ राज टॉवर से लेकर प्राइम गैस एजेंसी तक लगभग एक किलोमीटर की दूरी में 35 के लगभग घर हैं. अंदर की ओर भी कुछ घर हैं, दो अपार्टमेंट है. जबकि प्राइम एजेंसी के पास एक निर्माणाधीन अपार्टमेंट भी है. इसके आगे ही एचपी गैस भी स्थित है.

यह क्षेत्र वार्ड नं-22 में पड़ता है और इसके पार्षद डिप्टी मेयर एकलव्य सिंह ही हैं. यहां इतनी बड़ी राशि की सड़क का तोहफा दिया गया है. जबकि शहर के बीच का बहुत सारा इलाका ऐसा है जहां ढ़ंग की नाली और सड़क भी नहीं है. इसके लिए लोग तरस रहे हैं. लेकिन मुख्य शहर से काफी दूर कमल कटेसरिया के पास इतनी बड़ी राशि की योजना, यह अंतिम जन के विकास की नयी परिभाषा है!

इसे भी पढ़ेंः ‘लूट सके तो लूट’ वाले फॉर्मूले पर सरकारी शराब दुकान, उत्पाद विभाग के सारे नियम ताक पर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: