न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मैट्रिक परीक्षा :  बोकारो का परिणाम रहा 68.77 प्रतिशत,  जिले में प्रथम रही जियाफा आफरीन

जैक की ओर से जारी मैट्रिक के परीक्षा परिणाम में बोकारो जिले की छात्राओं का दबदबा रहा, परीक्षा में इस बार 30,354 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया था, जिसमें 20,664 को सफलता मिल सकी.

1,157

Bokaro : जैक की ओर से जारी मैट्रिक के परीक्षा परिणाम में बोकारो जिले की छात्राओं का दबदबा रहा. इस बार जिले का परीक्षा परिणाम 68.77 प्रतिशत रहा. परीक्षा में इस बार 30,354 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया था, जिसमें 20,664 को ही सफलता मिल सकी. जिनमें प्रथम स्थान 5,470 छात्राओं ने प्राप्त किया, जबकि  5,273 छात्र भी प्रथम रहे. द्वितीय स्थान में भी 4,529 छात्रा और 4,422 छात्र रहे जबकि तृतीय स्थान में 489 छात्र और 481 छात्रा रहे. बोकारो स्टील प्लांट के उत्तरी विस्थापित क्षेत्र के पिपराटांड गांव की रहने वाली जियाफा आफरीन ने प्रथम स्थान लाकर पूरे राज्य में बोकारो का मान बढ़ाया है. जियाफा बोकारो जिले के कस्तुरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय चास में पढ़ाई करती थी, जिले में इस बार रहे टाप टेन के रैंक मे जियाफा अव्वल रही. जिसे 95.20 प्रतिशत अंक मिला है,

जबकि दूसरे स्थान पर हाई स्कूल चंदनकियारी के  राहुल कुमार शर्मा को 94 प्रतिशत, तीसरे स्थान पर हाई स्कूल  बरमसिया चंदनकियारी के अंतरा कुमारी को 93.60 प्रतिशत, चौथे स्थान पर हाई स्कूल चंदनकियारी के विकास स्वर्णकार को 93.40 प्रतिशत, पांचवे स्थान पर उत्क्रमित उच्च विद्यालय सोनाबाद चास के सुखेदव महतो को 93.40 प्रतिशत, छठे स्थान पर कार्मेल स्कूल बोकारो थर्मल के गौरव कुमार को 93.40 प्रतिशत, सातवें स्थान पर इसी स्कूल की खुशी कुमारी को 93.40 प्रतिशत, आठवें स्थान पर बिरसा सरस्वती विद्या मंदिर चंद्रपुरा के पियूष कुमार को 93.20 प्रतिशत, नौवें स्थान पर पहलू हाई स्कूल रानीपोखर चास के विशाल कुमार को 93 प्रतिशत और दसवें स्थान पर  सरस्वती विद्या मंदिर चंद्रपुरा के विशाल कुमार 92.80 प्रतिशत पाकर रहें.

इसे भी पढ़ें – मैट्रिक रिजल्ट जारी : 99.2 प्रतिशत अंक के साथ रांची चुटिया की छात्रा ने किया टॉप

जियाफा के पिता टाईल्स मिस्त्री हैं

SMILE

जिले में टाप वन स्थान पाने वाली जियाफा के घर जैसे आज ही ईद की खुशियां रमजान के महीने में पहुच गई. रमजान के महीने में उनके घर ऐसी खुशी है कि हर कोई फूले नहीं समा रहे है. दोपहर बाद जब रिजल्ट जैक ने जारी किया और जैसे ही लोगों को यह पता चला कि उत्तरी विस्थापित क्षेत्र का मान जियाफा ने बढ़ाया है, हर कोई उसके घर आ कर बधाई देने लगा. जिस वक्त रिजल्ट आया, उसके पिता खुर्शीद जमाल घर पर नही थे, वे कहीं काम पर गये हुए थे. लेकिन जब उन्हें जियाफा की मां मुंनेजा बेगम से इसकी जानकारी मिली, तो वे काम छोड़कर पहले बेटी का हौसला बढ़ाने आ गये. जियाफा ने उत्तरी विस्थापित पिपराटांड का नाम पूरे बोकारो जिले मे रौशन किया है, जिस कारण उसके घर में आस-पास के गांवों के लोगों का तांता लग गया.

इसे भी पढ़ें – मोदी जी! गोड्डा आ कर देख लें, किस तरह आदिवासियों की जमीन छीनी जा रही है, पांच साल में किसी का विकास हुआ है तो वह अडाणी-अंबानी काः बाबूलाल मरांडी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: