न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छत्तरपुर में नाबालिग जोड़े की शादी मामला : नपं अध्यक्ष-उपाध्यक्ष पर एफआइआर, चौकीदार दोषमुक्त क्यों ?

225

Palamu : पलामू जिले के छत्तरपुर थाना क्षेत्र में दलित नाबालिगों की शादी का वीडियो वायरल होने के बाद शादी में शामिल नगर पंचायत अध्यक्ष मोहन जायसवाल, उपाध्यक्ष बुल बाबा सहित छह लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है. नाबालिग प्रेमी जोड़े कुछ दिन पहले घर से भाग गए थे. उन्हें किसी तरह घर वापस बुलाया गया और उनकी शादी करायी गयी, लेकिन इस पूरे घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले सड़मा के चौकीदार राकेश पासवान पर अब तक किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गयी.

इसे भी पढ़ेंः मारवाड़ी कॉलेज में डिजिटल इंडिया हुआ फेल, ऑफलाइन लिया जा रहा है छात्रों का परीक्षा फॉर्म

पूरी जानकारी थी चौकीदार को 

चौकीदार को लड़का-लड़की के भागने, पंचायत में निर्णय लेने और शादी कराने की पूरी जानकारी थी, लेकिन चौकीदार ने नाबालिग की शादी की जानकारी छत्तरपुर थाना को नहीं दी. चौकीदार अगर चाहता तो शादी नहीं होती और विवाह में शामिल अतिथि सहित अन्य लोग वहां नहीं पहुंचते, लेकिन एकतरफा कार्रवाई कर छत्तरपुर प्रशासन ने चौकीदार को बेदाग साबित कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंः नाबालिग दे रहे हैं लूट, हत्या, दुष्कर्म जैसी घटनाओं को अंजाम, तीन सालों में बढ़े बाल कैदी

छत्तरपुर प्रशासन का क्या है कहना ?

छत्तरपुर के अनुमंडल पदाधिकारी भोगेंद्र ठाकुर ने बताया कि चाइल्ड मैरेज प्रोटेक्शन एक्ट के तहत बीडीओ ने शिकायत दर्ज करायी है. इसमें बीडीओ ही पहली शिकायत दर्ज करा सकते हैं. उन्होंने कहा कि वीडियो वायरल होने के बाद उपायुक्त डॉ शांतनु अग्रहरि ने तत्काल संज्ञान लिया और कार्रवाई का निर्देश दिया. उन्होंने बताया कि हिंदू मैरेज एक्ट के अनुसार शादी के लिए लड़का को 21 वर्ष, जबकि लड़की को 18 वर्ष या उससे ऊपर का होना जरूरी है, लेकिन प्रेमी जोड़े में लड़के की उम्र 18 वर्ष थी, जबकि लड़की 16 वर्ष की थी.

इसे भी पढ़ेंःमहाधिवक्ता अजित कुमार ने काले सरदार के भाई की जमीन की जमाबंदी रद्द कराने के लिए सरकार को दी गलत…

अनुसंधान के बाद होगी गिरफ्तारी : एसडीपीओ

इधर, एसडीपीओ शंभु कुमार सिंह ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के गाइड लाइन के अनुसार इस तरह के मामलों में पहले ठोस अनुसंधान करना है. अनुसंधान होने के बाद मामले के आरोपियों पर कार्रवाई की जानी है. मामले में जितने भी आरोपी बनाए गए हैं, उनकी भूमिका की जांच की जा रही है. यह पूछे जाने पर कि शादी और आवेदन में संबंधित क्षेत्र के चौकीदार का नाम और हस्ताक्षर है. उसपर कार्रवाई क्यों नहीं हुई, इस पर उन्होंने कहा कि चौकीदार की मौजूदगी की जांच की जा रही है.

इसे भी पढ़ेंः तनवीर अख्तर और श्वेताभ कुमार बनेंगे मुख्य अभियंता

फंसाने की रची जा रही साजिश : नपं अध्यक्ष

इधर, नगर पंचायत अध्यक्ष मोहन जायसवाल ने दर्ज प्राथमिकी को साजिश करार दिया है. अध्यक्ष के अलावा उपाध्यक्ष बुल बाबा ने संयुक्त रूप से कहा कि उनके फंसाने की साजिश रची जा रही है. वे जनप्रतिनिधि हैं, उनके क्षेत्र में समाजिक सरोकार से जुड़े कार्य होते रहते हैं, ऐसे में उनका वहां आना-जाना लगा रहता है. जहां तक बात नाबालिग जोड़े की शादी की है तो जब वे शादी में पहुंचे थे, तबतक शादी हो चुकी थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: