Lead NewsNational

मायावती ने तोड़ी चुप्पी, कर डाला बड़ा एलान! अब किस रास्ते पर चलेगा हाथी, जानिए

Uday Chandra

New Delhi : आखिर उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपनी राजनीतिक चुप्पी तोड़ दी है. अपने 65वें जन्मदिन पर उन्होंने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में अकेले चुनाव लड़ने का एलान कर सबको चौंका दिया. मायावती का मानना है कि हमें गठबंधन से नुकसान होता है. उन्होंने दावा किया है कि आगामी चुनाव में बहुजन समाज पार्टी की जीत तय है.

इससे पहले अटकलें लगाई जा रही थी कि मायावती सपा के साथ हाथ मिला सकती है. हालांकि सपा पहले हीं गठबंधन नहीं करने का एलान कर चुकी है. समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एलान किया था कि वह यूपी में 2022 में होने विधानसभा चुनाव के दौरान किसी भी बड़ी पार्टी से गठबंधन नहीं करेंगे.

हालांकि, अखिलेश ने कहा था कि वह छोटे दलों के साथ गठबंधन करेंगे. ऐसे में माना जा रहा था कि उन्होंने इशारों में बसपा के साथ गठबंधन का रास्ता खुला रखा है, लेकिन मायावती के आज के एलान के बाद अब दोनों दल अलग अलग रास्ते पर चलते दिख रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा ने हाथ मिलाया था. 2014 के चुनाव में एक भी सीट नहीं जीतने वाली बसपा ने तब 10 सीटों पर जीत दर्ज की थी, वहीं, सपा 2014 की ही तरह 2019 में भी 5 सीट पर सिमट कर रह गई थी.
मायावती ने केंद्र सरकार के टीकाकरण अभियान का स्वागत करते हुए हुए देश भर में सभी को मुफ्त में वैक्सीन प्रदान करने की मांग की. मायावती ने कहा कि अगर केंद्र और उत्तर प्रदेश की वर्तमान भाजपा सरकार यहां के आम लोगों को ये (कोरोना टीकाकरण) सुविधा मुफ़्त में नहीं देती तो इस बार यहां BSP की सरकार बनने पर ये सुविधा मुफ़्त में दी जाएगी. उन्होंने किसानों की मांगों को जायज बताते हुए केंद्र सरकार से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलनरत किसानों की मांगों को मानने की अपील भी की.

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी अकेले अपने बलबूते पर चुनाव लड़ेगी और अपनी सरकार बनाएगी.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: