न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

मायावती ने पीएम मोदी से पूछा, स्विस बैंकों में जमा धन में वृद्धि का श्रेय लेना पसंद करेंगे?

232

Lucknow : स्विस बैंकों में जमा धन में 50 प्रतिशत से ज्यादा की वृद्धि को लेकर प्रधानमंत्री मोदी विपक्ष  के निशाने पर हैं.  इस कतार में बसपा अध्यक्ष मायावती भी जुड़ गयी  हैं.  मायावती  ने रविवार को मोदी  पर हमलावर होते  हुए कहा कि कालेधन पर तमाम वादे करने वाले पीएम मोदी क्या इस नाकामी का श्रेय लेना पसंद नहीं करेंगे?  इस क्रम में  मायावती ने यहां आरोप लगाते हुए पूछा कि भाजपा के चहेते भारतीय पूंजीपतियों के स्विस बैंक में जमा धन में 50 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, तो क्या इसका श्रेय भाजपा एंड  कंपनी  तथा प्रधानमंत्री मोदी लेना पसंद नहीं करेंगे? कहा कि वैसे देशहित का मूल प्रश्न यह है कि भारत में कमाया गया धन विदेशी बैंकों में क्यों जमा है? उन्होंने कहा कि क्या मोदी सरकार यह अपराध स्वीकार करने को तैयार है कि विदेशी बैकों में जमा देश का कालाधन वापस लाकर उसे देश के प्रत्येक गरीब परिवार के हर सदस्य को 15 से 20 लाख रुपये देने के उसके चुनावी वायदे पूरी तरह से छलावा साबित हुए  हैं.

eidbanner

इसे भी पढ़ें- उत्तराखंड में खाई में गिरी बस, 47 की मौत, कई घायल

मेहनतकश जनता चुनावों में मोदी सरकार-आरएसएस से सवाल का जवाब जरूर चाहेगी 

मायावती  ने कहा कि देश की गरीब और मेहनतकश जनता आने वाले सभी चुनावों में मोदी सरकार और आरएसएस से इस सवाल का जवाब जरूर चाहेगी कि भाजपा सरकार की नीतियों से अमीर लोग और ज्यादा अमीर तथा गरीब और ज्यादा गरीब क्यों होते जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि मीडिया का कहना है कि स्विस नेशनल बैंक के ताजा आंकड़ों से हुए रहस्योद्घाटन ने कालाधन पर अंकुश लगाने के मोदी सरकार के दावों की पोल खोल दी है. अब सवाल यह है कि भारतीय धन्नासेठों के धन में इतनी वृद्धि कैसे हुई है और इस सम्बन्ध में केन्द्र सरकार की नीयत, उनकी नीति तथा बड़े-बड़े दावों का क्या हुआ?  क्या इसीलिए भाजपा की केन्द्र तथा राज्य सरकारें निजी क्षेत्र को अंधाधुंध बढ़ावा दे रही हैं, जहां दलितों और पिछड़ों की हमेशा से उपेक्षा होती आयी है. मायावती ने कहा कि भारतीय रुपये का लगातार अवमूल्यन क्यों हो रहा है तथा भारतीय पासपोर्ट की अहमियत ख़ासकर अमेरिका में लगातार क्यों कम होती जा रही है,  सरकार को इस बात का भी जवाब जनता को अवश्‍य देना चाहिए.

इसे भी पढ़ें- रघुवर सरकार के चार साल में छह विस सीटों पर हुए उपचुनाव, अगला उपचुनाव कोलेबिरा सीट के लिए लगभग तय

Related Posts

UN की  रिपोर्ट : हिंसा, युद्ध के कारण दुनियाभर में सात करोड़ से ज्यादा लोग विस्थापन के शिकार हुए

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी की सालाना ग्लोबल ट्रेंड्स रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर में हिंसा, युद्ध और उत्पीड़न के कारण लगभग 7.1 करोड़ लोग अपने घरों से विस्थापित हुए हैं.

 अहंकारी भाजपा के खिलाफ विपक्षी पार्टियों का एकजुट होना जनहित का काम 

बता दें  कि बसपा प्रमुख ने विपक्षी दलों की एकजुटता पर प्रधानमंत्री मोदी के सवालिया निशान लगाये जाने पर  कहा कि घोर जातिवादी, जनविरोधी और अहंकारी भाजपा सरकारों के खिलाफ विपक्षी पार्टियों का एकजुट होना जनहित का बड़़ा काम है. इससे भाजपा का परेशान होना   लाजिमी है. मायावती ने अमेरिका का जिक्र करते हुए कहा कि इस देश के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा अमेरिका फर्स्ट की नीति अपनाये जाने के कारण वहां भारतीय मूल के लोगों का शोषण तथा गिरफ्तारी जैसी घटनाएं शुरु हो गयी हैं. इन घटनाक्रमों पर केन्द्र सरकार की खामोशी उसकी विफलता और कमजोरी को ही साबित करती है. उन्होंने मांग की कि मोदी सरकार अमेरिका में भारतीय पासपोर्ट धारकों के हित तथा सुरक्षा की गारंटी लेकर इस संबंध में तत्काल कदम उठाये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: